फ्रॉड से बचाएगा ईएमवी चिप वाला डेबिट कार्ड

देश भर में आए दिन ऑनलाइन फ्रॉड होने की न्यूज़ सुनने को मिलती हैं. हालांकि तकनीकी एक्सपर्ट इस समस्या से  लिए प्रयास भी कर रहे हैं. हाल ही में देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों को फ्रॉड से बचाने के लिए एक नया तरीका खोजा है.

0 391

देश भर में आए दिन ऑनलाइन फ्रॉड होने की न्यूज़ सुनने को मिलती हैं. हालांकि तकनीकी एक्सपर्ट इस समस्या से  लिए प्रयास भी कर रहे हैं. हाल ही में देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों को फ्रॉड से बचाने के लिए एक नया तरीका खोजा है.

जारी होगा ईएमवी चिप वाला डेबिट कार्ड

सम्बंधित लेख - पढ़िए

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि बैंक की और से चिप वाला एक एटीएम जारी किया जा रहा है. इस डेबिट कार्ड में ईएमवी चिप रहेगी. बैंक की ओर से जारी किए जाने वाले नए डेबिट कार्ड पुराने मैजिस्ट्रिप (मैग्नेटिक) ATM कार्ड के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित हैं.

बैंक ने ट्विटर अकाउंट पर दी जानकारी 

एसबीआई की ओर से कुछ ही दिन पहले अपने ट्विटर अकाउंट पर नए एटीएम के बारे में जानकारी दी गई थी. ट्विटर में बताया गया कि ईएमवी चिप कार्ड के लिए ग्राहक आवेदन करें. ताकि उन्हें नए कार्ड सकें और वे धोखाधड़ी से खुद को सुरक्षित रकह सकें.

कैसे बदलें अपना मैगस्ट्रिप कार्ड

एसबीआई के ग्राहक नया कार्ड पाने के लिए बैंक की होम ब्रांच के साथ ही ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं. ग्राहक एसबीआई की होम ब्रांच में जाकर अपने मैगस्ट्रिप कार्ड के बदले ईएमवी कार्ड ले सकते हैं. साथ ही यदि ग्राहक चाहें तो इंटरनेट बैंकिंग के जरिए भी कार्ड बदलने के लिए आवेदन कर सकते हैं.

एसबीआई के जो भी ग्राहक इंटरनेट बैंकिग का इस्तेमाल करते हैं, वो बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करें. इसके बाद ई-सर्विसेज टैब में एटीएम कार्ड सर्विस पर क्लिक करें. फिर आपको दिए जाने वाले दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं.

अधिक  सुरक्षित हैं नए कार्ड 

बैंक ने बताया कि EVM चिप वाले डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर एक छोटी चिप लगी होगी. इस चिप में ग्राहक के खाते से जुड़ी पूरी जानकारी होती है. यह जानकारी इनक्रिप्टेड होती है, जिससे कोई इसके डाटा की चोरी न कर सके. EMV चिप कार्ड में ट्रांजैक्‍शन के दौरान यूजर को सत्‍यापित करने के लिए एक यूनिक ट्रांजेक्‍शन कोड जनरेट होता है. जो वेरिफिकेशन को सर्पोट करता है जबकि मैग्‍नेटिक स्‍ट्राइप कार्ड में ऐसा नहीं होता है. 

(नोट : यह लेख आपकी जागरूकता, सतर्कता और समझ बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. अधिक जानकारी के लिए किसी तकनीकी जानकर की सलाह जरूर लें.)