Single use plastic : सिंगल यूज प्लास्टिक क्या है, कैसे पहचाने और कितना नुकसानदायक है?

सिंगल यूज प्लास्टिक (single use plastic) को प्रतिबंधित करने की बात भारत में कही जा रही है लेकिन सरकार ने इसे प्रतिबंधित नहीं किया. सरकार का कहना है की सिंगल यूज प्लास्टिक (about single use plastic) के बारे में पहले लोगों को जागरूक करना चाहिए ताकि वे खुद इसका उपयोग कम करें. ये सब अपनी जगह ठीक है लेकिन अभी भी कई लोग इस बात को नहीं जानते हैं की सिंगल यूज प्लास्टिक क्या होता है (what is single use plastic)? हम में से कई लोग ऐसे हैं जो सिंगल यूज प्लास्टिक को पहचानते भी नहीं है और रोज उसका उपयोग करते हैं.

0 39

सिंगल यूज प्लास्टिक (single use plastic) को प्रतिबंधित करने की बात भारत में कही जा रही है लेकिन सरकार ने इसे प्रतिबंधित नहीं किया. सरकार का कहना है की सिंगल यूज प्लास्टिक (about single use plastic) के बारे में पहले लोगों को जागरूक करना चाहिए ताकि वे खुद इसका उपयोग कम करें. ये सब अपनी जगह ठीक है लेकिन अभी भी कई लोग इस बात को नहीं जानते हैं की सिंगल यूज प्लास्टिक क्या होता है (what is single use plastic)? हम में से कई लोग ऐसे हैं जो सिंगल यूज प्लास्टिक को पहचानते भी नहीं है और रोज उसका उपयोग करते हैं.

सिंगल यूज प्लास्टिक क्या है? (what is single use plastic?)

प्लास्टिक का सीधा सा मतलब हम ये समझते हैं की ये वो मटेरियल है जिससे हमारी पॉलिथीन, डिब्बे, कंटेनर आदि बनते हैं. लेकिन प्लास्टिक तो कई तरह का होता है. सभी ने देखा है. कोई प्लास्टिक कडक होता है तो कोई प्लास्टिक एक दम नरम होता है. अब ऐसे में ये कहना तो गलत होगा की प्लास्टिक एक ही तरह का होता है. दरअसल प्लास्टिक कई तरह का होता है जिसे अलग-अलग चीजों के लिए उपयोग किया जाता है. सिंगल यूज प्लास्टिक (single use plastic) उसी में से एक प्रकार है.

सिंगल यूज प्लास्टिक का मतलब (single use plastic meaning)ऐसा प्लास्टिक जिसे सिर्फ एक बार ही उपयोग किया जा सके. अगर आपने इसे एक बार से ज्यादा उपयोग किया (why is single use plastic bad) तो ये आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है. सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग (benefits of single use plastic) हम अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में सबसे ज्यादा करते हैं. इसे हम पॉलिथीन, स्ट्रॉ, कॉफी मग आदि में करते हैं. इनका उपयोग हम बस एक बार करते हैं और फेक देते हैं. यही होते हैं सिंगल यूज प्लास्टिक.

सिंगल यूज प्लास्टिक को कैसे पहचाने? (Single use plastic identification)

सिंगल यूज प्लास्टिक (single use plastic) को पहचानना काफी आसान काम है. आपने कभी कोई प्लास्टिक का सामान लिया हो तो उसके निचले हिस्से पर एक निशान बना देखा होगा जो त्रिभुज के आकार का होता है और उसके अंदर एक नंबर लिखा होता है. इस निशान को रेजिन आइडेंटिफिकेशन कोड (RIC) कहते हैं. इसी के जरिये आप पहचान सकते हैं की ये सिंगल यूज प्लास्टिक है या फिर कोई और प्लास्टिक.

अगर आपको ये जानना है की ये प्लास्टिक सिंगल यूज प्लास्टिक (single use plastic) है या नहीं तो इसके लिए उस प्लास्टिक के प्रॉडक्ट पर इस निशान को देखिये. अगर आपको त्रिभुज के अंदर 1 नंबर या फिर 6 नंबर दिखाई देता है तो ये सिंगल यूज प्लास्टिक है. इसे आपको उपयोग करके फेंकना है. फिर से इसका उपयोग आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है.

सिंगल यूज प्लास्टिक क्यों प्रतिबंधित कर रहे हैं? (Single use plastic problem)

सिंगल यूज प्लास्टिक को प्रतिबंधित करने की बात इसलिए कही जा रही है क्योंकि प्लास्टिक को पूरी तरह खत्म करना लगभग मुश्किल सा होता है. प्लास्टिक आसानी से गलता नहीं है और सालों तक इसका अस्तित्व रहता है. जब हम किसी प्लास्टिक को खरीदते हैं तो उसका उपयोग बस एक बार करते हैं और उसे फेक देते हैं. इसके बाद उसका कोई काम नहीं रहता. वो पास प्रदूषण बन कर रह जाता है. इसे रीसाइकल भी नहीं किया जा सकता क्योंकि उससे इसकी गुणवत्ता खराब हो जाती है. ऐसे में इसके कारण देश में प्रदूषण का स्तर तेजी से बढ़ता जाता है. इस वजह से सिंगल यूज प्लास्टिक को देश में कम उपयोग करने की बात की जा रही है.

सिंगल यूज प्लास्टिक बैन प्रॉडक्ट (single use plastic ban in india)

केंद्र सरकार की ओर से 5 ऐसे प्रॉडक्ट हैं जिन्हें बैन करने की बात कही गई है. सिंगल यूज प्लास्टिक के अंतर्गत आने वाले ये प्रॉडक्ट निम्न हैं कैरिबेग, प्लास्टिक-थरमकोल के कटलरी आइटम, 200 एमएल से छोटे बोतल, पानी के पाउच, स्ट्रॉ. इन्हें बैन तो कर दिया गया है लेकिन अब दुकानदार के लिए परेशानी खड़ी हो गई है और उन्हें इनके विकल्प की तलाश करनी पड़ रही है.

यह भी पढ़ें :

Online FIR : ऑनलाइन एफ़आईआर करने का तरीका

कितना असुरक्षित है रेलवे स्टेशन-एयरपोर्ट और पब्लिक प्लेस पर फ्री Wifi यूज करना

Find my lost phone : फोन चोरी होने पर क्या करें, फोन चोरी होने का हेल्पलाइन नंबर जारी

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!