UGC NET JRF क्या है, NET JRF Exam पैटर्न कैसा है?

NET का पूरा नाम National Eligibility Test है और JRF का full form Junior Research Fellowship होता है. इसे भारत की National Test Agency (NTA) द्वारा लिया जाता है.

Post Graduation के बाद यदि आप किसी कॉलेज में प्रोफेसर के तौर पर पढ़ाना चाहते हैं या फिर रिसर्च करना चाहते हैं तो आपको UGC NET/JRF के बारे में जरूर जानना चाहिए. कॉलेज में पढ़ने के दौरान हम सभी अपने प्रोफेसर से इसके नाम के बारे में सुनते हैं लेकिन ये नहीं जानते कि UGC NET/JRF क्या है? इसकी क्या योग्यताएँ हंक और इसे करने के क्या फायदे हैं?

NET/JRF क्या है? (What is UGC NET?)

NET का पूरा नाम National Eligibility Test है और JRF का full form Junior Research Fellowship होता है. इसे भारत की National Test Agency (NTA) द्वारा लिया जाता है. इसके जरिये या तो आप किसी कॉलेज में प्रोफेसर बन सकते हैं या फिर आप अपने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के सबजेक्ट में रिसर्च कर सकते हैं. इसमें आपका सिलेक्शन एक एक्जाम के द्वारा होता है जिसे UGC NET/JRF कहा जाता है.

NET/JRF के लिए योग्यता (Eligibility for UGC NET?)

NET/JRF में आवेदन करने के लिए आप पोस्ट ग्रेजुएट होना चाहिए. पोस्ट ग्रेजुएशन में आपके मार्क्स कम से कम 55 प्रतिशत होने चाहिए. अगर आप ओबीसी, एसटी, एससी कैटेगरी से आते हैं तो आपको कम परसेंट की जरूरत होती है.

NET/JRF आयु सीमा (UGC NET Age Limit)

NET में हिस्सा लेने के लिए कोई आयु सीमा नहीं है. यहाँ तक कि आप इसमें कितने भी अटेम्प्ट दे सकते हैं क्योंकि इसके जरिये आप प्रोफेसर बनने वाले हैं. लेकिन JRF में जाने के लिए आपकी उम्र 302 साल होनी चाहिए. अगर आप ओबीसी से हैं तो आपकी उम्र 33 साल तथा एससी-एसटी के लिए 35 साल आयु सीमा की मांग की जाती है.

NET/JRF फीस (UGC NET Fees)

यूजीसी नेट जेआरएफ़ की फीस की बात करें तो जनरल कैटेगरी के आवेदकों के लिए 1000 रुपये फीस है. वहीं ओबीसी के लिए 500 रुपये और एसटी और एससी के लिए 250 रुपये फीस है.

UGC NET/JRF Exam pattern (UGC NET Exam Pattern)

ये एक ऑनलाइन एक्जाम है जिसमें कंप्यूटर पर प्रश्न आते हैं और आपको उनके जवाब देने होते हैं. प्रश्न वस्तुनिष्ठ होते हैं. यानी एक सवाल और 4 या 5 विकल्प. उनमें से सही उत्तर को चुनना होता है. इसमें कुल दो पेपर होते हैं. जिनके लिए तीन घंटे का समय दिया जाता है.

पेपर 1 में 50 प्रश्न पूछे जाते हैं और उसके लिए 100 मार्क्स दिये जाते हैं

पेपर 2 में 100 प्रश्न पूछे जाते हैं और उसके लिए 200 मार्क्स निर्धारित हैं.

इस परीक्षा में माइनस मार्किंग नहीं है.

नेट जेआरएफ़ सिलेबस

इसमें दो पेपर होते हैं.

पेपर 1 की बात करें तो उसमें

Teaching Aptitude
Research Aptitude
Data Interpretation
Mathematical Reasoning
Information and Communication technology
People, Development And Environment

आदि पूछे जाते हैं.

पेपर 2 की बात करें तो उसमें जो विषय आपके ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में होते हैं उन्हीं से संबन्धित प्रश्न पूछे जाते हैं. मतलब इसके लिए आपने कॉलेज में जो भी पढ़ा है उस पर आपको अच्छे से ध्यान देना होगा.

नेट जेआरएफ़ सिलेक्शन प्रोसेस (NET/JRF Selection Process)

नेट जेआरएफ़ में Qualifying marks की बात करें तो वो जनरल कैटेगरी के लिए 40 प्रतिशत और एसटी, एससी और ओबीसी के लिए 35 प्रतिशत है. लेकिन सिर्फ इतने मार्क्स आ जाने से आपका सिलेक्शन नहीं हो जाता. आपको कट ऑफ भी क्लियर करना होता है. जिन आवेदकों की अच्छी रैंक आती है उन्हें सिलेक्ट किया जाता है.

यह भी पढ़ें :

New Education policy 2020: नई शिक्षा नीति में नया क्या है, कितनी बदली स्कूल-कॉलेज की पढ़ाई?

PhD का Full Form, PhD में Admission कैसे होता है?

Education Loan : एजुकेशन लोन कैसे लें, ब्याज दर तथा जरूरी योग्यता?

error: Content is protected !!