Safed Musli Benefits: सफ़ेद मूसली का सेवन कैसे करें, सफ़ेद मूसली के फायदे

सफ़ेद मूसली (Safed Musli) एक गुणकारी जड़ी-बूटी है. ये एक दुर्लभ जड़ी-बूटी है जो आमतौर पर भारत के जंगलों में पाई जाती है. ये एक प्रकार का पौधा होता है जिसमें सफ़ेद फूल होते हैं. आयुर्वेद चिकित्सा में इसे व्हाइट गोल्ड या दिव्य औषधि कहा जाता है.

सफ़ेद मूसली (Safed Musli) एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जिसका उपयोग खासतौर से पुरुषों को अवश्य करना चाहिए. सफ़ेद मूसली के सेवन (Safed Musli uses) से उन्हें शारीरिक ताकत के अलावा उनकी यौन शक्ति में भी बढ़ोत्तरी होती है. यही वजह है की कई पुरुष सफ़ेद मूसली का सेवन करते हैं. सफ़ेद मूसली के सेवन से पहले हमें ये जान लेना चाहिए की सफ़ेद मूसली का सेवन कैसे करें? (How to use safed musli?) सफ़ेद मूसली के क्या लाभ हैं? (Safed musli benefits) सफ़ेद मूसली के क्या नुकसान हैं? (Safed musli disadvantage)

सफ़ेद मूसली क्या है? (Safed Musli in hindi)

सफ़ेद मूसली (Safed Musli) एक गुणकारी जड़ी-बूटी है. ये एक दुर्लभ जड़ी-बूटी है जो आमतौर पर भारत के जंगलों में पाई जाती है. ये एक प्रकार का पौधा होता है जिसमें सफ़ेद फूल होते हैं. आयुर्वेद चिकित्सा में इसे व्हाइट गोल्ड या दिव्य औषधि कहा जाता है.

सफ़ेद मूसली के फायदे (Safed Musli Benefits in Hindi)

1) यौन शक्ति बढ़ाने की दवा (paurush shakti badhane ke upay)

कई पुरुष यौन शक्ति को लेकर चिंतित रहते हैं. सफ़ेद मूसली यौन कमजोरी को दूर करने में काफी सहायक होती है. सफ़ेद मूसली यौन अंगों को जवान व स्वस्थ रखती है और अच्छे शुक्राणुओं के उत्पादन को बढ़ावा देती है. यदि आपमें यौन शक्ति की कमी है तो आप सफ़ेद मूसली का सेवन कर सकते हैं. इसका उपयोग शीघ्रपतन, अल्पशुक्राणुता में किया जा सकता है. इसे नपुसंकता के लिए भी कारगर इलाज माना जाता है.

2) बांझपन का इलाज (banjhpan ka ilaaj)

बांझपन किसी भी महिला या पुरुष के लिए किसी अभिश्राप से कम नहीं है. इसका इलाज सफ़ेद मूसली को माना जाता है. प्राचीन युग से ही सफ़ेद मूसली को बांझपन दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है. यह बांझपन से जुड़े विकारों को दूर करने में सहायता करती है.

3) गर्भावस्था में सफ़ेद मूसली (Safed Musli use in Pregnancy)

सफ़ेद मूसली गर्भावस्था में और गर्भावस्था के बाद दोनों में काफी फायदेमंद होती है. गर्भावस्था के दौरान ये माँ और बच्चे दोनों को सेहतमंद रखती है और गर्भावस्था के बाद ये माँ को सारे खोये हुए शरीर के तत्व और ताकत को लौटा देती है. इससे शरीर में पुरानी खोई हुई ताकत आ जाती है जिससे महिलाओं में कमजोरी नहीं रहती. सफ़ेद मूसली स्तनपान में भी सहायक होती है इससे महिलाओं में दूध की मात्र अधिक हो जाती है.

4) इम्यूनिटी के लिए बेस्ट दवा (Immunity booster safed musli)

सफ़ेद मूसली एक ताकतवर दवा है. इसका उपयोग शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी किया जाता है. ये आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है. इसका उपयोग ज़्यादातर दमा के रोगियो के लिए किया जाता है.

5) मधुमेह की दवाई (Safed musli use for diabetes)

मधुमेह के लिए भी सफ़ेद मूसली एक प्रभावी औषधि है. सफ़ेद मूसली आपके शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ती है और मधुमेह को नियंत्रण में रखती है. इससे ब्लड में शुगर का लेवल भी नियंत्रित रहता है.

6) सफ़ेद मूसली को मोटापा घटाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है. माना जाता है की ये फालतू वसा को शरीर से बाहर निकालती है जिससे मोटापा कम हो जाता है.

7) सफ़ेद मूसली श्वेत प्रदर में भी फायदेमंद होती है. ये स्त्रियों में एक बहुत ही आम विकार है.

सफ़ेद मूसली के नुकसान (Safed musli disadvantage)

सफ़ेद मूसली एक बहुत ही फायदेमंद औषधि है और इसका सीमित प्रयोग किया जाए तो ये आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचाती. जब इसका अधिक मात्रा में सेवन किया जाता है तब ये आपके पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचाती है. इसके अधिक सेवन से आपकी पाचन शक्ति पर असर पड़ सकता है. तथा इससे संबन्धित रोग आपके शरीर में हो सकते हैं.

सफ़ेद मूसली खाने का तरीका (How to use safed musli)

सफ़ेद मूसली हमारे लिए बहुत फायदेमंद है लेकिन तब जब आप उसका सही मात्रा में सेवन करें. सफ़ेद मूसली आपको अपनी उम्र के हिसाब से खाना चाहिए.

13 साल तक के बच्चों को 1 ग्राम सफ़ेद मूसली का सेवन करना चाहिए. इन्हें इससे अधिक न दें.
13 से 19 साल के किशोरों को 1.5 ग्राम से 2 ग्राम मूसली का सेवन करें.
19 से 60 वर्ष के वयस्क 3 से 6 ग्राम मूसली का सेवन कर सकते हैं. वृद्धावस्था में आप 2 से 3 ग्राम सफ़ेद मूसली का सेवन कर सकते हैं.
गर्भावस्था में आप 1 से 2 ग्राम सफ़ेद मूसली का सेवन कर सकते हैं.

सफ़ेद मूसली का सेवन आप प्रतिदिन कर सकते हैं. इसका सेवन सुबह और शाम को खाना खाने के दो घंटे बाद गुनगुने पानी में दूध के साथ कर सकते हैं. आप पूरे दिन में दो बार इसका उपयोग कर सकते हैं लेकिन ध्यान रहें अगर आपको भूख कम लग रही है तो आप इसकी खुराक कम कर दें.

यह भी पढ़ें :

Makhana Benefits: मखाने खाने के फायदे और नुकसान

Triphala Benefits: त्रिफला की सेवन विधि और त्रिफला के फायदे?

अश्वगंधा के फायदे, अश्वगंधा की तासीर कैसी होती है?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!