26 जनवरी क्यों मनाते हैं, गणतंत्र दिवस की स्पीच और नोटिस

भारत में हर साल 26 जनवरी के मौके पर गणतंत्र दिवस (Republic day) मनाया जाता है. कई लोग तो इसके बारे में जानते हैं पर कुछ लोग गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? (why do we celebrate republic day?) या 26 जनवरी क्यों मनाई जाती है? इस बारे में नहीं जानते हैं. एक भारतीय होने के नाते आपको इस बात का पता होना चाहिए की 26 जनवरी का दिन भारत के लिए क्यों खास है?

भारत में हर साल 26 जनवरी के मौके पर गणतंत्र दिवस (Republic day) मनाया जाता है. कई लोग तो इसके बारे में जानते हैं पर कुछ लोग गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? (why do we celebrate republic day?) या 26 जनवरी क्यों मनाई जाती है? इस बारे में नहीं जानते हैं. एक भारतीय होने के नाते आपको इस बात का पता होना चाहिए की 26 जनवरी का दिन भारत के लिए क्यों खास है?

26 जनवरी क्यों मनाई जाती है? (Why do we celebrate republic day?)

26 जनवरी को हमारे देश में गणतंत्र दिवस (Republic day) के रूप में मनाया जाता है. इसे मनाने के पीछे का कारण ये है की इस दिन हमारे देश में संविधान लागू हुआ था. आज आप जितने भी सरकारी नियम कानून देखते हैं वो सभी इसके अंतर्गत आते हैं. भारत के संविधान को बनाने वाले डॉ भीमराव अंबेडकर हैं. इन्हीं ने भारत के स्वतंत्र होने के बाद भारत के संविधान को तैयार किया और 26 जनवरी 1950 को सभी की सहमति से इसे लागू किया गया. तभी से देश में 26 जनवरी के दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है.

26 जनवरी पर परेड की जानकारी (Republic day parade)

26 जनवरी के मौके पर हमारे देश में राजपथ पर हर साल परेड होती है. इसे देखने बड़ी संख्या में लोग दिल्ली के राजपथ पर पहुँचते हैं. परेड हमारे देश की एकता, अखंडता, सांस्कृतिक विविधता और सैन्य शक्ति का प्रदर्शन करने के लिए आयोजित की जाती है. इसकी शुरुवात राष्ट्रपति के आगमन के साथ होती है. इसमें सबसे पहले राष्ट्रपति के घुड़सवार अंगरक्षको के द्वारा तिरंगे को सलामी दी जाती है. उसी समय राष्ट्रगान भी बजाया जाता है और इसके बाद 21 तोपों की सलामी दी जाती है. 26 जनवरी के मौके पर परेड में हर साल निश्चित रूप से “Abide with me” बजाया जाता था लेकिन अब इसके स्थान पर राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम बजाया जाता है.

26 जनवरी के लिए स्कूल नोटिस (Republic day school notice and invitation letter)

इस नोटिस के माध्यम से आप सभी को यह सूचित किया जाता है की हमारा विद्यालय, विद्यालय परिसर में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह का आयोजन कर रहा है. अतः सभी छात्रों तथा छात्राओं से निवेदन है की वे प्रातः 8 बजे विद्यालय परिसर में उपस्थित रहे. समारोह का प्रारम्भ ध्वजारोहण के साथ किया जाएगा. तत्पश्चात सांस्कृतिक आयोजन आयोजित किया जाएगा. अतः जो भी इस समारोह में भाग लेना चाहते हैं वे अपने नाम सांस्कृतिक कार्यक्रम की अध्यक्ष श्रीमति सुमन यादव को दे सकते हैं.

26 जनवरी पर स्पीच या भाषण (Republic day speech for student)

आप सभी आदरणीय व्यक्तियों तथा अथितिगणों को मेरा प्रणाम. मेरा नाम ——————- है. मैं कक्षा ——— का छात्र/छात्र हूं. हम सब आज यहाँ पर गणतंत्र दिवस मनाने के लिए एकत्र हुए हैं. 26 जनवरी का दिन हमारे देश तथा हमारे लिए बहुत ही खास दिन है. आज ही के दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था. गणतंत्र जिसका मतलब होता है जनता के द्वारा जनता के लिए शासन. इसी की तर्ज पर हमारा संविधान भी है जिसे 26 जनवरी 1950 में लागू किया था. इसके लागू होते ही भारत एक गणतंत्र देश बन गया था. गणतंत्र दिवस की सबसे विशेष बात ये है की इसे सभी जाति तथा वर्ग के लोग मिलकर मानते हैं. हमारे देश के प्रथम राष्ट्रपति ने कहा था “हमने एक ही संविधान और संघ में हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकारों को पाया है. जो देश में रह रहे सभी पुरुषों और महिलाओं के कल्याण की ज़िम्मेदारी लेता है.” लेकिन आज हमारे देश में आजादी के इतने सालों के बाद भी कई बुराइयाँ व्याप्त हैं. आज हम अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा जैसी समस्याओं से लड़ रहे हैं. अब समय आ गया है की हम दोबारा साथ मिलकर अपने देश से इन बुराइयों को बाहर निकाल फेंके. जिस तरह हमारे स्वतन्त्रता सेनानियों ने साथ मिलकर हमारे देश को आजाद कराया उसी तरह हम सब एकत्र होकर इन समस्याओं का हल निकालें. हमें गणतंत्र दिवस के मौके पर ये प्रण लेना चाहिए की हम जाति-धर्म के भेदभाव से उठकर एक नया समाज बनाएँ. मैं आप सभी को मेरा भाषण सुनने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं. जय हिन्द! जय भारत!

यह भी पढ़ें :

INS Vikrant : नौसेना का शक्तिशाली जहाज आईएनएस विक्रांत की विशेषता और इतिहास

Chandrayaan 3 : चंद्रयान 3 मिशन की खास बातें, भारत के चंद्रयान मिशन

गगनयान मिशन क्या है, ये कब लॉन्च होगा, व्योमोनॉट क्या है?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!