Dark web : डार्क वेब क्या है, कैसे काम करता है?

डार्क वेब (dark web in Hindi) इन्टरनेट का वो हिस्सा है जहां आम यूजर्स पहुंच नहीं पाते. दरअसल हम सब जो इन्टरनेट उपयोग करते हैं वो पूरे इन्टरनेट का 4% हिस्सा है. जबकि 96% हिस्सा डार्क वेब (Dark web) है जिस तक आम यूजर आसानी से नहीं पहुंच सकता.

इन्टरनेट अपने आप में कई रहस्यों (Internet secret) को छुपाए हुए है. डार्क वेब (Dark web) भी उसी रहस्य का हिस्सा है. इन्टरनेट का इस्तेमाल हम सभी करते हैं लेकिन डार्क वेब (dark web hindi) नाम की जगह के बारे में नहीं जानते. दरअसल आम लोग इसकी पहुँच से भी बाहर है लेकिन डार्क वेब हम सभी को प्रभावित करता है और काफी हद तक हमारे जीवन में भी दखल देता है. इसलिए हमें ये जानना जरूरी है की डार्क वेब क्या है, (What is dark web?)  डार्क वेब कैसे काम करता है और डार्क वेब तक कैसे पहुंचा जा सकता है.

डार्क वेब क्या है? (What is dark web?) 

डार्क वेब (dark web in Hindi) इन्टरनेट का वो हिस्सा है जहां आम यूजर्स पहुंच नहीं पाते. दरअसल हम सब जो इन्टरनेट उपयोग करते हैं वो पूरे इन्टरनेट का 4% हिस्सा है. जबकि 96% हिस्सा डार्क वेब (Dark web) है जिस तक आम यूजर आसानी से नहीं पहुंच सकता. हमारे द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाला इन्टरनेट इटनरनेट की ऊपरी सतह का हिस्सा है. इसे सरफेस इन्टरनेट भी कहते हैं. डार्क वेब में कई गैर कानूनी काम होते हैं इसलिए इसका उपयोग करना गैर कानूनी माना जाता है. अगर सरकार को ये पता लग जाता है की किस आईपी एड्रेस (IP address) से डार्क वेब एक्सेस हो रहा है तो उसे पर कानूनी कार्यवाही की जाती है.

डार्क वेब कैसे काम करता है? (Dark web working) 

आज के समय में हमें इटनरनेट पर कुछ भी सर्च करना होता है तो हम गूगल पर सर्च कर लेते हैं लेकिन डार्क वेब इससे पूरी तरह अलग है. डार्क वेब की वेबसाइट को आप आसानी से एक्सेस नहीं कर सकते इनके लिए आपको एक अलग ब्राउज़र और लॉगिन आईडी और पासवर्ड की जरूरत होती है.

डार्क वेब एक्सेस (How to access dark web?) करने के लिए सबसे जरूरी बात ये है की आपका आईपी एड्रेस किसी को पता न चले. अपना आईपी एड्रेस छुपाने के लिए आप किसी अच्छे वीपीएन नेटवर्क (VPN Network) का सहारा ले सकते हैं. जैसे Nord VPN, Strong VPN, HideMYIP, Cactus VPN, Kepard VPN आदि. इसके बाद डार्क वेब चलाने के लिए आपको एक अलग वेब ब्राउज़र की जरूरत पड़ती है जिसका नाम Tor Web browser है. इसे आप official website से ही डाउनलोड करें.

क्या डार्क वेब खतरनाक है? (Is dark web illegal?) 

डार्क वेब का उपयोग (dark web use) जो लोग डार्क वेब पर नए हैं उन्हें सोच-समझ कर करना चाहिए क्योंकि ये उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है. डार्क वेब के इस्तेमाल से उनके कम्प्युटर में वायरस आ सकते हैं, आपके कम्प्युटर पर हैकर अटैक कर सकते हैं, आपके पूरे कम्प्युटर को हैक करके आपका डाटा चुरा सकते हैं. डार्क वेब में किसी भी वेबसाइट पर सोच समझ कर ही जाएं.

डार्क वेब पर क्या जानकारी होती है (What is on dark web?) 

डार्क वेब एक तरह के गैर कानूनी सूचनाओं का संसार होता है. जिस तरह हमारी दुनिया में अंडरवर्ल्ड होता है ठीक उसी तरह इन्टरनेट की दुनिया में डार्क वेब होता है. इस पर गैर कानूनी सूचनाएं जैसे अपराधों की जानकारी, मानव तस्करी की सूचना, गैर कानूनी हथियारों की सप्लाइ, ड्रग्स की सप्लाइ आदि होती है.

डार्क वेब क्यों जरूरी है? (Why dark web exist?) 

आप सोच रहे होंगे की जब इस पर इतने गलत काम होते हैं तो डार्क वेब दुनिया में है ही क्यों. दरअसल डार्क वेब इन्टरनेट पर सुरक्षित जगह में से एक है जहां पर आपके द्वारा रखी गई जानकारी तक हर व्यक्ति नहीं पहुँच पाता है. जब आप नॉर्मल इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हैं तब आपके द्वारा उपयोग की गई जानकारी पर सभी लोगों की नजर होती है, सरकार, हैकर, कंपनी आदि की. लेकिन डार्क वेब में आप पर कोई नजर नहीं रख पाता. इसलिए कई लोग अपने जरूरी डाटा को छुपाने के लिए डार्क वेब का इस्तेमाल करते हैं. उनके लिए ये फायदेमंद साबित होता है.

यह भी पढ़ें :

Mobile Remote : स्मार्टफोन को रिमोट कैसे बनाएं?

फ्री लोगो कैसे बनाएं, फ्री लोगो मेकर वेबसाइट ?

Free Domain कैसे खरीदें, फ्री डोमेन वाली वेबसाइट?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!