Browsing Category

खेल

कितना पुराना है एशियन गेम्स का सफर, किस रैंकिंग पर है इंडिया

Asian Games को एशियाड नाम से भी जाना जाता है. एशियाई खेलोंं का आयोजन हर चार साल बाद किया जाता है. यह एक बहु-खेल प्रतियोगिता है, जिसमें एशिया के कई देशों के खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं.

क्यों सचिन-विराट से भी ज्यादा खास हैं सुनील गावस्कर?

सुनील गावस्कर को टेस्ट क्रिकेट में सबसे पहले सबसे अधिक रनों की पारी पूरी करने का श्रेय हासिल है. इस मुंबइया बल्लेहबाज़ के रिकॉर्ड ऐसे रहे हैं जिसे सचिन और विराट कोहली जैसेे बल्लेबाज भी नहीं तोड़ पाए.

पावरप्ले : जिसने बदल दी क्रिकेट की दुनिया

पावरप्ले एक ऐसा नियम था जिसने क्रिकेट की दुनिया बदलकर रख दी. पावरप्ले की शुरुआत 1996 के विश्व कप से हुई. यह वर्ल्ड कप सबसे ज्यादा रोमांचक, आतिशी और शानदार रहा. सनथ जयसूर्या जैसे प्लेयर्स पावरप्ले की देन रहे. इस समय पावरप्ले के नियम में बहुत…

जूनियर टीम इंडिया ने भी कर दी क्रिकेट संसार में बादशाहत की ललकार

भविष्य में विश्व क्रिकेट जगत पर राज करने के लिए हिंदुस्तान में खिलाड़ियों की नई फसल तैयार हो गई है. 19 साल के लड़कों ने अंडर-19 वर्ल्ड कप जीतकर क्रिकेट की दुनिया को ललकार दिया है कि भविष्य में उनकी बादशाहत होने वाली है. वर्ल्ड कप के फाइनल…

India tour of South Africa 2018 : द. अफ्रीका का सूखा बनेगा इंडिया की हरियाली? मौसम की इस करवट से…

साउथ अफ्रीका में इन दिनों सूखा पड़ रहा है, सूखे की वजह ने पिच पर भी असर डाला है. यानी पिच का पचड़ा कुछ ऐसा है कि साउथ अफ्रीका जिन तेज पिचों पर खेलने की आदी है, उसे अपने ही घर अब धीमी पिचों पर खेलना पड़ेगा. इसका फायदा टीम इंडिया को होना तय है.

खिलाड़ियों को हमेशा फिट रखेंगे ये उपाय, कभी नहीं लगेगी चोट

खेलकूद के मैदान में खिलाड़ी यदि किसी चीज से सबसे ज्यादा घबराता है तो वह है चोट. चोट से शारीरिक दर्द तो होता ही है बल्कि मानसिक रूप से भी खिलाड़ी डिस्टर्ब होता है. फ्यूचर का टेंशन होता है और कॉन्फिडेंस भी डगमगा जाता है. आइए आपको बताते हैं…

जन्मदिन विशेष: राष्ट्रीय एकता के लिए इंदिरा गांधी का वो आखिरी भाषण..!

इंदिरा गांधी भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री के रूप में अपनी प्रतिभा और राजनीतिक दृढ़ता के लिए 'विश्वराजनीति' के इतिहास में जानी जाती हैं. इंदिरा प्रियदर्शनी गांधी का जन्म- 19 नवम्बर 1917 काेे हुआ था. वेे ना केवल भारतीय राजनीति पर छाई…

IPL विशुद्ध धंधा है और धंधे में संवेदनाएं केवल घाटे पर रोती हैं.. !

आईपीएल विशुद्ध रूप से क्रिकेट का धंधा है. मनोरंजन के नाम पर लूटा जाने वाला पैसा. मानवीय संवेदनाओ की कमी और इसी कमी के चलते धंधेबाजों ने अपनी जेबें भरी है. धंधेबाजों के लिए संवेदनाएं दो कोड़ी की चीज है. निश्चित रूप से ऐसे आयोजन के प्रेमियों…
error: Content is protected !!