परिणीति चोपड़ा: पकड़ी थी इन्वेस्टमेंट बैंकिग की राह, पहुंच गई बॉलीवुड

बॉलीवुड में पैर जमाने में लोगों को जहां वर्षों लग जाते हैं, वहीं परिणीति चोपड़ा ने अपनी पहली ही फिल्म में सर्वश्रेष्ठ नवोदित अभिनेत्री का फिल्मफेयर अवार्ड जीत लिया था. वैसे तो उनका ऐम इंवेस्‍टमेंट बैंकिग में करियर बनाना था, पर उन्होंने बॉलीवुड की रह पर कदम बढ़ा दिए.

0 1,597

बॉलीवुड में पैर जमाने में लोगों को जहां वर्षों लग जाते हैं, वहीं परिणीति चोपड़ा ने अपनी पहली ही फिल्म में सर्वश्रेष्ठ नवोदित अभिनेत्री का फिल्मफेयर अवार्ड जीत लिया था. वैसे तो उनका ऐम इंवेस्‍टमेंट बैंकिग में करियर बनाना था, पर उन्होंने बॉलीवुड की रह पर कदम बढ़ा दिए.

कौन हैं परिणीति?

सम्बंधित लेख - पढ़िए

परिणीति अंबाला के व्यवसायी पिता पवन चोपड़ा और मां रीना चोपड़ा के घर 22 अक्टूबर 1988 को पैदा हुई. शिवांग और सराज नाम के उनके दो रियल भाई हैं और जानी-मानी अभिनेत्री प्रियंका, मीरा और मनारा चोपड़ा उनकी कजिन्‍स हैं.

बिजनेस में हैं ऑनर्स

परिणीति की प्रारंभिक पढ़ाई कान्‍वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल में हुई. इसके परी ने लंदन स्थित मैंनचेस्‍टर बिजनेस स्‍कूल से बिजनेस, फाइनेंस और इ‍कनॉमिक्‍स में ऑनर्स की डिग्री प्राप्‍त की. वे अपना करियर इंवेस्‍टमेंट बैंकिग में बनाना चाहती थीं.

हालांकि मैंनचेस्‍टर बिजनेस स्‍कूल से बिजनेस, फाइनेंस और इ‍कनॉमिक्‍स में ऑनर्स की डिग्री लेक्र जब वो भारत आई तो उन्‍होंने पब्लिक रिलेशन कंसल्‍टेंट के तौर पर यशराज फिल्‍मस के साथ करियर शुरू किया.

कैसा है फिल्म करियर 

उन्होंने अपनी पहली फिल्‍म सहायक अभिनेत्री के तौर पर फिल्‍म ‘लेडीज वर्सेज रिकी बहल’ से की थी. फिल्म में उनके काम की तारीफ किए बगैर आलोचक भी नहीं रह सके. परिणीति ने लीड रोल ‘इश्कजादे’ में निभाया. इसके बाद ‘शुद्ध देसी रोमांस’ (2013) और ‘हंसी तो फंसी’ (2014) फिल्मों में भी परिणीति के काम को सराहा गया.

परिणीती को मिले पुरस्कार

साल 2011 में उन्हें “लेडीज वर्सस रिक्की बहल” फ़िल्म के लिए सर्वश्रेष्ट फीमेल डेब्यू फिल्मफेयर से उन्हें सम्मानित किया गया. इसके बाद  साल 2012 में परिणीती को अर्जुन कपूर के साथ आई फ़िल्म “इशकजादे”  के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार दिया गया.

सिंगर भी हैं परिणीति 

कम ही लोग जानते हैं कि परिणीति बहुत अच्छी अदाकारा होने के साथ ही उम्दा गायिका भी हैं. उन्होंने संगीत में डिग्री भी हासिल की है. उन्हें महंगे कपड़े पहनना बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता. वो हमेशा अच्छे कपडे पहनने पर ही जोर देती है फिरचाहे वो कपडे महंगे हो या ना हो.

परिणीति बेहद पढ़ाकू लड़की रही हैं. अपने स्कूल के दिनों में कक्षा दसवीं की परीक्षा में उन्होंने पूएर देश में पहला स्थान प्राप्त किया था. उस समय उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने पुरस्कार भी दिया था.