Dengue fever : डेंगू के लक्षण और उपचार? डेंगू से बचाव के लिए क्या करें?

बारिश के दिनों में मच्छरों के कारण काफी सारी बीमारियांं फैलती हैंं, उन्हीं बीमारी में से एक है डेंगू बुखार (dengue fever).ये डेंगू वायरस से संक्रमित मच्छर (dengue mosquito) के काटने से होता है.

बीते कुछ सालों में डेंगू बुखार ने पूरे देश में कहर बरपाया है. सामान्य तौर पर बारिश के बाद मच्छरों के पनपने से होने वाली यह बीमारी इतनी प्राणघातक सिद्ध हुई है कि इसने गरीब और अमीर का अंतर खत्म कर हर छोटे-बड़े को अपना शिकार बनाया है.

डेंगू एक जानलेवा बीमारी है और देश की राजधानी दिल्ली में इसका कहर कम साबित नहीं हुआ है. हालांकि सरकारी प्रयासों से और डेंगू को लेकर लगातार चलाए गए जागरूकता अभियानों से डेंगू की रोकथाम में अहम भूमिका निभाई है.

दरअसल, बारिश के दिनों में मच्छरों के कारण काफी सारी बीमारियांं फैलती हैंं, उन्हीं बीमारी में से एक है डेंगू बुखार (dengue fever).ये डेंगू वायरस से संक्रमित मच्छर (dengue mosquito) के काटने से होता है. डेंगू बुखार एक दर्दनाक और इंसान को अक्षम करने वाली बीमारी है. इसे हड्डी तोड़ बुखार (breakbone fever) भी कहा जाता है. डेंगू की समय पर रोकथाम करना काफी जरूरी है नहीं तो इसकी वजह से गंभीर परिणाम देखने को मिलते हैं.

डेंगू के लक्षण (Dengue symptoms)

डेंगू को पहचानने के लिए डेंगू के लक्षण (dengue fever symptoms) को जानना जरूरी है. डेंगू के लक्षण के निम्न हैं :-

– अचानक तेज बुखार का आना
– तेज ठंड लगना
– गंभीर सिरदर्द का होना
– मांसपेशियों में तथा जोड़ों में दर्द होना
– उल्टी होना
– त्वचा का लाल होना और साथ ही जलन का होना

डेंगू के कारण

डेंगू होने का कारण (dengue fever causes) मच्छर होते हैं. ये वे मच्छर होते हैं जो डेंगू वायरस से संक्रमित होते हैं. ये मुख्यतः एडिस मच्छरों को काटने से होता है. बारिश में सबसे ज्यादा केस डेंगू के देखे गए हैं. बारिश में गंदे पानी के कारण डेंगू के मच्छर पनपते हैं और बीमारी फैलाते हैं.

डेंगू से बचाव (Prevention of dengue fever)

डेंगू ऐसी बीमारी है जिसके लिए हम पहले से कुछ बचाव (dengue fever prevention) कर सकते हैं और इसके होने पर इसे नियंत्रित भी कर सकते हैं. डेंगू से बचाव के लिए निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं.

– घर में या फिर घर के आसपास पौधे, बाल्टी आदि में पानी इकट्ठा न होने दें. पानी को हमेशा ढक्कन बंद बर्तन में रखें. कहीं पानी भर जाए तो उसे तुरंत साफ करें. डेंगू के मच्छर जमा हुए पानी में ही पनपते हैं.
– अगर कहीं पर पानी भरा हुआ है जिसे साफ नहीं कर सकते तो वहाँ पर आप कुछ गप्पी मछलिया डाल सकते हैं. ये मछ्ली मच्छर, लार्वा और उनके अंडों को खा जाती है.
– मच्छरों के काटे जाने से बचें. पूरी आस्तीन के कपड़े पहने, मच्छरों को मारने वाली दवा का प्रयोग करें, घर को बंद करके रखें.
– शरीर पर हल्के रंग के कपड़े पहने. ज्यादा भड़कीले रंग के कपड़े पहनने से मच्छर आकर्षित होते हैं.
– शरीर पर इत्र या खुशबूदार लोशन न लगाएँ इससे मच्छर जल्दी आकर्षित होते हैं.

डेंगू का इलाज (Treatment of dengue fever)

डेंगू का बुखार एक वाइरस के कारण होता है इसलिए इसकी अभी तक कोई दवा नहीं है (dengue fever treatment). इसे ठीक करने के लिए इसके लक्षणों को ठीक करने पर ध्यान दिया जाता है और उन्हें ठीक करने की दवाई दी जाती है. डेंगू में डॉक्टर अधिक मात्र में तरल पदार्थ लेने के लिए कहते हैं क्योंकि इस बुखार में शरीर में पानी की कमी हो जाती है. इसके अलावा दर्द निवारक दवाएं दी जाती है जिनसे शरीर में हो रहे दर्द से छुटकारा मिल सके.

डेंगू के लिए घरेलू उपाय (Dengue fever home remedies in hindi)

डेंगू बुखार को कम करने के लिए आप कुछ घरेलू नुस्खे (dengue home remedy) भी आज़माए सकते हैं लेकिन ध्यान रहे की अगर बुखार बहुत ज्यादा है तो डॉक्टर को जरूर दिखाएँ. डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही इलाज करवाएँ.

– दुनियाभर में डेंगू के बुखार को कम करने के लिए मेथी के पत्ते को रामबाण इलाज माना जाता है. मेथी के पत्ते दर्द को कम करने और बुखार उतारने के काम आते हैं.
– डेंगू होने पर नीम के पत्तों का अर्क पीने से डेंगू बुखार ठीक होता है. नीम के सेवन से शरीर में ब्लड प्लेटलेट्स और सफ़ेद रक्त कोशिकाओं में वृद्धि होती है.
– संतरे के जूस से भी काफी हद तक डेंगू के बुखार के असर को कम किया जा सकता है.

नोट: यह लेख आपकी जानकारी और जागरूकता बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि आप संबंधित बीमारी से ग्रस्त हैं अथवा बीमारी के लक्षण महसूस होते हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. बिना चिकित्सकीय सलाह के किसी भी तरह के उपाय ना करें और बीमारी को लेकर धारणा ना बनाएं. ऐसा करना सेहत के लिए नुकसानदायक है.

यह भी पढ़ें :

Migraine treatment : माइग्रेन क्या होता है, लक्षण, घरेलू उपाय और इलाज?

Kidney stone treatment : पथरी के लक्षण, घरेलू इलाज और बचाव के तरीके

Cardio exercise : कार्डियो एक्सरसाइज़ क्या है, कार्डियो करने के फायदे?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!