Customer rights in banking : बैंक में मिलने वाले अधिकार, बैंक की शिकायत कैसे करें?

जब भी कभी हम बैंक जाते हैं तो हमे कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है (bcsbi). कई बार आप घंटों लाइन में लगते हैं और एक छोटी सी कमी के कारण आपको वह से भगा दिया जाता है. आपका कई बार मन करता होगा की ये आपके साथ क्या हो रहा है? क्या मैं बैंक की शिकायत कर सकता हूँ (How to complaint against bank) ? क्या बैंक में मेरे भी कुछ अधिकार हैं (Customer rights in banking)? आपके इन सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे.

0 715

जब भी कभी हम बैंक जाते हैं तो हमे कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है (bcsbi). कई बार आप घंटों लाइन में लगते हैं और एक छोटी सी कमी के कारण आपको वह से भगा दिया जाता है. आपका कई बार मन करता होगा की ये आपके साथ क्या हो रहा है? क्या मैं बैंक की शिकायत कर सकता हूँ (How to complaint against bank) ? क्या बैंक में मेरे भी कुछ अधिकार हैं (Customer rights in banking)? आपके इन सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे.

बैंक चाहे सरकारी हो या प्राइवेट ये सभी कुछ सेवाएँ अपने कस्टमर को देने के लिए बाध्य हैं. यदि आपको इन सुविधाओं में कुछ भी कमी आती है या कुछ गलत लगता है तो आप इसकी शिकायत कर सकते हैं. भारत में आरबीआई ने कोड ऑफ कंडक्ट (rbi code of conduct) लागू कर रखा है जिसमे सभी बैंक कस्टमर से होने वाले व्यवहार को लेकर पारदर्शिता बरतेंगे.

– कोई भी बैंक हो वो अपने कस्टमर की उम्र, लिंग, वैवाहिक स्थिति , धर्म, वित्तीय स्थिति या शारीरिक कमी के आधार पर कोई भेदभाव नहीं करेंगे. इन सभी चीजों को बैंक को नजरंदाज करना होगा और सभी ग्राहकों को समान बैंकिंग सेवाएँ देनी होंगी.

– बैंक अपने काउंटर पर कैश, चेक, रेमिटेन्स का भुगतान या प्राप्ति करने, कटे-फटे नोट बदलने की सेवाएँ देने के लिए बाध्य हैं. ये सेवाए उन्हें ग्राहक को बैंक की हर शाखा में देनी होगी.

– बैंक को अपने कस्टमर की पर्सनल जानकारी शेयर करने की अनुमति नहीं होती है. वे इसे गोपनीय बनाए रखते हैं.

– अगर कोई व्यक्ति बैंक के किसी प्रॉडक्ट की जानकारी मांग रहा है तो वे ग्राहकों को पूरी जानकारी देंगे.

– बैंक वादा करते हैं की बैंक का हर कर्मचारी ग्राहकों के साथ उचित व्यवहार करेगा तथा उसका काम जल्द से जल्द करने में मदद करेगा.

– बैंक अपने सभी नियम कानून को ग्राहकों को पूरी तरह बताएँगे. हर नियम की जानकारी बैंक की शाखा के नोटिस बोर्ड और वेबसाइट पर मौजूद रहेगी. किसी ग्राहक को समझने में दिक्कत हो रही हाई तो बैंक अधिकारी उसकी पूरी मदद करेंगे.

– बैंक जब भी अपने चार्ज, ब्याज दर आदि में कोई बदलाव करेंगे तो इसकी सूचना तुरंत ग्राहक को देंगे. इसके लिए वो एसएमएस, मेल आदि का सहारा ले सकते हैं.

– अगर कोई ग्राहक शिकायत करना चाहता है तो बैंक उसे शिकायत दर्ज करने का तरीका बताएगी. इसमें ग्राहक की मदद बैंक का स्टाफ करेगा.

– अगर कोई भी बैंक अपनी ब्रांच बदलकर किसी और जगह जा रही है तो उसकी सूचना बैंक को अपने ग्राहकों को पहले देना होगी.

– बैंक समाज के सबसे निचले तबके को भी बैंक सर्विस देने के लिए बाध्य है. उन लोगों के लिए बैंक बेसिक सर्विस बैंक डिपॉजिट अकाउंट (BSBD account) की सुविधा देती है.

अगर बैंक किसी ग्राहक के साथ इन नियमों का पालन नहीं करती है तो आप इसकी शिकायत कर सकते हैं. आप इस शिकायत को बैंक की ब्रांच में लिखित रूप में देकर कर सकते हैं. अगर बैंक इस पर कोई कदम नहीं उठाए तो आप इसकी शिकायत सीधे RBI को कर सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!