खुजली का इलाज और घरेलू उपाय

खुजली (Itching) किसी के भी शरीर में हो सकती है. ये किसी कीड़े के काटने से, त्वचा में सूखापन होने, आंतरिक समस्याओं से या फिर किसी चीज की एलर्जी से. खुजली की शुरुवात आम होती है जिसमें खुजली चलती है और इसका गंभीर परिणाम कैंसर तक हो सकता है. कैंसर होना खुजली की प्रकृति पर निर्भर करता है. खुजली होने के कारण कई हो सकता हैं और इनका इलाज (itching treatment) भी आप करवा सकते हैं.

0 314

खुजली (Itching) किसी के भी शरीर में हो सकती है. ये किसी कीड़े के काटने से, त्वचा में सूखापन होने, आंतरिक समस्याओं से या फिर किसी चीज की एलर्जी से. खुजली की शुरुवात आम होती है जिसमें खुजली चलती है और इसका गंभीर परिणाम कैंसर तक हो सकता है. कैंसर होना खुजली की प्रकृति पर निर्भर करता है. खुजली होने के कारण कई हो सकता हैं और इनका इलाज (itching treatment) भी आप करवा सकते हैं.

खुजली के कारण

खुजली होने के कई सारे कारण (itching causes) हो सकते हैं जिन्हें ध्यान देने की जरूरत होती है. अगर आप ये जानते हैं की आपको किस कारण से खुजली (pruritus) हो रही है तो आप इसका इलाज कर पाएंगे या करवा पाएंगे.

– कई बार AC और हीट में ज्यादा समय तक रहने पर या फिर ज्यादा समय तक नहाने या कपड़े धोने पर त्वचा शुष्क हो जाती है जिसके कारण त्वचा पर खुजली (skin allergy) होने लगती है और त्वचा सुख जाती है और उस पर लाल निशान पड़ जाते हैं.

– खुजली कई बार आंतरिक रोगों (itching causes) के कारण भी हो सकती है जैसे लिवर रोग, किडनी का विफल होना, खून की कमी होना, थाइरायड, कैंसर, ल्यूकेमिया जैसी बीमारी.

– आप जो ब्यूटी प्रॉडक्ट (itching due to beauty products) लगते हैं उसके कारण भी आपको एलर्जी हो सकती है और त्वचा पर खुजली जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है.

– यदि आप किसी दवाई का सेवन कर रहे हैं तो हो सकता है की उसके कारण या उसके दुष्परिणाम स्वरूप आपको खुजली हो.

– कई बार त्वचा में विभिन्न स्थितियाँ होने से भी खुजली चलती है जैसे – एक्ज़िमा, स्केबीज, सोरायसिस, चिकनपोक्स.

खुजली से बचाव

खुजली से बचाव (prevention from itching) के कई तरीके हैं लेकिन इसके तरीके इस बात पर निर्भर करते हैं की आपको किस तरह की खुजली है या फिर खुजली का कारण क्या है(reason of itching)? खुजली से बचाव निम्न तरीके से कर सकते हैं.

– शरीर में खुजली ना हो इसलिए स्किन क्रीम (skin cream for itching) या फिर लोशन लगाएँ. इससे शरीर में नमी बनी रहती है और त्वचा शुष्क नहीं बनती. अधिकतर खुजली का कारण त्वचा का शुष्क होना ही होता है.

– गर्मी के मौसम में सनबर्न से बचने के लिए नियमित रूप से सन्सक्रीम लगाएँ.

– नहाने के लिए ऐसे साबुन का इस्तेमाल करें जिसकी प्रकृति मुलायम हो और उसे लगाने के बाद आपकी त्वचा पर कोई जलन या रिएक्शन ना हो.

– नहाने के लिए ज्यादा गरम पानी का उपयोग ना करें. नहाने के लिए हल्का गरम या गुनगुना पानी ले.

– ऊनी कपड़ों को पहनने से बचें. बिस्तर पर सूती चादर बिछाएँ और सूती कपड़े ही पहने.

– अगर आपके शरीर में खुजली हो रही है तो उसे खुजलाने की बजाय उस पर गीला कपड़ा रखें या फिर बर्फ रखें.

खुजली का इलाज

खुजली कोई ऐसी बीमारी नहीं है जिसका इलाज (itching treatment) संभव नहीं है लेकिन इसका इलाज करवाने के लिए आपको सही समय पर डॉक्टर की सलाह लेना या फिर इसकी रोकथाम करना जरूरी है. अगर आपको खुजली हो रही है और ये घरेलू उपाय (itching home remedy) अपनाने के बाद भी ठीक नहीं हो रही है तो आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

खुजली का इलाज खुजली की क्रीम (itching cream), खुजली की गोली (itching tablet), खुजली के लोशन (itching lotion) के जरिये किया जाता है. इसके लिए आप किसी व्यक्ति का परामर्श लेने से अच्छा किसी डॉक्टर का परामर्श लें. वे आपकी खुजली की प्रकृति को समझते हुए आपको सही दवा देंगे.

खुजली के घरेलू उपाय

अगर खुजली सामान्य है और शुष्क त्वचा के कारण हो रही है तो आप उसके लिए घरेलू उपाय कर सकते हैं. खुजली के घरेलू उपाय (home remedy for itching) निम्न हैं.

– खुजली को रोकने के लिए आप ठंडे पानी या फिर बर्फ का उपयोग कर सकते हैं. आपको जहां खुजली हो रही है आप वहाँ ठंडे पानी की पट्टी लगाएँ या फिर बर्फ लगाएँ. खुजली में राहत मिलेगी.

– खुजली को रोकने के लिए आप नींबू रस का भी उपयोग कर सकते हैं. आप नींबू रस को रुई में भिगोकर प्रभावित जगह पर लगाएँ और फिर उसे सूखने दें. इसके बाद गुनगुने पानी से साफ कर लें.

– खुजली को रोकने के लिए आप एलोवेरा का उपयोग कर सकते हैं. आप खुजली प्रभावित त्वचा पर एलोवेरा जेल को लगाएँ और 15 मिनट के लिए लगा रहने दे फिर गुनगुने पानी से उसे धो लें. ऐसा दिन में एक बार करें.

– खुजली मिटाने के लिए आप नारियल तेल से प्रभावित त्वचा पर मसाज करें. इससे आपकी त्वचा नम हो जाएगी और फिर खुजली कम हो जाएगी. आप चाहे तो नारियल तेल में कपूर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

नोट: यह लेख आपकी जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि आप संबंधित बीमारी से ग्रस्त हैं अथवा बीमारी के लक्षण महसूस होते हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. बिना चिकित्सकीय सलाह के किसी भी तरह के उपाय ना करें और बीमारी को लेकर धारणा ना बनाएं. ऐसा करना सेहत के लिए नुकसानदायक है.

यह भी पढ़ें : 

Typhoid fever treatment : टाइफाइड बुखार के लक्षण, इलाज और परहेज

Chickenpox treatment : छोटी माता (चिकन पॉक्स) के लक्षण, बचाव और परहेज

Piles (Hemorrhoids) : बवासीर से कैसे बचें, लक्षण, इलाज और घरेलू उपाय

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!