दिवाली 2018: राशि अनुसार करें धनतेरस का पूजन व खरीदी

धनतेरस 5 नवंबर को है और इसी दिन से दिवाली की भी शुरुआत हो जाती है. कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को यह पर्व मनाया जाता है. धनतेरस से कई पौराणिक कथाएं भी जुड़ी हुई हैं. इसी दिन समुद्र मंथन से भगवान धनवंतरि अमृत कलश के साथ प्रकट हुए थे.

2 530

धनतेरस 5 नवंबर को है और इसी दिन से दिवाली की भी शुरुआत हो जाती है. कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को यह पर्व मनाया जाता है. धनतेरस से कई पौराणिक कथाएं भी जुड़ी हुई हैं. इसी दिन समुद्र मंथन से भगवान धनवंतरि अमृत कलश के साथ प्रकट हुए थे.

जाने कब करें धनतेरस का पूजन 

सम्बंधित लेख - पढ़िए

5 नवंबर, सोमवार को धनतेरस का शुभ और श्रेष्ठतम मुहूर्त शाम 5.31 से 8.04 बजे तक रहेगा. शाम 6.10 बजे से रात 8.09 बजे तक दूसरा मुहूर्त है. धनतेरस पूजन के लिए 6.10 से 8.04 बजे तक रहेगा. धनतेरस को गणेश, लक्ष्मी, ब्रह्मा, विष्णु और महेश की पूजा है.

कैसे करें धनतेरस की पूजा

मिट्टी के हाथी और भगवान धन्वंतरि का चित्र स्थापित करें और चांदी या तांबे की आचमनी से जल का आचमन करें. पहले भगवान गणेश का ध्यान और पूजन करें और इसके बाद भगवान धन्वंतरि का ध्यान करें. साथ ही तिजोरी के समाने 13 दीपक जलाकर कुबेर का भी पूजन करना चाहिए. 

भगवान धन्वंतरि का ध्यान करते हुए उक्त मंत्र का जप करें.

“देवान कृशान सुरसंघनि पीडितांगान, दृष्ट्वा दयालुर मृतं विपरीतु कामः
पायोधि मंथन विधौ प्रकटौ भवधो, धन्वन्तरि: स भगवानवतात सदा नः
ॐ धन्वन्तरि देवाय नमः ध्यानार्थे अक्षत पुष्पाणि समर्पयामि”

कुबेर का पूजन करते समय साधक निम्न मंत्र का जप करे.

‘यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन-धान्य अधिपतये 
धन-धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा ।’

लंबी आयु का वर देते हैं धनवंतरि

इस दिन भगवन धन्वंतरि का पूजन भी किया जाता है. लंबी और स्वस्थ्य आयु पाने के लिए भगवान धनवंतरि का पूजन किया जाता है. कहा जाता है कि धनतेरस के दिन जो भी बर्तन खरीदा जाता है उस पात्र की क्षमता से 13 गुना धन और ऐश्वर्य व्यक्ति को प्राप्त होता है.

क्या खरीदें और क्या नहीं 

पारिवारिक शांति, व्यापार उन्नति के लिए माता लक्ष्मी व श्री गणेश जी की चांदी की प्रतिमाएं खरीदकर लाएं और उनका पूजन करें. धनतेरस पर कुछ वस्तुओं का खरीदना बेहद शुभफल दायक माना गया है. जैसे इस दिन आप झाडू और सूप खरीदकर उनका पूजन विशेष रूप से करेंइसके साथ ही इस दिन सूखे धनिया के बीज खरीद कर घर में रखना भी परिवार की धन संपदा में वृ्द्धि करता है. साथ ही नमक का पैकेट खरीदें और उसी से भोजन बनाएं.

धनिया का बीज खरीदकर लाएं और उसे घर में रखें, इससे परिवार की धन संपदा में वृ्द्धि होगी. धनतेरस पर कौड़ी खरीदना भी बेहद सुखदायक है. कौड़ी खरीदकर उन्हें केसर से रंगकर पीले कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखें. शाम के समय घर में तिल के तेल या घी के दीपक को प्रज्ज्वलित करें.

धनतेरस के दिन अपने घर की बाथरूम का दरवाजा बंद रखें. अधिक समय तक स्नानघर का दरवाजा खोले रखना शुभदायक नहीं है. साथ ही इस दिन नुकीली या धारदार वस्तुओं जैसे कैंची, चाकू, हंसिया और तलवार आदि को खरीदनें से बचें

(नोट: यह लेख आपकी जागरूकतासतर्कता व समझ बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. पूजन करते वक्त अपने पंडित या ज्योतिषी से सलाह ज़रूर लें.)

2 Comments
  1. […] राशि अनुसार करें धनतेरस का पूजन व खरीद… […]

  2. […] राशि अनुसार करें धनतेरस का पूजन व खरीद… […]

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!