Engineering Career: इंजीनियरिंग क्या है? कैसे बनाएं करियर

आपने फिल्म 'थ्री इडियट' तो देखी ही होगी और उसे देखने के बाद आपकी इच्छा भी हुई होगी कि ‘मैं भी इंजीनियर बन जाउं’. वैसे आजकल आए दिन अखबारों में इंजीनियारों के कारनामे छपते रहते हैं, किसी ने क्या खोज करी, किसको कितना प्लेसमेंट मिला, किसी ने कंपनी खोली, कोई कलेक्टर बन गया. ये सब सुनकर हमारा मन भी करता है कि इंजीनियर बना जाए. तो इंजीनियरिंग क्या है और इंजीनियर कैसे बना जाए ये पूरी जानकारी आप इस लेख में पढ़ेंगे.

0 577

आपने फिल्म ‘थ्री इडियट’ तो देखी ही होगी और उसे देखने के बाद आपकी इच्छा भी हुई होगी कि ‘मैं भी इंजीनियर बन जाउं’. वैसे आजकल आए दिन अखबारों में इंजीनियरों के कारनामे छपते रहते हैं, किसी ने क्या खोज की, किसको कितना प्लेसमेंट मिला, किसी ने कंपनी खोली, कोई कलेक्टर बन गया. ये सब सुनकर हमारा मन भी करता है कि इंजीनियर बना जाए. तो आइए जानते हैं इंजीनियरिंग क्या है और इंजीनियर कैसे बना जाए.

इंजीनियरिंग क्या है? (What is an engineering)

सम्बंधित लेख - पढ़िए

इंजीनियरिंग मतलब एक ऐसा विषय जिसमें किसी वस्तु का अविष्कार किया जाता है, मशीनेंं बनाई जाती हैंं, इनोवेशन किए जाते हैं जो मानव जाति के भलाई के लिए होते हैं. इन सब कामों को करने वाला व्यक्ति इंजीनियर (Engineer) कहलाता है. जिस तरह डाॅक्टर हमारे शरीर को सुधारने का काम करता है. उसके बारे में नई-नई खोज करता है उसी तरह इंजीनियर मशीनों का डाॅक्टर होता है. वो इन्हें इनवेंट करता है और उन पर प्रयोग करता है.

कैसे करें इंजीनियरिंग (How to do engineering course)

भारत में इंजीनियरिंग करने के लिए आपको सबसे पहले दसवी के बाद मैथ्स विषय के साथ 11वी तथा 12वी पास करना होगी. इसके बाद देश के प्रतिष्ठित काॅलेज में एडमिशन के लिए आईआईटी (IIT) की परीक्षा होती है जिसे आपको क्लियर करना होता है. इस एग्जाम को क्लियर करने के बाद आपको देश के प्रतिष्ठित काॅलेज आईआईटी में एडमिशन मिलता है. इसके बाद यहां से बीई या बीटेक का कोर्स किया जाता है जिसके बाद आप इंजीनियर बन जाते हैं.

यह भी पढ़ें : 12th के बाद Maths Student किन फील्ड में बनाए अपना Career

इंजीनियरिंग में डिग्री करने के अलावा आप डिप्लोमा (Diploma) भी कर सकते हैं. इसे पाॅलीटेक्निक कोर्स (Polytechnic Course) कहते हैं. इसे आप दसवी के बाद ही कर सकते हैं. इसमें इंजीनियरिंग से कम पैसे और समय लगता है और कई सरकारी नौकरियों में आजकल इसकी डिमांड है.

यह भी पढ़ें : पॉलिटेक्नीक (Polytechnic) कोर्स : दसवी के बाद दिलाएगा फटाफट जॉब

इंजीनियरिंग के प्रकार (Types of engineering and which is the best field in engineering)

इंजीनियरिंग में कई सारी ब्रांच होती है जो हर ब्रांच की अपनी खासियत है. इंजीनियरिंग की ब्रांच आपके इंट्रेस्ट पर निर्भर करती है. साथ ही आपका इस फील्ड में फ्यूचर कैसा रहेगा ये भी आपका इंट्रेस्ट ही तय करता है. जैसे मान लीजिए अगर आपकी रूचि साॅफ्टवेयर बनाने में है और आपको मेकेनिकल इंजीनियरिंग में पढ़ाया जाए तो आपका मन वहां नहीं लगेगा और फ्यूचर में आप अच्छा परफाॅर्म नहीं कर पाएंगे. इंजीनियरिंग में कई ब्रांच हैं जिनकी सूची आप यहां देख सकते हैं.

मेकेनिकल इंजीन्यरिंग डिग्री के प्रकार (Types of mechanical engineering)

– Biomedical engineering
– Bio mechanical engineering
– Automotive engineering
– Mechanical engineering
– Aerospace engineering

सिविल इंजीनियरिंग डिग्री के प्रकार (Types of Civil engineering)

– Civil engineering
– Structural engineering
– Architectural engineering

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग डिग्री के प्रकार (Types of Electrical engineering)

– Robotics engineering
– Micro electronic engineering
– Mechatronics engineering
– Electrical engineering
– Electronics engineering
– Computer engineering

केमिकल इंजीनियरिंग डिग्री के प्रकार (Types Of Chemical Engineering Degrees)

– Material science engineering
– Sustainability design engineering
– Environmental engineering
– Chemical engineering
– Agricultural engineering
– Paper engineering

मेनेजमेंट इंजीनियरिंग डिग्री के प्रकार (Management engineering degree type)

– Systems engineering
– Industrial engineering
– Manufacturing engineering

जियोटेक्निकल इंजीन्यरिंग के प्रकार (Geo technical engineering type)

– Geological engineering
– Marine engineering
– Mining engineering
– Ceramics engineering
– Photonics engineering
– Geomatics engineering
– Nuclear engineering
– Nanotechnology engineering
– Metallurgical engineering
– Petroleum engineering
– Project Management engineering

(नोट: यह लेख आपकी समझ बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. इंजीनियरिंग करना चाहते हैं तो पहले किसी करियर काउंसलर से सलाह जरूर लें.)

error: Content is protected !!