Browsing Category

धर्म-कर्म

राशि अनुसार चुनें पार्टनर, इन राशियों के लोग होते हैं परफेक्ट मैच

हर व्यक्ति चाहता है की शादी होने के बाद वो सुखी रहे. उसे एक अच्छा पार्टनर मिले. वो पार्टनर ऐसा हो जिसके साथ वो ज़िंदगी बिता सके. आप अपने लिए एक अच्छे पार्टनर का चुनाव राशि के आधार पर भी कर सकते हैं.

ज्योतिष में चन्द्र ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में चन्द्र का महत्व

चंद्रमा भले ही वैज्ञानिक दृष्टि से एक उपग्रह हो लेकिन ज्योतिषी इसे ग्रह मानते हैं और इसे स्त्री ग्रह कहा जाता है. चंद्रमा को मन का कारक माना गया है. इसकी वजह से हमारा मन स्थिर और चंचल होता है.

ज्योतिष में सूर्य ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में सूर्य का महत्व

सौरमंडल के केन्द्र में स्थित सूर्य पृथ्वी से काफी करीब है. सूर्य के कारण ही पृथ्वी पर जीवन सुचारु रूप से चल रहा है. ज्योतिष में सूर्य को एक क्रूर ग्रह का दर्जा दिया गया है लेकिन अगर ये किसी जातक पर प्रभावी होता है तो उसका समय भी बदल सकता…

ज्योतिष में केतु ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में केतु का महत्व

ज्योतिष में केतु एक बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह है. इसे एक छाया ग्रह माना जाता है. ये अपने साथ बैठे ग्रह के अनुसार ही फल देता है.

ज्योतिष में राहु ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में राहु का महत्व

राहु ग्रह को ज्योतिष में अशुभ ग्रह का दर्जा दिया गया है. ये जिनकी भी कुंडली में आ जाता है उनकी ज़िंदगी में काफी अशुभ घटनाएं होती है और उन्हें मुसीबतों का सामना करना पड़ता है.

ज्योतिष में शनि ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में शनि का महत्व

सौरमंडल का एक सबसे अलग ग्रह है शनि जिसके चारो ओर एक छल्लानुमा आकृति है. शनि को ज्योतिष में न्याय का देवता और कम का फल दाता कहा जाता है. यानि जैसे आपने कर्म किए है उसके अनुसार शनि आपको फल देता है.

ज्योतिष में शुक्र ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में शुक्र का फल

शुक्र को हमारे जीवन में प्रेम व सुख का कारक माना जाता है. इसकी स्थिति का आंकलन करके हम ये पता लगा सकते हैं कि आपकी ज़िंदगी में कब और कितना प्रेम आएगा.

ज्योतिष में गुरु ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में गुरु का फल

बृहस्पति ग्रह सौरमंडल का एक प्रमुख ग्रह है. ज्योतिष में बृहस्पति यानि गुरु को एक शुभ और मजबूत ग्रह माना जाता है. ये काफी शुभ परिणाम देता है. बृहस्पति सूर्य से पांचवे स्थान पर है और सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है. इसके 79 प्राकृतिक उपग्रह है.

ज्योतिष में बुध ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में बुध का फल

बुध को इंग्लिश में Mercury कहा जाता है. ज्योतिषशास्त्र के मुताबिक बुध एक तटस्थ ग्रह है ये कुंडली में अपनी स्थिति के अनुसार ही परिणाम देता है.

ज्योतिष में मंगल ग्रह का महत्व और कुंडली के 12 भावों में मंगल का महत्व

कई लोग मंगल के दोष से परेशान रहते हैं तो कई लोग मंगल के प्रभाव से खुश रहते हैं. अगर आपकी कुंडली में मंगल है तो आपको जान लेना चाहिए कि मंगल के क्या प्रभाव होते हैं? मंगल ग्रह का क्या महत्व होता है?
error: Content is protected !!