Highway और Expressway में क्या अंतर है, भारत में कितने ExpressWay हैं?

एक्सप्रेसवे ये नाम (Expressway Kya hai?) हम पिछले कुछ सालों से सुनते या रहे हैं. कुछ सालों पहले तक या तो सड़के होती थी या फिर हाईवे होते थे लेकिन आजकल सड़कों के लिए एक्सप्रेसवे नाम का भी उपयोग किया जाने लगा है.

बुन्देलखंड एक्सप्रेस वे को लेकर काफी चर्चे हैं. कुछ दिनों पहले खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका उद्घाटन किया था और अगले ही कुछ दिनों में इस पूरे Expressway की पोल खुल गई.

एक्सप्रेसवे ये नाम (Expressway Kya hai?) हम पिछले कुछ सालों से सुनते या रहे हैं. कुछ सालों पहले तक या तो सड़के होती थी या फिर हाईवे होते थे लेकिन आजकल सड़कों के लिए एक्सप्रेसवे नाम का भी उपयोग किया जाने लगा है.

एक्सप्रेसवे क्या होता है? हाईवे और एक्सप्रेसवे में क्या अंतर होता है? भारत में कौन-कौन से एक्सप्रेसवे हैं? ये पूरी जानकारी आप इस लेख में पढ़ने वाले हैं.

हाईवे क्या होता है? (What is Highway?) 

सबसे पहले हम बात करते हैं हाइवे (Meaning of highway) की क्योंकि इसका नाम तो हम बचपन से सुनते या रहे हैं. लेकिन फिर भी इसका मतलब नहीं जानते हैं.

हाईवे ऐसी सड़कें होती हैं जो एक शहर से दूसरे शहर को जोड़ती हैं. मतलब इनका नेटवर्क एक के बाद एक चलता रहता है. ये एक शहर से दूसरे शहर को जोड़ेगा, फिर दूसरे से तीसरे को और तीसरे से चौथे को. इस तरह ये आगे बढ़ता रहेगा.

हाईवे की एक खासियत ये होती है कि इस तक पहुँचने के लिए बहुत सारे छोटे मार्ग होते हैं. मतलब हाईवे तक आप आसानी से पहुँच सकते हैं. हाईवे 4 से 6 लाइन के हो सकते हैं.

NH 44

हाईवे की देखभाल का काम NHAI के द्वारा किया जाता है. भारत में हाईवे को राष्ट्रीय राजमार्ग भी कहा जाता है जिनकी कुल लंबाई 1,51,019 KM है. जो पूरे भारत के रोड नेटवर्क का 2.7 प्रतिशत है लेकिन इस पर भारत का 40 प्रतिशत ट्रैफिक रहता है.

भारत का सबसे लंबा राजमार्ग National Highway 44 है. इसकी लंबाई 3508 KM है. ये जम्मू कश्मीर से शुरू होकर पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक से होता हुआ तमिलनाडु पर खत्म होता है.

एक्सप्रेसवे क्या होता है? (What is Expressway?) 

एक्सप्रेसवे भी सड़के ही होती है लेकिन ये हाईवे से थोड़ी अलग होती है. इन्हें एक निश्चित स्थान को जोड़ने के लिए बनाया जाता है जिसका आर्थिक महत्व हो.

एक्सप्रेसवे में 6 से 8 लाइन के रोड होते हैं. इनमें दोनों तरफ के लिए अलग -अलग सड़कें होती हैं. इसके साथ ही इन तक पहुँच आसान नहीं होती है.

Yamuna Expressway

एक्सप्रेसवे में आप प्रमुख जगहों से एंटर हो सकते हैं. इसके बाद काफी लंबी दूरी तय करने के बाद ही आप उससे निकल पाते हैं. मतलब आप एक बार एक्सप्रेसवे पर आ गए तो आप बीच में उससे बाहर नहीं निकल पाते हैं.

एक्सप्रेसवे के दोनों साइड को रेलिंग या दीवारों द्वारा पैक किया जाता है. जिससे बीच में कोई घुस नहीं सकता. इससे न तो जानवर बीच में या पाते हैं और न ही कोई व्यक्ति वाहन लेकर बीच में या पाता है.

एक्सप्रेसवे को मुख्य तौर पर देश के आर्थिक स्थानों को दूसरे शहरों से जोड़ने के लिए बनाया गया है ताकि ट्रांसपोर्ट तेजी से हो सके. एक्सप्रेसवे की मदद से आप कम समय में ज्यादा दूरी तय कर सकते हैं.

एक्सप्रेस वे और हाईवे में क्या अंतर है ? (Expressway and Highway Difference?) 

दोनों के बीच एक खास अंतर पहुँच का होता है. हाईवे तक पहुँचने के आपको कई रास्ते मिल जाते हैं जबकि एक्सप्रेस वे तक पहुँचने के रास्ते आपको 20 से 50 किमी के भीतर मिलते हैं.

इसके अलावा हाईवे 4 से 6 लाइन के होते हैं. वहीं एक्सप्रेसवे 6-8 लाइन के होते हैं. एक्सप्रेसवे ज्यादा लंबी दूरी के लिए नहीं बनाए जाते और न ही ये पूरे भारत में फैले हैं. जबकि हाईवे भारत के हर हिस्से को कवर करते हैं.

भारत में कौन से एक्सप्रेसवे हैं? (List of Expressway in India) 

भारत में एक्सप्रेस वे बनाने का कार्य तेजी से चल रहा है. भारत में एक्सप्रेसवे की कुल लंबाई 2360.5 KM है. भारत में कुल 32 एक्सप्रेसवे हैं जो देश के 13 राज्यों में हैं. सबसे ज्यादा एक्सप्रेसवे वाला प्रदेश उत्तर प्रदेश है जिसमें 8 एक्सप्रेस वे हैं. इनमें से कुछ प्रमुख एक्सप्रेसवे के नाम आप नीचे पढ़ सकते हैं.

Ahmedabad-Vadodara Expressway (93 KM)
Eastern Peripheral Expressway (135 KM)
Delhi Meerut Expressway (96 KM)
Purvanchal Expressway (Lucknow-Ghazipur) 340.8 KM
Agra-Lucknow Expressway (302.2 KM)
Bundelkhand Expressway (Etawah-Chitrakoot) 296 KM
Yamuna Expressway (Greater Noida-Agra) 165.5 KM
Western Peripheral Expressway (Palwal-Sonipat) 135.6 KM
Eastern Peripheral Expressway (Sonipat-Palwal) 135 KM
Delhi-Meerut Expressway (96 KM)
Mumbai-Pune Expressway (94.5 KM)
Ahmedabad-Vadodara Expressway (93.1 KM)

इसके अलावा भी कई सारे एक्सप्रेसवे देश में है और कई बन रहे हैं. आने वाले कुछ सालों में देश में एक बड़ा एक्सप्रेसवे का नेटवर्क होगा. जिसके कारण देश में ट्रांसपोर्ट की गति बढ़ेगी और आने-जाने में कम समय लगेगा.

यह भी पढ़ें :

भारत में राष्ट्रपति निर्वाचन कैसे होता है, महाभियोग प्रस्ताव क्या है?

Monkeypox क्या है, भारत पर इसका कितना असर होगा, लक्षण और इलाज क्या है?

Ayushman Bharat Golden Card : फ्री इलाज के लिए कैसे बनवाएं आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड?

error: Content is protected !!
सोशल मीडिया से पैसा कमाने के 4 तरीके सावन सोमवार में भगवान शिव को अर्पित न करें ये चीज, भोले हो जाएंगे नाराज सावन सोमवार में करें इन मंत्रों का जाप, शिवजी चमकाएंगे आपका भाग्य सावन सोमवार को करें ये उपाय, दूर होगी आर्थिक तंगी सावन माह में भूलकर भी न करें इन चीजों का सेवन