L.L.B. Course: 12वी और ग्रेजुएशन के बाद लॉ कोर्स कर बनें दिग्गज वकील

LL.B. का मतलब होता है बैचलर ऑफ लॉ. law courses online भी है. इसके अलावा आप लॉ में डिप्लोमा कोर्सेस भी कर सकते हैं. (diploma courses in law for  undergraduate) यदि आप 12वीं के बाद law course करना चाहते हैं तो इसमें आप 5 साल का एलएलबी कोर्स भी कर सकते हैं.

0 814

सामाजिक न्याय के लिए लड़ना और निर्दोष और बेगुनाहों को न्याय दिलाना एक मानवीय कर्तव्य है. हमारे देश की अदालतों में वकीलों, जजों की भारी कमी है. लाखों केस पेंडिंग पड़ेे  हैं और करोड़ों लोग आज भी अदालतों में अपना केस लिए तारीख दर तारीख चक्कर लगा रहे हैं.

बहरहाल, अदालतों में अच्छे वकीलों, जजों की यही कम आज के दौर में वकील और  वकालात के पेशे में युवाओं के लिए करियर की नई संभावना खोलती है. वह जमाना बीत गया जब वकील अच्छी फीस और केसों की कमी से जूझते थे और इस पेशे को प्रोफेशनल  लाइफ और करियर के लिहाज से अच्छा नहीं माना जाता था. आज के दौर में जहां क्लाइंट की कमी नहीं है और ऊपर से दिग्गज लॉ फर्म युवाओं को बेहतर नौकरी, सुविधाएं भी  प्रदान कर रही हैं. legal sector में Profestional degrees bachelor of law और master of law हैं.

सम्बंधित लेख - पढ़िए

कैसे करें LLB(professional law courses)

LL.B. का मतलब होता है बैचलर ऑफ लॉ. law courses online भी है. इसके अलावा आप लॉ में डिप्लोमा कोर्सेस भी कर सकते हैं. (diploma courses in law for  undergraduate) यदि आप 12वीं के बाद law course करना चाहते हैं तो इसमें आप 5 साल का एलएलबी कोर्स भी कर सकते हैं. वहीं तीन साल का law course करने  के लिए आपको स्नातक यानी की graduation करना होगा.

law course admission से पहले आपको L.L.B. entrance exam देनी होगी. यही नहीं आप law  graduation के बाद master of law भी प्लान कर सकते हैं. यही नहीं लॉ करने के बाद आप चाहें तो एकेडमिक में भी करियर बना सकते हैं और आगे पीएचडी (phd in  international law) भी प्लान कर सकते हैं. खास बात यह है कि लॉ करने के बाद आपको प्रैक्टिस पर फोकस करना होगा. इसके लिए आपको youth bar association  of india में रजिस्ट्रेशन कराना होगा.

ऐस रहेगा लॉ पाठ्यक्रम law courses in india after graduation
LLB- 3 साल
BA.LLB-Honours- 5 साल
BSE. LLB-Honours-5 साल
B.COM LLB-Honours-5 साल
LLM and PHD

लॉ के अंतर्गत आने वाले कोर्स (Law courses and stream)
लॉ के अंतर्गत केवल एक ही स्ट्रीम नहीं है बल्कि इसके अंतर्गत भी कई कानून की कई शाखाएं विभाजित हैं. दरअसल, यदि आप लॉ में करियर बनाना चाहते हैं तो आप विषय विशेष के वकील हो सकते हैं. आइए आपको बताते हैं लॉ के अंतर्गत आप कौन सा कोर्स कर सकते हैं. जो उम्मीदवार लॉ करना चाहते हैं उनको बता दें कि लॉ के अंतर्गत कई कोर्स आते हैं।

क्रिमिनल लॉ (criminal law course)
क्रिमिनल लॉ के अंतर्गत आपको लॉ की स्टडी करनी होगी. इसमें अपराध शास्त्र को विस्तार और गहनता के साथ अध्ययन करना होगा.

कॉरपोरेट लॉ (corporate law course)
corporate law course जैसा की नाम से ही पता चलता है कि इसमें कॉर्पारेट और कंपनी से जुड़े मामलों में न्याय प्रक्रिया की जानकारी हासिल करनी होती है. यह एक बेहद शानदारा करियर वाला पेशा है. इसमें पैसे भी हैं और शौहरत भी. इसमें फाइनांस, कंपनी संबंधी नियमों, प्रावधानों और टैक्स लाइसेंस संबंधी चीजों का अध्ययन किया जाता है.

पेटेंट अटॉर्नी (patent attorney course)
patent attorney course में किसी प्रॉडक्ट, वस्तु अथवा उस पर पेटेंट संबंधी मामलों का अध्ययन होता है. न्याय भी इसी क्षेत्र में दिलाना होता है.

साइबर लॉ (cyber law course)
आज के डिजिटल समय में cyber law course की डिमांड बहुत ज्यादा है. इंटरनेट की दुनिया में धोखाधड़ी और अपराध तेजी से बढ़ रहा है. लिहाजा साइबर वकील बनकर आप अच्छा करियर बना सकते हैं.

फैमिली लॉ (family law course)
महिलाओ के लिए family law course एक अच्छा करियर ऑप्शन है. तलाक के मामले, महिलाओं के अधिकारों, हिंसा और पर्सनल लॉ की सारी चीजें यहीं डील होती हैं.

बैंकिंग लॉ (banking law course)
banking law course से आप पहले से विदित होंगे. इसकी भी इन दिनों बहुत डिमांड बढ़ी हुई है. बैंकिंग, लोन, लोन रिकवरी के अलावा कई तरह के फाइनेंशियल मैटर्स को बैंकिंग लॉयर्स द्वारा यहां डील किया जाता है.

टैक्स लॉ (tax courses) 
tax courses में tax lawyer की बहुत ज्यादा डिमांड है. इस समय तो यह करियर तेजी से आगे बढ़ रहा है. खासतौर पर GST आने के बाद.

 

(नोट: यह लेख आपकी जानकारी बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि LLB Course करना चाहते हैं तो पहले किसी करियर काउंसलर की सलाह लें.) 

error: Content is protected !!