इन 7 बैंक में है आपका अकाउंट तो आज ही बदल लें चेक बुक और पासबुक

वर्तमान में देश के 7 बैंक का विलय हो चुका है. अगर आपका अकाउंट भी इन्हीं 7 बैंक में से किसी एक बैंक में है तो आपको अपनी पासबुक और चेकबुक बदलने (cheque book request) की जरूरत रहेगी.

वर्तमान समय में देश की कई सारी बैंक में कई तरह के बदलाव हो रहे हैं. कुछ सालों पहले बैंक को विलय करने की बात सामने आई थी. तभी से इन्हें विलय करने पर काम किया जा रहा था जो अब पूरा हो चुका है। देश के कई सारे बैंक को बड़ी बैंकों में मिला दिया गया है. इस बात का सीधा असर इनके ग्राहकों पर भी होगा. वर्तमान में देश के 7 बैंक का विलय हो चुका है. अगर आपका अकाउंट भी इन्हीं 7 बैंक में से किसी एक बैंक में है तो आपको अपनी पासबुक और चेकबुक बदलने (cheque book request) की जरूरत रहेगी.

किन बैंक का विलय हुआ है? (Which bank merger in India?)

भारत में फिलहाल 7 बैंक का विलय हुआ है. अगर आपका अकाउंट भी इन्हीं बैंक में है तो आपको ध्यान देने की जरूरत है. 1. विजया बैंक 2. देना बैंक 3. ओरिएंटल कॉमर्स बैंक 4. यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया 5. इलाहाबाद बैंक 6. आंध्रा बैंक 7. कार्पोरेशन बैंक

अगर आपका अकाउंट इन 7 बैंक में है तो आपको अपनी पासबुक और चेकबुक बदलने (Change Cheque book) की जरूरत पड़ सकती है लेकिन इससे पहले ये जान लेना चाहिए कि इन बैंक का विलय किस बैंक में किया गया है.

– विजया बैंक और देना बैंक का विलय बैंक ऑफ बड़ौदा में किया गया है. अगर आपके पहले इन दोनों बैंक में अकाउंट थे तो अब आपको बैंक ऑफ बड़ौदा का अकाउंट होल्डर कहा जाएगा.
– ओरिएंटल कॉमर्स बैंक और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का विलय पंजाब नेशनल बैंक के साथ किया गया है.
– इंडियन बैंक का विलय इलाहाबाद बैंक में किया गया था.
– आंध्र बैंक और कार्पोरेशन बैंक का विलय यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में किया गया है.

चेकबुक और पासबुक बदलने की क्या जरूरत है? (Why Change Cheque book and passbook?)

जिन बैंक का विलय हुआ है उन बैंक के अकाउंट होल्डर का अकाउंट नंबर तो वही रहेगा. ऐसे में पासबुक और चेकबुक बदलने की क्या जरूरत है? ये सवाल आपके दिमाग में घूम रहा होगा. दरअसल विलय होने के बाद से आपके बैंक के IFSC Code और MICR Code बदल जाएंगे. अगर आप किसी बैंकिंग लेनदेन के लिए अपनी बैंक की पासबुक देते हैं या फिर चेक देते हैं वो उन्हें बैंक द्वारा अस्वीकार कर दिया जाएगा. क्योंकि उन पर सही आईएफ़एससी कोड और एमआईसीआर कोड नहीं होंगे. अगर आप इन बैंक का चेक भी किसी बैंक में लगाएंगे तो भी उन्हें स्वीकार नहीं किया जाएगा. ऐसे में आपको अपने पासबुक और चेकबुक को बदलने की जरूरत है.

लेकिन बैंक पासबुक और चेकबुक को बदलने को लेकर बैंक ने अपने ग्राहकों को कुछ ढिलाइ दी है. जिसके बारे में आपको जानना चाहिए.

बैंक ऑफ बड़ौदा ने ट्वीट कर ये बताया कि 1 अप्रैल 2021 के बाद भी विजया बैंक और देना बैंक के चेक उनके बैंकिंग सिस्टम में स्वीकार किए जाएंगे. इसलिए अकाउंट होल्डर अपनी सहूलियत के हिसाब से चेकबुक और पासबुक के लिए आवेदन कर सकते हैं.

पंजाब नेशनल बैंक ने कहा कि ओरिएंटल कॉमर्स बैंक और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की चेकबुक को सिर्फ 31 मार्च 2021 तक ही स्वीकार किया जाएगा. उन्हें 31 मार्च तक नई चेकबुक और पासबुक इशू करा लेनी चाहिए.

इंडियन बैंक ने ट्वीट कर बताया कि इलाहबाद बैंक की चेकबुक को उसके पन्ने खत्म होने तक या अगले 6 महीने तक इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके बाद अकाउंट होल्डर नई पासबुक इशू करा सकते हैं.

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने ये कहा कि आंध्र और कार्पोरेशन बैंक के पुराने चेक को 1 अप्रैल 2021 के बाद से मान्य नहीं किया जाएगा. ऐसे में उन्हें नई चेकबुक इशू करवा लेना चाहिए. क्योंकि बैंक ने आईएफ़एससी कोड को बदल दिया है.

अगर आप इन 7 बैंक के खाताधारक हैं तो आप जान गए होंगे कि आपको पासबुक और चेकबुक बदलनी है या नहीं. अगर बदलनी है तो आप किस बैंक के साथ बदल सकते हैं. अगर आप कहीं से लोन लेने वाले हैं या फिर कोई पेमेंट बैंक के जरिये लेने वाले हैं तो अपने आईएफ़एससी कोड और एमआईसीआर कोड को कनफर्म करके ही पेमेंट लें.

यह भी पढ़ें :

पीएनबी नेट बैंकिंग कैसे एक्टिवेट करें, PNB Net Banking कैसे लॉगिन करें?

एसबीआई नेट बैंकिंग कैसे एक्टिवेट करें, इसके क्या फायदे हैं?

ICICI Bank iBox क्या है? जानिए आईसीआईसीआई बैंक की आईबॉक्स सेवा के फायदे

error: Content is protected !!