Javelin Throw : भाला फेंक के नियम क्या है?

भाला फेंक (Javelin throw) ओलिम्पिक का एक प्रमुख खेल है. भाले का उपयोग पुराने जमाने में हमारे पूर्वज शिकार करने और खुद की सुरक्षा के लिए करते थे. राजाओं के शासन में सैनिकों को भी सुरक्षा के लिए भाले दिये जाते थे. अब भाला फेंक एक अंतरराष्ट्रीय खेल बन चुका है जिसमें मेडल जीत कर खिलाड़ी अपने देश का नाम रोशन कर रहे हैं.

भाला फेंक (Javelin throw) ओलिम्पिक का एक प्रमुख खेल है. भाले का उपयोग पुराने जमाने में हमारे पूर्वज शिकार करने और खुद की सुरक्षा के लिए करते थे. राजाओं के शासन में सैनिकों को भी सुरक्षा के लिए भाले दिये जाते थे. अब भाला फेंक एक अंतरराष्ट्रीय खेल बन चुका है जिसमें मेडल जीत कर खिलाड़ी अपने देश का नाम रोशन कर रहे हैं.

भाला फेंक प्रतियोगिता (Javelin throw competition)

सम्बंधित लेख - पढ़िए

भाले का उपयोग करना तो हमारे पूर्वजों को पहले से ही आता था. 1900 से 1920 तक तीन तकनीकों से भाला फेंका जाता था. इसे स्वीडन तकनीक कहा जाता था. इस तकनीक में तीन कदम दौड़कर भाला फेंका जाता था. इस समय भाले को पीछे से पकड़कर फेंका जाता था. साल 1920 के बाद भाले को दौड़ते समय कंधे पर रखकर आगे पकड़कर फेंकने की प्रथा शुरू हुई.

भाला फेंकने की सामाग्री तथा मैदान की जानकारी (Javelin throw instrument and ground information)

– पुरुषों के लिए भाले का वजन 800 ग्राम होता है.
– महिलाओं के लिए भाले का वजन 600 ग्राम होता है.
– भाले की लंबाई 2.20 से 2.30 मीटर होती है
– भाला फेंकने का रनवे 30 मीटर से 36.5 मीटर लंबा होता है तथा इसकी चौड़ाई 4 मीटर की होती है.

भाला फेंकने के नियम

– भाला फेंकते समय भाले को कंधे के ऊपर से फेंकना चाहिए.
– भाला छोड़ने से पहले खिलाड़ी को अपनी पीठ पूरी तरह फेंकने वाले वृत्तखंड की ओर नहीं करना चाहिए.
– यदि वृत्तखण्ड तथा सिरों पर बनाई गई रेखाओं को अथवा इनसे आगे की भूमि को खिलाड़ी दौड़ते समय अपने शरीर से स्पर्श कर देता है तो इसे खेल का उल्लंघन माना जाता है.
– भाला फेंक में सही थ्रो तभी माना जाता है जब भाले का नुकीला हिस्सा जमीन पर जाकर गिरे और वो उसमें धंस जाएं.
– भाला फेंक की दूरी धरती पर बनाए गए निशान से वृत्तखण्ड के अंदरूनी किनारे तक चिन्ह से वृत्त की दिशा में मापी जानी चाहिए.
– भाला फेंक में प्रत्येक प्रतिभागी को 3-3 अवसर मिलते हैं. इसमें उनका बेस्ट परफॉर्मेंस ही उनके विजेता बनने का आधार बनता है.
– प्रतिभागी अपने दौड़ मार्ग के बाहर चैक चिन्ह रख सकता है परंतु दौड़ मार्ग पर नहीं.
– भाला फेंकने के दौरान जब तक भाला जमीन को स्पर्श न कर लें, प्रतिभागी को दौड़ मार्ग से बाहर नहीं जाना चाहिए. भाला जमीन पर गिरने के बाद खिलाड़ी को वृत्ताकार तथा इसके सिरों पर चिन्हित रेखों के मध्य खड़े होने की स्थिति से पीछे से बाहर आना चाहिए.
– भाला फेंकते समय भाला टूट जाए तो ये प्रयास विफल माना जाता है.

भाला फेंक में वैसे तो कई दिग्गज खिलाड़ी मौजूद हैं लेकिन भारत की बात की जाए तो वर्तमान में नीरज चोपड़ा काफी फेमस हैं. इनहोने साल 2018 के एशियन गेम्स में भाला फेंक में गोल्ड मेडल जीता था. वहीं अभी तक सबसे लंबी दूरी का भाला फेंकने का रिकॉर्ड जेन जेलेज्नी (Jan Zelezny) के नाम पर है. इनहोने 98.48 मीटर की दूरी तक भला फेंक कर साल 1996 में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था.

यह भी पढ़ें :

Swimming Rules : तैराकी के नियम और प्रकार

Gymnastics : जिम्नास्टिक खेल क्या है, नियम तथा उपकरण?

Archery Rule : तीरंदाजी के नियम क्या है?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!