Browsing Tag

happy Navratri 2018

नवरात्रि 2018: महाष्टमी पर करें राशि अनुसार मां दुर्गा का पूजन

नवरात्रि में की गई थोड़ी सी भी साधना आपको काफी फलदायक सिद्ध होती है. नवरात्रि के इस पावन पर्व  तो सभी दिन अपने आप में महत्वपूर्ण हैं, लेकिन महाष्टमी पर की गई पूजा और तप खास महत्व रखता है. महाष्टमी पर आप राशि और समय के अनुसार विधि पूर्वक पूजन कर आर्थिक या किसी भी अन्य प्रकार की परेशानी से छुटकारा पा सकते हैं.
Read More...

navratri 2018: क्या है नवरात्रि में कन्या पूजन का महत्व

हमारे देश में कन्याओं को देवी का रूप माना जाता है. शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि में कन्या पूजन करने का बहुत महत्व है. कन्या पूजन से माता रानी भी प्रसन्न होती…
Read More...

नवरात्रि 2018: मां कूष्मांडा की पूजा से मिलती हैं सिद्धियां

नवरात्रि के चौथे दिन माता के कूष्मांडा रूप का पूजन किया जाता है. अपनी मंद मुस्‍कान से 'अंड' यानी 'ब्रह्मांड' की उत्‍पत्ति करने के कारण माता को कूष्मांडा कहा…
Read More...

नवरात्रि 2018: शक्ति की भक्ति दिलाएगी समस्याओं से छुटकारा

मां आदिशक्ति की आराधना कर उनकी कृपा पाने का पर्व है नवरात्रि. वैसे तो साल में चार बार नवरात्रि आती हैं, लेकिन इनमें सबसे अधिक महत्त्व शारदीय नवरात्रि का है. शक्ति अर्जन के इस महापर्व के आगमन मात्र से ही प्रकृति के तमस समाप्त हो जाता है. नौ दिनों तक भक्त पूजा-पाठ कर देवी की कृपा प्राप्त करते हैं.
Read More...

नवरात्रि 2018: माँ शैलपुत्री और ब्रह्मचारिणी की भक्ति से…

शारदीय नवरात्रि का आरंभ हर साल आश्विन शुक्ल प्रतिपदा के दिन होता है. इस वर्ष 10 अक्टूबर, बुधवार को शारदीय नवरात्रि शुरू हो रही हैं. नवरात्रि के नौ दिनों में…
Read More...

Navratri 2018: संतान प्राप्ति का वर देती हैं माता कामाख्या

देश के 52 शक्ति पीठों में से एक है असम में स्थित मां कामाख्यादेवी देवी शक्तिपीठ. इस शक्तिपीठ में नवरात्रि के दौरान श्रद्धालु माता के दर्शनों के साथ ही जप-तप और…
Read More...

नवरात्रि 2018: शुभ मुहूर्त में करें देवी की स्थापना, विधि-विधान से करें पूजा

शारदीय नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना के साथ ही शक्ति के भक्ति पर्व की शुरुआत होती है. नवरात्रि पूजन में कलश स्थापना का बहुत महत्व है और इसलिए नवरात्रि के प्रथम दिन पूजा घर में कलश स्थापना की जाती है. कलश स्थापना का सही फल भी तभी प्राप्त होता है जब उसकी स्थापना उचित मुहूर्त में की जाए. 
Read More...
error: Content is protected !!