HDFC Future bankers Program: एचडीएफ़सी में नौकरी के लिए कैसे अप्लाई करें?

बैंक में नौकरी चाहिए तो आप एचडीएफ़सी फ्यूूचर बैंकर प्रोग्राम (HDFC Future Bankers Program) में हिस्सा लेकर एचडीएफ़सी बैंक (HDFC bank job) में नौकरी पा सकते हैं. HDFC भारत की तेजी से बढ़ने वाली प्राइवेट बैंक है. इस प्राइवेट बैंक का हिस्सा आप भी बन सकते हैं. हालांकि इसमें नौकरी पाना इतना भी आसान नहीं है क्योंकि आपको इसके सिलेक्शन प्रोसेस से होकर भी गुजरना पड़ेगा.

बैंक में नौकरी चाहिए तो आप एचडीएफ़सी फ्यूूचर बैंकर प्रोग्राम (HDFC Future Bankers Program) में हिस्सा लेकर एचडीएफ़सी बैंक (HDFC bank job) में नौकरी पा सकते हैं. HDFC भारत की तेजी से बढ़ने वाली प्राइवेट बैंक है. इस प्राइवेट बैंक का हिस्सा आप भी बन सकते हैं. हालांकि इसमें नौकरी पाना इतना भी आसान नहीं है क्योंकि आपको इसके सिलेक्शन प्रोसेस से होकर भी गुजरना पड़ेगा.

एचडीएफ़सी फ्युचर बैंकर प्रोग्राम क्या है? (What is HDFC Future Banker program?)

एचडीएफ़सी बैंक में हर साल कई सारी वेकेंसी (HDFC loan department vacancy) निकलती है. इन्हें सीधे तौर पर IBPS के जरिये नहीं भरा जाता. इन्हे भरने की ज़िम्मेदारी HDFC ने खुद ले रखी है. हालांकि ये एक प्राइवेट बैंक है तो इसमें लगने वाली नौकरी भी प्राइवेट होती है लेकिन इसमें सैलरी काफी अच्छी होती है.

HDFC Future bankers Program एक ऐसा प्रोग्राम है जिसमें आपको HDFC bank में एक अधिकारी बनने के लिए तैयार किया जाता है. इसमें आपकी एक साल की ट्रेनिंग होती है जिसमें से 6 महीने की पढ़ाई होती है और 6 महीने इन्टरन्शिप होती है. जब ये पूरा हो जाता है तो आपको पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन सेल्स एंड रिलेशनशिप बैंकिंग (Post graduate diploma in sales and relationship banking) में मिल जाता है.

एचडीएफ़सी फ्युचर बैंकर प्रोग्राम सिलेक्शन प्रोसेस (HDFC Future Banker program selection process)

HDFC Future bankers program में हिस्सा लेने के लिए आपको सबसे पहले एक फॉर्म भरना पड़ेगा. ये फॉर्म आपको इस लिंक पर मिल जाएगा. (https://futurebankers.myamcat.com/candidate/home/registration)

इसके बाद आपको इस फॉर्म की फीस देनी होती है जो लगभग 550 रुपये होती है. इस फॉर्म को भरने के बाद आपका एक ऑनलाइन एक्जाम लिया जाता है जिसे आप अपने घर बैठकर ही दे सकते हैं. ये एक्जाम अन्य बैंकिंग एक्जाम की तरह ही होता है. फॉर्म भरते समय आपको इसके एक्जाम की जानकारी भी मिल जाती है.

एक्जाम देने के बाद एक्जाम का रिजल्ट आने में 10 या 15 दिन लगते हैं. इसके बाद आपका एक इंटरव्यू होता है जिसे किसी नजदीकी एचडीएफ़सी बैंक की ब्रांच में लिया जाता है. इस इंटरव्यू की तैयारी अच्छे से करके जाएं. इस इंटरव्यू में अगर आप पास हो जाते हैं तो आपका चयन HDFC Future bankers program के लिए होता है.

एचडीएफ़सी फ्युचर बैंकर प्रोग्राम फीस (HDFC future bankers program fees)

HDFC Young bankers program को Manipal University Bangalore द्वारा करवाया जाता है. ये कोर्स पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन सेल्स एंड रिलेशनशिप बैंकिंग का होता है. इसे करने के लिए आपको 3.30 लाख रुपये + टैक्स देना होता है. इस फीस से आपकी एक साल तक की ट्रेनिंग होती है और आपका खाना और रहने का खर्च होता है.

आप चाहे तो इस पैसे को खुद भर सकते हैं या फिर एचडीएफ़सी खुद इसके लिए लोन दे देता है. लेकिन याद रहे की एचडीएफ़सी के इस लोन पर एचडीएफ़सी ब्याज भी लेता है और नौकरी देने पर वो आपकी सैलरी में से हर महीने इसे काट लेते हैं.

एचडीएफ़सी फ्युचर बैंकर प्रोग्राम कितने साल का है? (HDFC future bankers program period)

ये पूरे एक साल का कोर्स है. इस एक साल के कोर्स में 6 महीने आपकी क्लास में पढ़ाई होती है. इस पढ़ाई में आपको बैंकिंग और कस्टमर रिलेशन के बारे में बताया जाता है. मतलब आपको एक अच्छा बैंकर कैसे बनना है ये सिखाया जाता है.

इसके बाद 3 महीने किसी एचडीएफ़सी बैंक की ब्रांच में आपकी इंटर्नशिप होती है और इसके बाद 3 महीने तक आपको एचडीएफ़सी की किसी ब्रांच में जॉब ट्रेनिंग के लिए रखा जाता है. इसके बाद आपको एचडीएफ़सी में डेप्युटी मेनेजर की नौकरी मिलती है.

एचडीएफ़सी फ्युचर बैंकर प्रोग्राम सैलरी और स्टायपंड (HDFC future bankers program stipend)

1 साल तक जब आप इस कोर्स को करते हैं तो आपको इस कोर्स को करने के दौरान भी कुछ पैसा एचडीएफ़सी की तरफ से दिया जाता है जिसे आप सैलरी या फिर stipend कह सकते हैं.

शुरू के 6 महीने जब आप क्लासरूम ट्रेनिंग लेते हैं तब आपको 5000 रुपये प्रतिमाह दिये जाते हैं.

इसके बाद अगले 3 महीने जब आप इंटर्नशिप करते हैं तो आपको 10 हजार रुपये महीने दिये जाते हैं.

इसके बाद 3 महीने जब आप जॉब ट्रेनिंग कर रहे होते हैं तो आपको 10 हजार रुपये महीने दिये जाते हैं.

1 साल के बाद जब आपकी ये पूरी ट्रेनिंग हो जाती है तो आपको एचडीएफ़सी बैंक की किसी ब्रांच में आपको नौकरी दी जाती है. शुरू में आपको इसमें सीधे मैनेजर नहीं बनाया जाता है. पहले आपको डेप्युटी मैनेजर या फिर उसी के लेवल का कोई अधिकारी बनाया जाता है फिर आपकी काबिलियत और आपके द्वारा किए गए काम को देखते हुए कुछ सालों में आपको मैनेजर बनाया जाता है.

यह भी पढ़ें :

Digital India Internship : डिजिटल इंडिया इंटर्नशिप प्रोग्राम क्या है?

NCVT vs SCVT : NCVT तथा SCVT क्या है, दोनों में क्या अंतर है?

SBI Clerk Vacancy : एसबीआई क्लर्क कैसे बनें, एसबीआई क्लर्क की तैयारी कैसे करें?

error: Content is protected !!