Bike Modify करवाना चाहते हैं तो पहले जान लें RTO के नियम

यदि आप Bike Modification करवा रहे हैं तो आपको इससे जुड़े कुछ नियम (Bike Modification Rules) जरूर जान लेना चाहिए.

बाइक को सुंदर दिखाने के लिए लोग उसमें काफी सारे bike modification करवाते हैं. कई लोग नया सीट कवर लगवाते हैं, कई लोग बाइक के आगे कुछ स्टिकर लगवाते हैं, तो कुछ लोग बाइक का हुलिया ही बदल देते हैं. यदि आप Bike Modification करवा रहे हैं तो आपको इससे जुड़े कुछ नियम (Bike Modification Rules) जरूर जान लेना चाहिए.

क्या बाइक मोडीफ़ाई करवाना गैर कानूनी है? (Is Bike Modification legal in India?)

काफी सारे लोग बाइक को कुछ ज्यादा ही मोडीफाई करवा लेते हैं. जैसे स्प्लेंडर को बुलेट बना देते हैं. इस तरह से गाड़ी को मोडीफाई करवाने से पहले आपको इसके नियम (Bike Modification Rules) के बारे में जरूर जान लेना चाहिए नहीं तो आप कानूनी विवाद में पड़ सकते हैं.

भारत में कुछ हद तक बाइक और कार में मोडीफिकेशन करवाना गैर कानूनी नहीं है. लेकिन जब आप उसके साथ ज्यादा ही छेड़छाड़ करते हैं तो वो गैर कानूनी हो जाता है.

बाइक मोडीफिकेशन के नियम (Bike Modification Rules in Hindi) 

मोटर व्हीकल एक्ट 2000 के सेक्शन 52 के तहत इससे जुड़े कुछ नियम हैं.

– कोई भी गाड़ी मालिक अपनी गाड़ी को किसी अन्य तरह से मोडीफाय नहीं कर सकता है. गाड़ी का मालिक केवल वही बदलाव कर सकता है जिसे Manufacturer ने तय किया है.
– गाड़ी के इंजन में बदलाव, ईधन के सोर्स में बदलाव के मामले में परमिशन लेकर ही बदलाव कर सकते हैं.
– गाड़ी के स्ट्रक्चर में बदलाव नहीं किया जा सकता.
– गाड़ी के ईधन का तरीका बदलने से पहले परमिशन लें.

कैसे करवाएं बाइक बाइक मोडीफिकेशन (How to modify bike with legal process?) 

बाइक में यदि आप मोडीफिकेशन करवाना चाहते हैं तो करवा सकते हैं लेकिन इससे बाइक की मूल पहचान बदलनी नहीं चाहिए. Bike Modification में आप इंजन बेली, टेल टीडी, डिकल्स, विंगलेट, डिकल्स को बिना किसी परमिशन के बदलवा सकते हैं.

अपनी बाइक के टायर भी आप बिना किसी परमिशन के बदलवा सकते हैं लेकिन बाइक में वो ही टायर होने चाहिए जो मॉडल में फिट होते हैं. जैसे आप सँकरे टायर की जगह चौड़े टायर अपनी बाइक में नहीं लगा सकते. इसे गैर कानूनी माना गया है.

क्या बाइक का रंग बदलवा सकते हैं?

काफी सारे लोगों को आपने बाइक का रंग बदलवाते हुए देखा होगा. ऐसा करना आरटीओ को बिना बताए गैर कानूनी है. आपकी गाड़ी के रजिस्ट्रेशन कार्ड में आपकी गाड़ी का रंग लिखा होता है. यदि आप अपनी गाड़ी के रंग में बदलाव करना चाहते हैं तो आपको इसकी अनुमति पहले RTO से लेनी पड़ेगी.

आपकी गाड़ी का इंजन खराब हो गया है तो आप उसे भी बदलवाकर दूसरा लगवा सकते हैं लेकिन इसके लिए भी पहले आपको डिटेल्स आरटीओ में देनी होगी.

इन सभी के अलावा यदि आप अपनी पेट्रोल गाड़ी को इलेक्ट्रिक गाड़ी में बदलना चाहते हैं तो उसके लिए भी आपको आरटीओ से अनुमति लेनी होगी. बिना आरटीओ को बताए ऐसा करना गैर कानूनी है.

आपकी गाड़ी में छोटा-मोटा मोडीफिकेशन करना कोई दिक्कत वाला काम नहीं है लेकिन यदि आप कुछ ऐसा बदलाव कर लेते है जिससे गाड़ी की मूल पहचान ही बदल जाती है तो वो गैर कानूनी है.

यह भी पढ़ें :

Bike Theft Prevention: बाइक चोरी होने से कैसे बचाएं, जानिए 5 तरीके

Second hand bikes: ऑनलाइन बाजार में है 15 हजार की शानदार बाइक्स

बाइक में चौड़े टायर लगवा रहे हैं, जानिए फायदे और नुकसान

error: Content is protected !!