Shani Dev Chalisa: शनि देव चालीसा के नियम एवं फायदे

शनि देव को कर्म और न्याय का देवता कहा जाता है. कई लोग ऐसा भी सोचते हैं कि उनके जीवन में जो दिक्कत आ रही है वो शनि की दृष्टि के कारण आ रही है. ऐसे में लोग शनि देव को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय करते हैं.

शनि देव को कर्म और न्याय का देवता कहा जाता है. कई लोग ऐसा भी सोचते हैं कि उनके जीवन में जो दिक्कत आ रही है वो शनि की दृष्टि के कारण आ रही है. ऐसे में लोग शनि देव को प्रसन्न करने के लिए कई तरह के उपाय करते हैं. जिनमें एक उपाय शनि चालीसा पाठ भी भी है. यदि आप शनिवार को शनि देव की पूजा करने के बाद शनि चालीसा पाठ करते हैं तो आपको काफी लाभ मिलता है.

शनि चालीसा पढ़ने के नियम

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शनि चालीसा का पाठ किया जाता है. लेकिन शनि चालीसा का पाठ करने से पहले कुछ चीजों का ध्यान भी रखना चाहिए.
– हर शनिवार को सुबह जल्दी उठकर नहाएँ और स्वच्छ वस्त्र पहने.
– इसके बाद नजदीकी शनि मंदिर पर जाएँ.
– वहाँ सरसों का तेल और काले तिल शनि देव को अर्पित करें.
– शनिदेव की पूजा करने के बाद शनि चालीसा का पाठ करें.
– शनि चालीसा का पाठ 40 शनिवार तक करने से लाभ मिलता है.

शनि चालीसा के फायदे

शनि देव न्याय के देवता है. ऐसे में यदि आपके जीवन में, करियर में या व्यापार में किसी तरह की दिक्कत आ रही है तो इस तरह की समस्याओं का समाधान शनिदेव को प्रसन्न करके किया जा सकता है.

शनि चालीसा पाठ

शनि देव आरती

यदि आप शनि चालीसा को पीडीएफ़ के रूप में अपने फोन में सेव करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके आप Shani Chalisa Hindi PDF Download कर सकते हैं.

error: Content is protected !!