Legal Notice कैसे तैयार करें, लीगल नोटिस आने पर कैसे दें जवाब?

Legal Notice कई मामलों में आपके सामने आ सकता है. यदि आपके पास किसी का लीगल नोटिस आया है तो आपको पता होना चाहिए कि लीगल नोटिस का क्या मतलब है? लीगल नोटिस का जवाब कैसे दें?

कानूनी कार्यवाही के लिए यदि आप लीगल नोटिस (Legal Notice in Hindi) भेजना चाहते हैं या फिर किसी व्यक्ति के द्वारा आपको लीगल नोटिस भेजा गया है तो इससे जुड़े काफी सारे सवाल आपके मन में आते हैं. जैसे लीगल नोटिस क्या होता है? लीगल नोटिस कैसे तैयार करें? लीगल नोटिस आने पर क्या करें? लीगल नोटिस का जवाब कैसे दें?

लीगल नोटिस क्या होता है? (What is Legal Notice?) 

परिवार में या फिर किन्हीं दूसरे लोगों से काफी सारे विवाद ऐसे होते हैं जो हमारी काफी सारी कोशिशों के बाद भी सुलझने का नाम नहीं लेते हैं तो इन्हें सुलझाने के लिए आपको कानूनी प्रक्रिया का सहारा लेना पड़ता है. आप अपने विवाद को कोर्ट में ले जा सकते हैं. लेकिन कोर्ट में ले जाने से पहले आपको उस व्यक्ति को किसी अनुभवी वकील के द्वारा एक नोटिस भेजना होगा. जिसे लीगल नोटिस कहा जाता है.

जैसे किसी व्यक्ति से आपका जमीन को लेकर विवाद चल रहा है. इस विवाद को सुलझाने के लिए आप किसी वकील द्वारा एक लीगल नोटिस तैयार करवाएँगे. जिसे उस व्यक्ति को भेजा जाएगा जिससे आपका विवाद चल रहा है. इसमें विवाद को सुलझाने के बारे में आप पहल करेंगे. यदि सामने वाला पहल नहीं करना चाहता है तो आप फिर कोर्ट में केस रजिस्टर करवा सकते हैं.

लीगल नोटिस कैसे तैयार करें? (Legal Notice Format) 

लीगल नोटिस को किसी वकील के द्वारा भेजा जाता है. इसलिए इसे बनवाने की ज़िम्मेदारी उन्हीं की होती है. वे आपके विवाद के हिसाब से लीगल नोटिस तैयार करते हैं. लेकिन फिर भी यदि आप पहली बार लीगल नोटिस बनवा रहे हैं तो उसमें कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट को शामिल करें.

1) लीगल नोटिस में नोटिस भेजने की तारीख, भेजने वाले का नाम और पता जरूर लिखें.
2) लीगल नोटिस में जिस व्यक्ति को आप नोटिस भेज रहे हैं उसका नाम और उसका पता भी जरूर लिखें.
3) लीगल नोटिस को हमेशा स्पीड पोस्ट या कूरियर से भेजें. अपने नोटिस में इस बात का भी जिक्र करें.
4) लीगल नोटिस में व्यक्ति का नाम, पता स्पष्ट रूप से लिखें. इसके बाद अपने विवाद के बारे में स्पष्ट रूप से लिखें. साथ ही यह भी लिखें कि यदि उनकी ओर से सही कदम नहीं उठाया गया तो, आपकी ओर से कानूनी कार्यवाही की जाएगी.
5) लीगल नोटिस में आपकी जो भी शर्तें हैं उन्हें लिखें.
6) लीगल नोटिस भेजने का क्या कारण है, स्पष्ट करें.
7) लीगल नोटिस में किसी शर्त के पूरे न होने पर नुकसान की राशि का विवरण भी करें. साथ में कोर्ट में जाने की बात भी स्पष्ट रूप से लिखें.

लीगल नोटिस क्यों भेजा जाता है? (Why Legal Notice Send?) 

कई बार हमें प्रॉपर्टी में या फिर अपने घर में ही अपना हक नहीं मिलता है. इसके अलावा भी कई जगह पर हमें अपने हक की लड़ाई लड़नी पड़ती है. कई दिनों तक तो हम परेशान होते रहते हैं. सामने वाला आपको टालता रहता है. लेकिन यदि आप उसे कानूनी रूप से करना चाहते हैं तो आप लीगल नोटिस भेज सकते हैं. यहाँ इस बात का ध्यान रहे कि यदि सामने वाले ने मामले को नोटिस भेजने के बाद निपटा दिया तब तो कोई दिक्कत नहीं है. लेकिन यदि मामला कोर्ट में चला गया तो आपको केस लड़ना पड़ेगा.

लीगल नोटिस आने पर क्या करें? (How to receive Legal Notice?) 

लीगल नोटिस आने पर काफी सारे व्यक्ति घबरा जाते हैं. कई लोग सोचते हैं कि वे इसे रिसिव करें या नहीं करें. असल में जब कोई लीगल नोटिस आता है तो हमें उसे रिसिव जरूर करना चाहिए. आपको लीगल नोटिस को ध्यान से पढ़ना चाहिए और सामने वाले की शर्तों को समझना चाहिए. लीगल नोटिस में जो शर्ते रखी गई हैं उनके बारे में आप नोटिस भेजने वाले से बात कर सकते हैं और मामले को कोर्ट के बाहर ही निपटा सकते हैं. लेकिन यदि आप नोटिस को रिसिव नहीं करते हैं तो इस बात को लेकर सामने वाला कोर्ट में जा सकता है.

लीगल नोटिस का जवाब कैसे दें? (How to reply of legal notice?) 

किसी व्यक्ति ने आपको लीगल नोटिस भेजा है तो आप उसका जवाब दे सकते हैं. लेकिन जवाब देने से पहले आपको किसी अच्छे वकील द्वारा परामर्श कर लेना चाहिए. कई बार इसका जवाब देना अच्छा माना जाता है तो कई बार बुरा भी माना जाता है. अगर आपकी गलती नहीं है तो आप किसी अच्छे वकील से इसका जवाब देने के बारे में परामर्श करें.

लीगल नोटिस आने पर घबराएं बिलकुल भी नहीं. कई लोग ये समझते हैं कि लीगल नोटिस आ गया तो मतलब इसे कोर्ट ने भेजा है. जबकि ऐसा कुछ नहीं होता है. लीगल नोटिस सिर्फ वकील द्वारा भेजा जाता है. कई बार इसे सिर्फ डराने के उद्देश्य के साथ ही भेजा जाता है. ऐसे में घबराएं नहीं.

यह भी पढ़ें :

Live In Relationship : लिव इन रिलेशनशिप को लेकर भारत में क्या है कानून?

Self Defense क्या होता है, सेल्फ डिफेंस कानून कब लागू होता है?

Bankruptcy Law : क्या है दिवालिया कानून, जानिए दिवालिया बनने के फायदे?

error: Content is protected !!