नशे की लत से कैसे छूटेगी युवा पीढ़ी

पार्टी में एक हाथ में धुआं उछालती सिगरेट और दुसरे हाथ मे शराब का गिलास हो तो उनका अधिक सम्मान होता है.

0 617

बदलते समय के माहौल ने युवा पीढ़ी को नशे की ओर धकेलने में भरसक प्रयास किया है. युवा पीढ़ी नशे की शुरूआत महज फैशन और स्टाइल के तोर पर करता है. लेकिन धीरे धीरे वह इसका गुलाम बन जाता है, जिसका उन्हे आभास भी नहीं होता.

शराब और सिगरेट का सेवन करना आज की युवा पीढ़ी का शौक है. उन्हें लगता है इनका सेवन करने से हम समाज में उच्च स्तर के दिखते हैं, यदि पार्टी में एक हाथ में धुआं उछालती सिगरेट और दुसरे हाथ मे शराब का गिलास हो तो उनका अधिक सम्मान होता है.

सम्बंधित लेख - पढ़िए

नशे की लत के लक्षण

कोई भी आदत एक हद तक ठीक लगती है, यदि यह आदत बड़ जाती है, तो ये लत की स्थिति में पहुंच जाता है, जो भयावह होता है. जल्दी जल्दी मूड में बदलाव, मूड स्विंग्स, तेज सिरदर्द होना, नींद न आना, भूख कम लगना, शारीरिक और मानसिक रूप से थकावट महसूस होना, याददाश्त कमजोर होना, पसीने का ज्यादा आना, बिना वजह उल्टी-दस्त होना, जल्दी गुस्सा आने के साथ स्वभाव चिड़चिड़ा बने रहना, कन्फ्यूज रहना जैसे लक्षण व्यक्ति के नशे की लत के गिरफ्त में आने के होते हैं.

क्यों लगती है आदत नशा करने की

परिवार में कोई भी सदस्य यदि नशा करता है हो उसे देखकर बच्चे और टीनएज युवा आकर्षित हो कर इसकी गिरफ्त में आते हैं. कई बार वैवाहिक संबंध ठीक न रहने के कारण कई व्यक्ति इसकी चपेट मे आ जाते है. युवा स्ट्रेस और तनाव से बचने के लिए इसका सेवन करते है. महज फैशनेबल और स्टाइलिश दिखने के लिए युवा इसकी तरफ आकर्षित होते हैं, ओर धीरे धीरे इसके आदी हो जाते हैं.

ड्रग्स खतरनाक हैं सेहत के लिए

कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों को तंबाकू, गुटखा निमंत्रण देने में मदद करता है. इनका सेवन करने से दिमाग में मौजूद कैमिकल्स के काम करने का तरीका बदल जाता है. ड्रग्स लेने से दिमागी कैमिकल्स बेअसर हो जाते हैं. ड्रग्स लेने से दिमाग में डोपामाइन नाम का केमिकल रिलीज होता है जो इंसान को कुछ समय हेतु अच्छा महसूस कराता है. इसी वजह से लोग ड्रग्स की ओर आकर्षित होते हैं.

जीवन अनमोल है, इसे नशे के चंगुल से बचाएं

मन मे निश्चय कर नशे से छुटकारा पाये. नशा छोड़ना आसान तो नहीं है पर नामुमकिन भी नहीं. व्यक्ति धैर्य रखकर इस आदत से छुटकारा पाया जा सकता है. नशा मुक्ति के लिए परिवार का रोल बहुत बड़ा होता है. इस समय परिवार के सभी सदस्यों को मजबूत रहकर साथ देना चाहिए. उन व्यक्तियों से दूर रहें जो नशा करते हैं. नशे की आदत छोड़ने के लिए अच्छे डाक्टर या मनोवैज्ञानिक से सलाह लें.

शौक दिलाएगा नशे से मुक्ति

हर पल कुछ नया सीखने का प्रयास करे. पौष्टिक आहार का अधिक सेवन करे, ताकि डैमेज हुआ शरीर दुरूस्त हो सके. व्यायाम नियमित रूप से करें, ताकि शरीर और मन फिट और प्रफुल्लित रह सकें. अपने परिवार के सदस्यों को देखें जो आप पर ही निर्भर हैं और आपको प्यार करते हैं.