Bank Service Charges: बैंक के छुुपे हुए सर्विस चार्ज

जब भी हम बेंक मे कसी तरह का कोई ट्रांजैक्शन करते है, वह उस ट्रांजैक्शन से भी अतिरिक्त चार्ज का नाम दे कर कमाई करते हैं. यदि आप कुछ बेहतर तरीको पर ध्यान देते हैंं, तो आप बड़ी रकम को बचा सकते हैं.

आज के बदलते Technology के क्षेत्र मे हर व्यक्ति बहुत कम कम समय मे अधिक से अधिक काम करना चाहता हैं. पैसों के हस्तांतरण (Cash Transaction) के लिए हमे पहले काफी परेशानिया उठानी पड़ती थी, जैसे बैंक मे जाकर लंबी-लंबी लाइन मे खड़े होकर घंटो तक अपना नंबर आने का इंतेजार करना पड़ता था, लेकिन Technology इस कदर बदल गई है की अब आप घर बैठे बड़े आराम से पैसों को ट्रांसफर कर सकते हैं . लेकिन बैंक का काम तो आसान हो गया हैं, लेकिन उसकी सेवाएं काफी महंगी हो गई हैं.

हालांकि आपको पता होगा इसी साल यानी की 2020 से ही Reserve Bank of India (RBI) ने National Electronic Funds Transfer (NEFT) और Real-time Gross Settlement (RTGS) में सभी सेवाओं के चार्ज हटा दिए हैं. बता दें की RBI ने 2019 के जुलाई महीने में इस बात की घोषणा मॉनेटरी पॉलिसी के रिव्यू के दौरान की थी. सरकार ने कहा था की जनवरी 2020 से NEFT और RTGS Transaction के चार्ज नहीं लिए जाएंगे. लेकिन आपको बताना आवश्यक है बैंक एक नहीं बल्कि कई ऐसी दूसरी सेवाएं जिससें अपने ग्राहकों से सेवा शुल्क वसूलती हैं.

बैंक के द्वारा कई सेवाओ का नाम देकर व्यक्तियों से जो पैसे वसूले जाते है, उससे सबसे ज्यादा परेशान आम आदमी को होना पड़ता है. देखा जाए तो बैंकों की अत्यधिक कमाई तो , चेक, एटीएम ट्रांजैक्शन, बैंक ड्राफ्ट (Bank draft), लॉकर चार्ज (locker charges in bank), एफडी और लोन पर (FD and loan service tax charges) टैक्स लगाकर होती है.

जब भी हम बेंक मे कसी तरह का कोई ट्रांजैक्शन करते है, वह उस ट्रांजैक्शन से भी अतिरिक्त चार्ज का नाम दे कर कमाई करते हैं. यदि आप कुछ बेहतर तरीको पर ध्यान देते हैंं, तो आप बड़ी रकम को बचा सकते हैं. ओर बैंकिंग से जुड़े कई चार्ज से छुटकारा पा सकते हैं.

Banks Alert and Instructions by sms  
बता दें की Bank SMS Alert सुविधा भी देते हैं लेकिन इन सबका चार्ज वसूल करते हैं. इसका शुल्क तकरीबन15 रुपये महीने के आसपास होता है.

शाखाओं से ट्रांजैक्शन न करें:

यदि आपको बैंक द्वारा सेवाओंं का नाम देकर वसूले जा रहे पैसे बचाना है, तो बैंक के ब्रांच में जाकर कोई ट्रांजैक्शन न करें. अधिकांश बैंक ब्रांच के माध्यम से 3 या 4 फ्री ट्रांजैक्शन की सुविधा मुहैया करती हैं. इस तरह आप 150 रुपए तक बचा सकते हैं.

समय पर भरें Credit card bill का बिल

39 से 42 फीसदी सालाना ब्याज आप महज क्रेडिट कार्ड पर देते हैं. यदि 3 दिन की आपको देरी हो जाती हैं, तो बैंक आपसे अतिरिक्त चार्ज के 750 रुपए रुपए लेती है.

Minimum Balance का चार्ज
यदि आपके खाते में कम पैसा है जो बैंक की ओर से निर्धारित Bank Minimum Balance Rules से कम होता है तो बैंक आपसे शुल्क वसूलेगा. आपकी कोशिश होनी चाहिए की इस बात का ध्यान रखें की अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस  है,हो वह निर्धारित शेष से कम ना हो. 

ATM Charges 

आप ATM का उपयोग करते समय समझदारी का परिचय दिखाना चाहिए. बैंक ATM से महज 1 महीने में 5 ही फ्री ट्रांजैक्शन की सुविधा देती हैं. यदि आप इससे अधिक बार ATM से ट्रांजैक्शन करते हैं , तो हर ट्रांजैक्शन पर 10 से 20 रुपए आपको अतिरिक्त देना पड़ते हैं.  यही नहीं यदि आपका ATM CARD खो गया है तो नया लेने पर बैंक 50-500 रुपये चार्ज वसूल सकता है. यही नहीं  ATM या नया ATM पिन का चार्ज होता है. जबकि चेक क्लीयरिंग पर बैंक 150 रुपये प्रति चेक का पैसा वसूलते हैं. 

क्रेडिट कार्ड की लिमिट

यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को बढ़वाते हैं, तो इसके लिए बैंक आपसे इसकी फीस वसूलती हैं, जो कम से कम 500 रुपए तक भी हो सकती है.

क्रेडिट कार्ड से न निकालें पैसा

जब को बैंक क्रेडिट कार्ड जारी करती हैं, तो वह ब्याज तो लेती ही हैं, साथ ही ट्रांजैक्शन फीस भी आपको चुकाना पड़ता हैं. इस तरह बैंक आपसे कम से कम 300 से 500 रुपए तक अतिरिक्त लेती हैं.

नेट बैंकिंग (Net banking charges)

कई व्यक्ति इंटरनेट बैंकिंग से डरते हैं, उनका मानना होता है की यह खतरनाक हो सकती हैं, लेकिन इस तरह की सोक्ष्च रखने वाले व्यक्ति खुद का बड़ा नुकसान कर रहे हैं. नेट बैकिंग के माध्यम से आप मुफ्त ट्रांजैक्शन कर सकते हैं. इस तरह आप चेकबुक पर करीब 20 से 150 रुपए बचा सकते हैं.

नोट: यह लेख आपकी जानकारी बढ़ाने के लिए साझा किया है. बैंक संबंधी सेवा शुल्क के बारे में बेहतर होगा आप अपनी बैंक से सीधे जानकारी प्राप्त करें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!