Section 144 in Hindi : कब लगाई जाती है धारा 144, जानिए क्या हैं नियम?

Section 144 Kya hai? इसके बारे में काफी सारे लोग कुछ भी नहीं जानते हैं. काफी सारे लोग इसे कर्फ़्यू का एक रूप मानते हैं लेकिन धारा 144 इन सभी से बिलकुल अलग है.

धारा 144 क्या है? (What is section 144?  धारा 144 का जिक्र आपने चुनावों के दौरान भारत में जरूर सुना होगा. हाल ही में महराष्ट्र के मुंबई में धारा 144 को सियासी संकट के चलते लगाया गया है. धारा 144 भारत सरकार किसी भी जिले में लगा सकती है. इसे देश की सुरक्षा के लिए लगाया जाता है ताकि देश में शांति का माहौल बना रह सके.

Section 144 Kya hai? इसके बारे में काफी सारे लोग कुछ भी नहीं जानते हैं. काफी सारे लोग इसे कर्फ़्यू का एक रूप मानते हैं लेकिन धारा 144 इन सभी से बिलकुल अलग है.

धारा 144 क्या है? (What is Section 144 in Hindi?) 

CRPC की धारा 144 किसी भी जगह पर शांति कायम करने के लिए लगाई जाती है. किसी भी जगह पर जहां दंगे या खतरे की आशंका हो वहाँ पर शांति व्यवस्था कायम करने के लिए इसे लगाया जाता है. इसके तहत कुछ नियम होते हैं जिनका पालन आम नागरिकों को करना होता है. यदि कोई व्यक्ति इसके तहत नियमों का पालन नहीं करता है तो उसे सजा भुगतनी होती है.

कैसे लगाई जाती है धारा 144?  (How imposed Section 144 in Mumbai) 

जब सरकार को ऐसा लगता है कि किसी एरिया में दंगे भड़कने की स्थिति बन सकती है या वहाँ के हालत बिगड़ सकते हैं तो ऐसी स्थिति में जिला अधिकारी एक नोटिफ़िकेशन के जरिये धारा 144 लगाते हैं. 

इसके लागू होने पर इन्टरनेट सेवाओं को भी बाधित किया जा सकता है. साथ ही एक साथ लोगों के इकट्ठा होने पर भी रोक लगाई जाती है. मुख्य तौर पर इसे खतरे को टालने के लिए लगाया जाता है. 

धारा 144 के नियम (Rules of Section 144 in India) 

धारा 144 लगने पर इन नियमों का ध्यान रखना चाहिए.

– जिस एरिया में धारा 144 लगाई जाती है उस एरिया में 5 या 5 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर मनाही होती है. 

– धारा 144 लगने के बाद सरकार इन्टरनेट सेवाओं को बंद कर सकती है.

– धारा 144 जिस भी एरिया में लगी हो, उसमें कोई व्यक्ति हथियार नहीं ले जा सकता है. 

– इसमें आप गैर कानूनी तरीके से इकट्ठे नहीं हो सकते.

धारा 144 के तहत सजा (Section 144 Punishment) 

धारा 144 के तहत यदि कोई व्यक्ति किसी दंगे में शामिल होता है या दंगा भड़काने की कोशिश करता है या फिर नियमो का पालन नहीं करता है तो उसे 3 साल तक का कारावास हो सकता है. 

धारा 144 कितने समय के लिए लगती है? (Duration of Section 144) 

धारा 144 को ज्यादा से ज्यादा 2 महीने के लिए लगाया जा सकता है. लेकिन राज्य सरकार को यदि लगता है कि अभी इसे और लगाने की जरूरत है तो फिर राज्य सरकार इसे कुछ समय के लिए और बढ़ा सकती है. लेकिन ध्यान रहे कि इसकी अवधि अधिकतम 6 माह है. इससे ज्यादा समय के लिए इसे नहीं लगाया जा सकता है. 

धारा 144 एक काफी खास धारा है जो कई जिलों में लगाई जाती है. आमतौर पर इसका इस्तेमाल आपात स्थिति से निपटने के लिए किया जाता है. इसे लगाने के बाद सबकुछ पुलिस और केंद्रसरकार के कंट्रोल में आ जाता है.

आपने कई बार देखा होगा कि लोग अपनी मांगों को मनवाने के लिए दंगे करवाते हैं, भीड़ जमा करवाकर उनसे हिंसा करवाते हैं. इन सभी स्थितियों से बचाने का कार्य धारा 144 करती है. इसमें यदि कोई व्यक्ति हिंसा करता हुआ है दंगे भड़कता हुआ नजर आता है तो उसे कारावास की सजा सुनाई जाती है. चुनाव के दौरान अक्सर इसे संवेदनशील एरिया में लगाया जाता है. 

यह भी पढ़ें :

MLC क्या होती है, किन केस में बनाई जाती है MLC?

Live In Relationship : लिव इन रिलेशनशिप को लेकर भारत में क्या है कानून?

Self Defense क्या होता है, सेल्फ डिफेंस कानून कब लागू होता है?

error: Content is protected !!
सोशल मीडिया से पैसा कमाने के 4 तरीके सावन सोमवार में भगवान शिव को अर्पित न करें ये चीज, भोले हो जाएंगे नाराज सावन सोमवार में करें इन मंत्रों का जाप, शिवजी चमकाएंगे आपका भाग्य सावन सोमवार को करें ये उपाय, दूर होगी आर्थिक तंगी सावन माह में भूलकर भी न करें इन चीजों का सेवन