Chikungunya treatment : चिकनगुनिया के लक्षण, उपचार और घरेलू उपाय

बरसात के मौसम में मच्छरों के काटने से कई सारी बीमारियाँ होती है और उन्हीं बीमारियों में से एक है चिकनगुनिया (chikungunya) . चिकनगुनिया की शुरुवात (chikungunya symptoms) बुखार के आने से होती है जिसके साथ तेज जोड़ों का दर्द होता है. ये दर्द कई लोगों को बुखार के साथ चला जाता है और कई लोगों को ये दर्द कुछ हफ्ते या कुछ महीनों तक रहता है. चिकनगुनिया कैसे होता है, चिकनगुनिया से बचाव, चिकनगुनिया के घरेलू उपाय ये सारी बातें इसके इलाज और इससे बचाव के लिए जरूरी है.

0 66

बरसात के मौसम में मच्छरों के काटने से कई सारी बीमारियाँ होती है और उन्हीं बीमारियों में से एक है चिकनगुनिया (chikungunya) . चिकनगुनिया की शुरुवात (chikungunya symptoms) बुखार के आने से होती है जिसके साथ तेज जोड़ों का दर्द होता है. ये दर्द कई लोगों को बुखार के साथ चला जाता है और कई लोगों को ये दर्द कुछ हफ्ते या कुछ महीनों तक रहता है. चिकनगुनिया कैसे होता है, चिकनगुनिया से बचाव, चिकनगुनिया के घरेलू उपाय ये सारी बातें इसके इलाज और इससे बचाव के लिए जरूरी है.

चिकनगुनिया का कारण

चिकनगुनिया (chikungunya causes) संक्रमित मच्छर के काटने से होता है. जब कोई मच्छर (chikungunya mosquito) किसी चिकनगुनिया संक्रमित व्यक्ति को काटता है तो वह मच्छर संक्रमित हो जाता है. इसके बाद जब वो मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो वो दूसरा व्यक्ति चिकनगुनिया से संक्रमित हो जाता है. इस तरह चिकनगुनिया रोग एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को फैलता है.

चिकनगुनिया के लक्षण

चिकनगुनिया (chikungunya symptoms) की शुरुवात बुखार के साथ होती है. इसमें रोगी को तेज बुखार आता है और उसके जोड़ों में भयंकर दर्द होता है. चिकनगुनिया का मतलब होता है झुक कर चलना. इस रोग में जोड़ों के दर्द के कारण व्यक्ति झुक कर चलने लगता है. इसके अन्य लक्षण मांसपेशियों में दर्द, सिरदर्द, मतली, थकान और लाल चकते हैं.

चिकनगुनिया से बचाव

चिकनगुनिया (chikungunya prevention) से पूरी तरह तो नहीं बचा जा सकता लेकिन फिर भी हम कुछ उपाय करके चिकनगुनिया को फैलने से और होने से काफी हद तक रोक सकते हैं. चिकनगुनिया से बचाव के लिए निम्न उपाय कर सकते हैं.

– मच्छरों के काटने से खुद को बचाएं, जितना हो सके उतना मच्छरों को अपने घर में न आने दे.
– घर के बाहर या छत पर पानी को जमा होने से रोकें क्योंकि इनमें मच्छर पैदा होते हैं.
– शरीर पर मच्छरों को रोकने वाली क्रीम लगाएँ.
– अपने घर की खिड़की के पास तुलसी का पौधा लगाकर रखें ये मच्छरों को घर में घुसने से रोकता है.
– मच्छरों को भागने के लिए घर में कपूर जलाएं.

चिकनगुनिया का इलाज

चिकनगुनिया के इलाज (chikungnya treatment) के लिए कोई वैक्सीन या दवाई उपलब्ध नहीं है लेकिन इसे कम करने या रोकने के लिए डॉक्टर दवाई देते हैं. चिकनगुनिया के इलाज के लिए इसके लक्षण जैसे बुखार और दर्द को दूर करने की दवाई दी जाती है. चिकनगुनिया होने पर आपको कम से कम 7 दिनों तक घर में आराम करना पड़ता है.

चिकनगुनिया के लिए घरेलू उपाय

चिकनगुनिया की रोकथाम आप कुछ घरेलू उपाय (chikungunya home remedy) के द्वारा भी कर सकते हैं. चिकनगुनिया के घरेलू उपाय निम्न हैं.
– 7-8 पपीते की पत्तियों को तोड़कर धोएँ और पानी में मिलकर इसका तरल पेस्ट बनाएं. इस मिश्रण को छान लें और इसके 2 चम्मच हर 3 घंटे में पीए. बुखार न उतरने तक इसका सेवन करें.

– 10-12 लहसुन की कलियों को छीलकर काट लें. अब इन्हें पानी के साथ पीस लें और कुछ घंटों के लिए दर्द हो रहे जोड़ों पर लगाएं इससे जोड़ों का दर्द और सूजन कम होगी.

– चिकनगुनिया में होने वाले दर्द को दूर करने के लिए आप हल्दी वाला दूध का भी सेवन कर सकते हैं. हल्दी में करक्यूमिन नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है जो दर्द और सूजन को कम करता है.

– चिकनगुनिया में नारियल पानी का सेवन काफी फायदेमंद होता है. एक दिन में कम से कम 3 गिलास नारियल पानी का सेवन चिकनगुनिया में करना चाहिए.

यह भी पढ़ें :

Dengue fever : डेंगू का बुखार, कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपाय

Migraine treatment : माइग्रेन क्या होता है, लक्षण, घरेलू उपाय और इलाज?

Malaria treatment : मलेरिया के लक्षण, घरेलू उपाय और परहेज

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!