होम लोन (Home loan) कैसे लें, क्या है होम लोन के नियम?

अपना खुद का एक घर हो ये सपना सभी का होता है लेकिन घर लेना कोई आम बात नहीं है. बहुत सारे लोग इसे खरीदने के लिए इतना पैसा इक्ट्ठा नहीं कर पाते. ऐसे में उनके लिए होम लोन एक बेस्ट ऑप्शन रहता है. होमलोन लेने का क्या तरीका है (How to apply for home loan) और इसे लेते वक्त किन बातों का ध्यान रखा जाता है. ये सारी जानकारी आप इस लेख में पढ़ेंगे.

2 357

अपना खुद का एक घर हो ये सपना सभी का होता है लेकिन घर लेना कोई आम बात नहीं है. बहुत सारे लोग इसे खरीदने के लिए इतना पैसा इक्ट्ठा नहीं कर पाते. ऐसे में उनके लिए होम लोन एक बेस्ट ऑप्शन रहता है. होमलोन लेने का क्या तरीका है (How to apply for home loan) और इसे लेते वक्त किन बातों का ध्यान रखा जाता है. ये सारी जानकारी आप इस लेख में पढ़ेंगे.

होम लोन कैसे लें? (How can I get a bank loan for a house?)

सम्बंधित लेख - पढ़िए

होम लोन लेने का तरीका (Easy way of home loan) बड़ा आसान है. लेकिन इसके लिए आपके सारे डाॅक्यूमेंट सही होना चाहिए. इसके अलावा बैंक आपको आपकी सैलरी के हिसाब से होम लोन देती है. जितनी आपकी सैलरी होगी उसी क्षमता के हिसाब से आपको होम लोन दिया जाएगा. यहां आपके घर की कीमत लोन में मैटर नहीं करती. अगर घर की कीमत 1 करोड़ रूपए है और आप महीने का 5000 कमाते हैं तो आपको बैंक इतना लोन नहीं देगी.

होम लोन में कितना लोन मिलता है? (Amount of home loan)

होम लोन में मिलने वाली राशि आपकी कमाई और मकान की क़ीमत पर निर्भर करती है. वैसे अगर आपकी कमाई अगर ये दर्शा दे कि आप उस घर की क़ीमत के लोन के चुकाने के काबिल है तो आपको घर की क़ीमत का 80 से 90 प्रतिशत हिस्सा लोन में मिल जाता है. इसमें पहले आपसे 10-20 प्रतिशत तक डाउनपेमेंट करवा लिया जाता है जो आपकी ओर से सहयोग राशि होती है.

होम लोन के लिए जरूरी डाॅक्यूमेंट क्या है? (What is the eligibility for home loan?)

होम लोन लेने के लिए बैंक द्वारा मांगे गए सभी डाॅक्यूमेंट होना अनिवार्य है. (Documents for home loan) बैंक में लोन देते समय अच्छी तरह आपको डाॅक्यूमेंट के बारे में बताया जाता है फिर भी कोई दिक्कत आ रही है तो बैंक के एजेंट आपकी मदद करते हैं. होम लोन लेने के लिए आपको बैंक द्वारा दिया गया फाॅर्म भरना होता है जिसके साथ आपको आपकी फोटो लगानी पड़ती है. इसके अलावा आइडेंटिटी और रेसिडेंशियल प्रूफ, ऑफिस तथा खुद के द्वारा सत्यापित सैलरी स्लिप, आयकर रिटर्न, बैंक का पिछले माह का विवरण देना पड़ता है.

कैसे बनती है होमलोन की ईएमआई? (Home loan emi calculator)

आपका होम लोन जब आपको मिल जाता है तो आपकी उधार ली गई राशि पर ब्याज समय के हिसाब से लगाया जाता है. इसे कैल्कुलेट करने के लिए आप साधारण ब्याज का फाॅर्मूला लगा सकते हैं. यहां ब्याज तथा मूलधन को जोड़कर समय से विभाजित किया जाता है. उसके बाद मासिक किश्तें बनाई जाती है. इसे आप ईएमआई के रूप में भरते हैं. आपकी ईएमआई में सबसे बड़ा रोल ब्याज दर का रहता है जो हर तीन महीने में बदलती रहती है.

होमलोन में रकम कैसे मिलती है? (How to get home loan amount)

होम लोन लेने के दौरान जब आपका डाॅक्यूमेंटेशन पूरा हो जाता है तो उसके बाद बैंक द्वारा लोन को अप्रूव किया जाता है. होम लोन में मिलने वाली रकम आपको एक मुश्त या कुछ किश्तों में मिल सकती है. ये अधिकतम तीन किश्तों में मिलती है. किसी अंडर कंस्ट्रक्शन प्राॅपर्टी के मामले में लोन की रकम कंस्ट्रक्शन की प्रगति के हिसाब से दी जाती है.

क्या होम लोन के लिए इंश्योरेंस लेना चाहिए? (Home loan insurance)

होम लोन के लिए इंश्योरेंस लेना या न लेना आपकी इच्छा पर निर्भर करता है लेकिन जानकारों की मानें तो आपको इसे ले लेना चाहिए. इससे आप होम लोन के जोखिम को कवर कर सकते हैं. किसी वजह से आपके न रहने की हालात में परिवार के लिए ये बड़ी राहत हो सकती है. इसके लिए आप टर्म प्लान या फिर मोरगेज इंश्योरेंस ले सकते हैं. इसमें आपको सिंगल प्रीमियम और रेगुलर प्रीमियम दोनो ऑप्शन मिलते हैं.

नोट: यह लेख आपकी जानकारी के लिए साझा किया गया है. होम लोन लेने से पहले आप बैंक से अच्छी तरह पूरी प्रक्रिया को समझें इसके बाद ही लोन लेन पर विचार करें. इसके साथ ही जहां आपको ब्याजदर कम दिखे वहीं से लोन लें.