Browsing Category

समाज और संस्‍कृति

गणेश चतुर्थी 2018 : कैसे हुई गणशोत्सव की शुरुआत,क्या है इसका आजादी से कनेक्शन

गणेशोत्सव आयोजन चतुर्थी से प्रारम्भ होकर अनन्त चतुर्दशी तक चलता है. गणेशोत्सव का इतिहास महाराष्ट्र से जुड़ता है. महाराष्ट्र में सातवाहन, चालुक्य, राष्ट्रकूट आदि राजाओं ने गणेशोत्सव की इस प्रथा को प्रारम्भ किया था.
Read More...

आसान है बच्चों की बुरी आदतों को सुधारना

यदि आपका बच्चा गाने की नकल या प्रैक्टिस करता हो तो बाद में जाकर वह एक अच्छा गायक बन सकता है. सिनेमा के डॉयलाग हू-ब-हू दोहराना, नृत्य और अभिनय में रुचि तथा फिल्मों एवं कलाकारों के बारे में जानने की तीव्र इच्छा रखने का साफ मतलब है कि आपका…
Read More...

वृक्षों के कारण है पृथ्वी पर जीवन, भारत में कैसे बचेंगे पेड़?

हाल ही में दिल्ली में इमारतें बनाने के लिए कुछ इलाकों में 17,000 बड़े-बड़े पेड़ों को काटा जाना था. जबकि इस फैसले पर माननीय दिल्ली हाईकोर्ट ने रोक लगाकर बड़ा अहम फैसला लिया. क्या आप जानते हैं पेड़, हर साल 53 टन कार्बन डाईऑक्साइड और 200 कि.ग्रा.…
Read More...

रक्षाबंधन 2018: क्यों मनाई जाती है राखी? क्या है रक्षाबंधन की कहानी

भारतीय समाज में रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) का त्योहार हजारों सालों की परंपरा का हिस्सा है. इस पर्व के पीछे एक ओर जहां कई पौराणिक कहानियां प्रचलित हैं तो वहीं दूसरी ओर भाई और बहन के बीच प्यार, विश्वास और रक्षा की भावना है.
Read More...

टेस्ट ट्यूब बेबी के 40 साल: क्या है IVF और कैसे हुई शुरू Test Tube baby तकनीक

लुईस ब्राउन वह पहली बच्ची थी जिसका जन्म टेस्ट ट्य़ूब बेबी नाम से लोकप्रिय टेक्नॉलॉजी के ज़रिए हुआ था. आज वह 40 वर्ष की है और उसके अपने बच्चे हैं. इन 40 वर्षों में दुनिया भर में 60 लाख से अधिक ‘टेस्ट ट्यूब बच्चे’पैदा हो चुके हैं और कहा जा रहा…
Read More...

15 अगस्त 2018: कहां गया जन का भारत?

जिस आजादी और संप्रभुता को पाने के लिये जन ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया हो, वही जन आज आजादी के 72वे बरस में उसके जश्न को दूर खड़ा निहार रहा है. सोच रहा है आजादी तो अमीरों के बस की बात है. उसकी हैसियत ही कहां है? आजादी के लिये शामिल होने…
Read More...

लड़कियों को चुननी होगी संघर्ष की अलग राह

बदलाव के बाद भी समाज में सफल लड़कियों और महिलाओं की संख्या गिनी-चुनी है. अन्य महिलाएं इनके जैसा बनना या करना चाहती है, किन्तु बन नहीं पाती क्योंकि राह संघर्षपूर्ण है. संघर्ष के लिए जिजीविषा चाहिए, दृढ़ इच्छा शक्ति, अदम्य साहस व हौंसला…
Read More...

घर से बाहर कितनी सुरक्षित हैं वर्किंग वुुमन और लड़कियां?

जॉब और करियर की तलाश में लड़कियां जहां अकेले रहने को मजबूर हुई है वहीं घरों में काम करने वाली महिलाओं संख्या भी बढ़ी है. लेकिन इस संख्या के बढ़ने के साथ लड़कियों और महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न के मामले भी बढ़ रहे हैं. घर की …
Read More...

कहानी साड़ी की: फैशन बिगड़कर बदल गए लेकिन नहीं बदला भारतीय परिधान..!

भारत में परिधान के रूप में साड़ियों का प्रचलन कितना पुराना है इसके बारे में कोई भी ठीक-ठीक जानकारी नहीं है. लेकिन हजारों फैशन बदलने के बाद आज भी साड़ियां ज्यों की त्यों बनी हुई है. करोड़ों महिलाएं आज भी साड़ी पहनती हैं और इसमें कोई दो राय…
Read More...

क्यों हो रहा समाज का नैतिक पतन? कैसी है नई पीढ़ी?

नैतिक मूल्यों का अचानक गिरना 20वीं शताब्दी से ही शुरू हुआ? आपके जमाने से या आपके किसी बुजुर्ग रिश्तेदार या दोस्त के जमाने से? बल्कि यह कृत्य होना तो एक सदी पहले ही हो चुका था. सन् 1914 में जब पहला विश्वयुद्ध हुआ, तब से नैतिक मूल्यों का…
Read More...