Google AMP क्या होता है, वेबसाइट में AMP कैसे Use करें?

Google AMP का पूरा नाम Accelerated Mobile Page है. इसके नाम में ही इसका काम छुपा हुआ है. जिस वेबसाइट में Google AMP को लगाया जाता है उसके लोड होने की रफ्तार काफी ज्यादा बढ़ जाती है. जिससे यूजर के सामने वेबसाइट क्लिक करने के साथ ही खुलती है. वेबसाइट लोड होने में ज्यादा समय नहीं लेती है.

इन्टरनेट पर किसी जानकारी को पढ़ने के लिए हमें किसी न किसी वेबसाइट पर जाना ही पड़ता है. जब आप अपने मोबाइल के जरिये किसी वेबसाइट पर जाते हैं तो आपने देखा होगा कि वेबसाइट में नीचे की तरफ एक निशान आता है जो ‘बिजली’ का चिन्ह होता है. दरअसल ये चिन्ह Google AMP का होता है. कई सारी वेबसाइट इसे उपयोग करती हैं. Google AMP क्या होता है? Google AMP का उपयोग क्यों किया जाता है? इन सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे.

Google AMP क्या होता है? (What is Google AMP?)

Google AMP का पूरा नाम Accelerated Mobile Page है. इसके नाम में ही इसका काम छुपा हुआ है. जिस वेबसाइट में Google AMP को लगाया जाता है उसके लोड होने की रफ्तार काफी ज्यादा बढ़ जाती है. जिससे यूजर के सामने वेबसाइट क्लिक करने के साथ ही खुलती है. वेबसाइट लोड होने में ज्यादा समय नहीं लेती है.

Google AMP एक open source framework होता है जिसकी मदद से आप अपने वेब पेज को Mobile page में बदल सकते हैं. इसकी वजह से जो वेबसाइट डेस्कटॉप पर काफी ज्यादा साइज की होती है वो मोबाइल पर काफी कम साइज की हो जाती है और जल्दी लोड हो जाती है. इसकी मदद से वेब पेज मोबाइल फ्रेंडली बन जाते हैं और साइट को जल्दी लोड करने में मदद करते हैं.

Google AMP का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? (Why Google AMP Use in Website?)

AMP के इस्तेमाल किए जाने के कई सारे कारण हैं.

– ये वेबसाइट के लोडिंग टाइम को कम कर देता है. अगर आप इसे लगाते हैं तो आपकी वेबसाइट पर कंटैंट काफी जल्दी लोड हो जाएगा और बाकी की चीजे लोड होने में टाइम लगेगा. जैसे फोटो, अदर न्यूज़, एड आदि.

– इसकी वजह से आपके सर्वर का परफ़ोर्मेंस काफी अच्छा हो जाता है. अगर आपकी साइट पर बहुत ज्यादा भी ट्रैफिक आ जाए तो सर्वर के ऊपर ज्यादा लोड नहीं पड़ता.

– ये गूगल पर आपकी रैंकिंग को बढ़ाने में मदद करता है. क्योंकि इसकी वजह से आपकी साइट जल्दी खुलती है और गूगल इसे सपोर्ट करता है. आपका बाउंस रेट भी काफी कम हो जाता है जिस वजह से गूगल आपकी रैंकिंग को ऊपर ले जाता है.

– अगर आप अपनी वेबसाइट पर सिर्फ अर्टिकल के रूप में सूचना देते हैं तो आपके लिए ये वरदान से कम नहीं है. एएमपी के कारण आप पेज लोड होने पर सबसे पहले सिर्फ कंटैंट ही पढ़ पाते हैं. बाकी की चीजे बाद में लोड होती रहती है.

Google AMP के इस्तेमाल से क्या नुकसान हैं? (Disadvantage of Google AMP?)

AMP के इस्तेमाल से जहां कुछ फायदे हैं तो वहीं कुछ नुकसान भी हैं.

– AMP की वज़ह से आपकी डिवाइस में Cache बढ़ सकते हैं क्योंकि ये साइट को लोड करने के लिए एक बार Cache जरूर स्टोर करता है.

– आप वेबसाइट का ट्रैफिक पता लगाने के लिए गूगल एनालिटिक्स का उपयोग करते हैं. लेकिन जब आप AMP का उपयोग करते हैं तो ये Analytics के ऊपर खराब प्रभाव डालता है. कई बार इसमें वो ट्रैफिक नहीं दिखाई देता है जो AMP के जरिये आया है. इसके लिए आपको Analytics में अलग से सेटिंग करना पड़ती है.

– AMP एक तरफ आपकी साइट पर ट्रैफिक तो बढ़ाता है लेकिन ये आपके Revenue को कम कर सकता है. इसमें आने वाले Advertisement की मात्र बहुत कम हो जाती है जिसके कारण Revenue कम हो जाता है.

वेबसाइट में AMP कैसे Use करें? (How to use Google AMP in website?)

आपकी खुद की वेबसाइट है और उस पर काफी कम ट्रैफिक है तो आपको AMP का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे आप अपने Revenue से हाथ धो सकते हैं. हाँ अगर आपका ट्रैफिक अच्छा है और बाउंस रेट ज्यादा जा रहा है क्योंकि आपकी साइट लोड होने में काफी ज्यादा समय ले रही है तो फिर आप AMP का इस्तेमाल कर सकते हैं. AMP का Setup आप अपनी word press site में कैसे कर सकते हैं इसके लिए आप इस विडियो को देख सकते हैं. इसमें स्टेप बाय स्टेप AMP setup करने का तरीका दिया हुआ है.

यह भी पढ़ें :

फ्री लोगो कैसे बनाएं, फ्री लोगो मेकर वेबसाइट ?

Free Domain कैसे खरीदें, फ्री डोमेन वाली वेबसाइट?

Free Website : फ्री वेबसाइट कैसे बनाएं, फ्री वेबसाइट को मोनेटाइज़ कैसे करें?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!