जानलेवा है तंबाकू, छोड़ें बीड़ी-चिलम और गुटखे की आदत

तम्बाकू से शरीर पर होने वाले दुष्प्रभावों को जानते हुए भी न जाने कितने लोग निरंतर किसी न किसी रूप में इसका सेवन करते हैं. हमारे देश के साथ ही दुनिया भर में बीड़ी, सिगरेट, चिलम गुटका और हुक्का आदि के रूप में तम्बाकू की लत के शिकार हैं. 

0 275

तम्बाकू से शरीर पर होने वाले दुष्प्रभावों को जानते हुए भी न जाने कितने लोग निरंतर किसी न किसी रूप में इसका सेवन करते हैं. हमारे देश के साथ ही दुनिया भर में बीड़ी, सिगरेट, चिलम गुटका और हुक्का आदि के रूप में तम्बाकू की लत के शिकार हैं. 

कैसे छूटेगी नशे की लत 

सम्बंधित लेख - पढ़िए

तम्बाकू से होने वाले रोगों के बारे में बताकर लोगों को नशे की लत से बाहर निकालने का प्रयास सरकार के साथ ही कई निजी संस्थाएं भी कर रही हैं. इस सबके बावजूद भी देश में तम्बाकू सेवन करने वालों की संख्या में कोई खास गिरावट नहीं आई है. तमाम प्रयासों के बाद भी तम्बाकू के नशे को जड़ से उखाड़ फैकने में पूर्ण सफलता हाथ नहीं लग रही है. 

नशे में फूंक दिए जाते हैं करोड़ों रुपए

किसी भी प्रकार का नशा करने वाले व्यक्ति के मन में कभी न कभी इसे छोड़ने का विचार तो ज़रूर आता है. लेकिन सवाल यह है कि कितने लोग अपने इस विचार को पूरा करने में सफलता प्राप्त कर पातें हैं.

दुनिया भर में तम्बाकू से होने वाले विभिन्न नशों के शिकार करीब 1 अरब लोग प्रति वर्ष करोड़ों रुपए इसकी भेंट चढ़ा देते हैं. आश्चर्यजनक है कि विकासशील देशों की तुलना में तम्बाकू उत्पादों का सेवन करने वालों की संख्या विकसित देशों में अधिक है.

कैंसर जैसे रोगों का बढ़ जाता है खतरा

किसी न किसी रूप में तम्बाकू सेवन करने से होने वाले रोगों के कारण दुनिया में प्रति वर्ष करीब 70 लाख लोग दम तोड़ देते हैं. धूम्रपान से मनुष्य के शरीर में मुख्य रूप से निकोटीन, कार्बन मोनोआक्साइड व टार जैसे पदार्थ जमा हो जाते हैं और इनसे फेफड़ों का कैंसर व दमा जैसी बीमारियां होने का खतरा पैदा हो जाता है. इसके साथ ही गुटखा व खैनी से गले और मुहं का कैंसर होने की आशंका काफी हद तक बढ़ जाती है.

आत्मविश्वास के साथ छोड़े नशा

तम्बाकू सेवन से होने वाले खतरों को जानने के बाद भी लोग नशे की लत को आसानी से नहीं छोड़ पाते हैं. क्या वाकई तम्बाकू सेवन को त्यागना इतना दुस्कर कार्य है? नशे की लत को छोड़ना कठिन हो सकता है पर असंभव कतई नहीं. ऐसे में नशे रूपी इस दैत्य को परास्त करने के पहलुओं पर हमें विचार करना होगा. तम्बाकू छोड़ने के लिए सबसे पहले आपको अपने अंदर आत्मविश्वास पैदा करना होगा. 

संकल्प ले करें शुरुआत

नशे की लत छोड़ने की शुरुआत में हफ्ते में एक दिन नशा न करने के संकल्प से करें और धीरे धीरे दिनों की संख्या को बढाते जाएं इस कार्य में अपने परिजनों व मित्रों का सहयोग लें.

इस दौरान कम व हल्का भोजन लें ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं. नशे की तलब महसूस होने पर मुंह धोकर लौंग, इलायची और सौंफ आदि का सेवन करें.

(नोट : यह लेख आपकी जागरूकतासतर्कता और समझ बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि किसी बीमारी के पेशेंट हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें.)

error: Content is protected !!