Mustard oil: सेहत और स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा है सरसों तेल

देश के अधिकतर भागों में सरसों तेल का पूजन, भोजन और मालिश लिए उपयोग किया जाता है. इसके अलावा सरसों तेल का आयुर्वेदिक दवाओं के रूप में भी प्रयोग  किया जाता है. सरसों तेल की तासीर गर्म होती है और यह दर्द नाशक भी होता है. यह सेहत के साथ ही सुंदरता का भी ख्याल रखता है.

0 696

देश के अधिकतर भागों में सरसों तेल का पूजन, भोजन और मालिश लिए उपयोग किया जाता है. इसके अलावा सरसों तेल का आयुर्वेदिक दवाओं के रूप में भी प्रयोग  किया जाता है. सरसों तेल की तासीर गर्म होती है और यह दर्द नाशक भी होता है. यह सेहत के साथ ही सुंदरता का भी ख्याल रखता है. इस तेल में कई ऐसे तत्व होते हैं, जो कि दर्दनाशक का काम करते हैं. जोड़ों का दर्द हो या फिर कान का दर्द, सरसों का तेल एक औषधि रूप में काम करता है.

सरसों तेल दिल का रखे ख्याल (Mustard oil is beneficial for the heart)

सरसों तेल मोनोसैचुरेटेड फैटी एसिड से भरपूर होता है. जो कि शरीर से बैड कोलेस्ट्रॉल को खत्म करने में मददगार होते हैं. साथ ही सरसों का तेल ब्लड सर्कुलेशन को सही बनाए रखने में भी सहायक साबित होता है. हल ही में हुए एक शोध में इस बात का खुलाशा हुआ है कि दिल को सेहतमंद रखने में सरसों तेल बहुत लाभकारी है.

बैक्टीरियल व फंगल इंफेक्शन दूर (Remove bacterial and fungal infections)

सरसों के तेल में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं. सरसों तेल को स्कीन पर बैक्टीरिया के कारण हुए इंफेक्शन की जगह पर भी लगा सकते हैं.

इससे बैक्टीरियल इंफेक्शन खत्म हो जाता है. ‘कॉलेज ऑफ फिजिशियन एंड सर्जन’ जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, सरसों का तेल दांतों के बैक्टीरियल इंफेक्शन को भी दूर करने में कारगार होता है.

मस्टर्ड आयल मेटाबॉलिज्म को बनाए मजबूत (Strengthens Metabolism)

सरसों का तेल पाचक भी होता है. इसीलिए सरसों तेल में बनाया गया खाना अच्छी तरह से हजम हो जाता है. यह लीवर के लिए भी फायदेमंद है. यह शरीर में डाइजेस्टिव एंजाइम का स्तर बढ़ाकर पाचन क्रिया को दुरूस्त बनाता है. यह शरीर से टॉक्सिन को निकालने में भी मददगार साबित होता है.

बालों को बनाए मजबूत (Hair strengthen strong) 

सरसों के तेल में मौजूद विटामिन ई और पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड्स हमारी स्किन को खूबसूरत बनाते हैं. इसके साथ ही बालों के लिए भी बहुत लाभदायक होते हैं. यह दोनों ही एसिड स्किन और बालों को भी मजबूत मददगार हैं. 

रोजाना सरसों के तेल में बना खाना खाने से स्किन और बाल दोनों फ्री रेडिकल्स और अल्ट्रावायलेट रेज से सुरक्षित रहते हैं. सरसों के तेल को बालों में लगाने से भी बाल लंबे बनते हैं.

जुकाम में भी है फायदेमंद

जुकाम और खांसी में सरसों के तेल का सेवन काफी फायदेमंद सिद्ध होता है. सर्दी लगने पर सरसों के तेल को ह्ल्का गुनगुना कर के सीने पर मालिश करने से भी आराम मिलता है. इसके अलावा आप सरसों के तेल की कुछ बूंदों को गर्म पानी में मिलाकर स्टीम भी ले सकते हैं. इससे गले में मौजूद बलगम निकल जाता है और सर्दी-जुकाम से भी राहत मिलती है.

(नोट : यह लेख आपकी जागरूकता, सतर्कता और समझ बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि किसी बीमारी के पेशेंट हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें.)

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!