CBSE vs ICSE : सीबीएसई और आईसीएसई क्या है, दोनों में क्या अंतर है?

अधिकतर पेरेंट्स ये ध्यान नहीं देते की स्कूल कौन से बोर्ड से संबन्धित है. स्कूलों को अलग-अलग बोर्ड से मान्यता प्राप्त होती है जैसे स्टेट बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई.

जीवन में शिक्षा का महत्व हम सभी जानते हैं. आज के युग में हर माँ-बाप चाहते हैं की उनके बच्चे अच्छे स्कूल में पढ़ें. आजकल अच्छे स्कूल में पढ़ने से मतलब इंग्लिश मीडियम में पढ़ने से हो गया है. अधिकतर पेरेंट्स ये ध्यान नहीं देते की स्कूल कौन से बोर्ड से संबन्धित है. स्कूलों को अलग-अलग बोर्ड से मान्यता प्राप्त होती है जैसे स्टेट बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई.

स्टेट बोर्ड क्या होता है? (What is State Education Board?)

स्टेट बोर्ड का मतलब राज्य बोर्ड से होता है. किसी भी राज्य के अधिकतर स्कूल स्टेट बोर्ड द्वारा ही मान्यता प्राप्त होते हैं. जैसे मध्य प्रदेश के लिए एमपी बोर्ड, उत्तर प्रदेश के लिए यूपी बोर्ड आदि. इन बोर्ड का सिलेबस आमतौर पर अन्य बोर्ड से थोड़ा आसान होता है लेकिन पढ़ाई तो आपको इसमें भी करना ही पड़ती है.

सीबीएसई क्या है ? (What is CBSE?)

सीबीएसई भारत में सबसे लोकप्रिय एजुकेशन बोर्ड है. जो लोग इंग्लिश मीडियम से पढ़ते हैं वे अधिकतर सीबीएसई बोर्ड से ही पढ़ते हैं. अब ऐसा नहीं है की सीबीएसई बोर्ड सिर्फ इंग्लिश मीडियम वालों के लिए ही है. ये हिन्दी मीडियम वालों के लिए भी है. सीबीएसई का पूरा नाम (CBSE full form) केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Central Board of Secondary Education). ये बोर्ड केंद्र सरकार द्वारा चलाया जाता है और इसमें पढ़ाई के लिए NCERT की Book उपयोग की जाती है. आजकल स्टेट बोर्ड में भी NCERT की book का उपयोग होना शुरू हो गया है.

आईसीएसई क्या है? (What is ICSE Board?)

देश में एक और फेमस बोर्ड है जिसके बारे में कुछ लोग जानते हैं और कुछ लोग नहीं जानते. इसका नाम आईसीएसई है. आईसीएसई का पूरा नाम (ICSE full form) इंडियन सर्टिफिकेट ऑफ सेकेन्डरी एजुकेशन है (Indian Certificate of Secondary Education). आईसीएसई को 1986 में नई शिक्षा नीति की सिफ़ारिशों के आधार पर बनाया गया था. ये सीबीएसई और अन्य राज्य बोर्ड से बिलकुल अलग है. इसकी स्थापना 1958 में Cambridge University द्वारा भारत में एक परीक्षा आयोजित करने और उसका प्रशासन करने से हुई. 1967 में Society Registration Act के अंतर्गत इसे दर्जा दिया गया और 1986 में नई शिक्षा नीति के अनुसार इसे भारत में परीक्षाएँ अँग्रेजी माध्यम में कराने का अधिकार दिया गया.

सीबीएसई और आईसीएसई में क्या अंतर है? (What is Difference Between CBSE and ICSE Board?)

सीबीएसई और आईसीएसई हैं तो एजुकेशन बोर्ड जिनके माध्यम से आप अपनी 12वी तक की पढ़ाई कर सकते हैं लेकिन ये एक दूसरे से पूरी तरह अलग हैं. सीबीएसई बोर्ड के अंतर्गत जहां आपको सबजेक्ट के रूप में मैथ, फ़िज़िक्स, केमेस्ट्री, बायो, आर्ट्स पढ़ाये जाते हैं वहीं आईसीएसई बोर्ड में आपको भाषाओं और कलाओं के बारे में पढ़ाया जाता है. सीबीएसई में जहां थ्योरी ज्यादा और प्रैक्टिकल कम होता है वहीं आईसीएसई बोर्ड में प्रैक्टिकल ज्यादा होता है.

सीबीएसई और आईसीएसई में कौन बेहतर है? (CBSE vs ICSE which board is better?)

सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड दोनों अपनी जगह पर बेहतर हैं. इन दोनों में से आपको किसे चुनना है ये आप इस बात से तय कर सकते हैं की आप आगे किस विषय से संबन्धित पढ़ाई करना चाहते हैं और कहाँ करना चाहते हैं.

अगर आप इंजीनियरिंग, मेडिकल की फील्ड में जाना चाहते हैं तो सीबीएसई बोर्ड आपके लिए बेस्ट है. इनके एंट्रैन्स एक्जाम में एनसीईआरटी की किताबों से ही प्रश्न पूछे जाते हैं और सीबीएसई में एनसीईआरटी की किताबों का उपयोग होता है.

इसके अलावा अगर आप सरकारी नौकरियों के लिए तैयारी करना चाहते हैं तो भी आपके लिए सीबीएसई बेस्ट है क्योंकि सिविल सर्विस एक्जाम जैसे यूपीएससी, स्टेट पीएससी, एसएससी आदि में जो प्रश्न पूछे जाते हैं वो भी एनसीईआरटी की किताबों से पूछे जाते हैं. सीबीएसई से पढ़ने के कारण आपके बेसिक्स काफी क्लियर रहते हैं जिनसे आप आगे अच्छा प्रदर्शन करते हैं.

अब अगर आप विदेश में आर्ट्स से संबन्धित या किसी भाषा से संबन्धित पढ़ाई करना चाहते हैं तो आप आईसीएसई का ही चुनाव करें. विदेश में आर्ट्स या किसी भाषा की पढ़ाई के लिए आईसीएसई बोर्ड काफी अच्छा है इसका कारण ये है की इसमें आप वो सीखते हैं जो किसी विदेशी यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने के लिए जरूरी होता है. TOFEL, IELTS जैसी एक्जाम को क्रैक करने में ये बोर्ड आपकी काफी मदद करता है.

यह भी पढ़ें :

Cambridge University Admission : कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में एडमिशन कैसे पाएं?

ऑक्सफोर्ड में एडमिशन कैसे लें, जरूरी टेस्ट एवं कोर्स की लिस्ट

12वी के बाद Bio Student कौन सा कोर्स ले सकते हैं?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!