Stamp duty in India : स्टाम्प ड्यूटी क्या है? स्टाम्प शुल्क और रजिस्ट्रेशन चार्ज कैसे लगता है?

जब आप घर लेते हैं तो उस पर मालिकाना हक के लिए आपको उसे स्थानीय नगर निगम में दर्ज करवाना होता है, जिसके लिए आपको स्टाम्प ड्यूटी देना होती है. यह स्टाम्प ड्यूटी आपको भारतीय अधिनियम 1899 के अनुभाग-3 के तहत देना होती है.

2 1,488

अपने घर का सपना किसका नहीं होता. तेजी से बढ़ती आबादी और जॉब (Job search) के लिए महानगरों में पलायन कर रही युवा आबादी के सामने अपना घर लेना एक सपना है तो वहीं सरकार के लिए देश के हर नागरिक को सस्ता घर उपलब्ध कराना एक चुनौती है. भारत में एक बड़ी आबादी अब भी है जिसके पास अपना घर नहीं है.

यह आबादी विशेष रूप से महानगरों में है. केंद्र की पहले टर्म की (Modi Government) मोदी सरकार ने भी 2022 तक देश के हर व्यक्ति को घर देने का वादा किया है. प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Yojana – PMAY Housing For All – Awas Yojana) जैसी सफल योजनाएं इसे पूरा करने में सफल भी हुई है.

बहरहाल, आज भी कई लोगों के पास खुद का घर नहीं है ऐसे में बहुत से लोग घर खरीदने (Home loan) की प्लानिंग कर रहे होंगे. लेकिन घर खरीदने से पहले आप ये जान लें की घर खरीदने पर आपको सिर्फ घर की कीमत ही नहीं देनी होती बल्कि और भी कई तरह के शुल्क आपको देना होते हैं. स्टांप ड्यूटी (Stamp duty) भी इन्हीं में से एक है.

क्या होती है स्टाम्प ड्यूटी? (Stamp duty meaning)
जब आप घर लेते हैं तो उस पर मालिकाना हक के लिए आपको उसे स्थानीय नगर निगम में दर्ज करवाना होता है, जिसके लिए आपको स्टाम्प ड्यूटी देना होती है. यह स्टाम्प ड्यूटी आपको भारतीय अधिनियम 1899 के अनुभाग-3 के तहत देना होती है.

स्टाम्प ड्यूटी कितनी लगती है? (Stamp duty calculator)
अगर आप किसी मकान या प्लॉट को खरीद रहे हैं तो स्टाम्प ड्यूटी की सीमा पंजीकरण करवाने के समय घर/संपत्ति की कीमत पर आधारित होती है. ये स्टांप ड्यूटी और भी कई चीजों पर निर्भर करती है जैसे आप किस जगह मकान ले रहे हैं, मकान के निर्माण की नवीनता, इसलिए मकान लेने से पहले आप इस पहलू पर जरूर गौर करें.

स्टाम्प शुल्क क्या है? (Stamp duty and registration charge)
जब आप घर खरीदते हैं तो कानूनी दस्तावेजों को कोर्ट में सबूत के रूप में पेश किया जाता है. आपको टैक्स का भुगतान भी करना होता है. टैक्स का भुगतान कानूनी दस्तावेजों के निसपादन से पहले या निष्पादन के दिन या उसके बाद एक कार्य दिवस के अंदर करना होता है.

खरीददार और विक्रेता दोनों ही स्टाम्प ड्यूटी का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होते हैं. स्टाम्प ड्यूटी के अधूरे भुगतान पर हर महीने 2 प्रतिशत जुर्माना लगाया जाता है. यह जुर्माना मूल राशि के 200 प्रतिशत तक भी पहुंच सकता है.

स्टाम्प पेपर का निष्पादन या खत्म करना (Stamp paper closure)
जब भी स्टांप पेपर खरीदे जाते हैं वो खरीददार या विक्रेता के नाम पर खरीदे जाते हैं और अगर स्टांप ड्यूटी का भुगतान सही समय पर किया जाए तो वे 6 महीने के लिए वैध होते हैं. दस्तावेजों को निष्पादन करने वाले व्यक्ति को चिपकी हुई टिकट पर अपना नाम और साइन करके उसे रद्द करना होता है. अगर ऐसा नहीं हुआ तो दस्तावेज़ को प्रतिबंधित माना जाएगा.

अगर आप अपनी जमीन किसी और के नाम कर रहे हैं या फिर उसे किसी और को बेच रहे हैं तो बाजार मूल्य के अनुसार आपको या खरीददार को उसकी स्टाम्प ड्यूटी चुकानी होती है. स्टाम्प ड्यूटी प्रक्रिया में आपको घर के निर्माण की भी पूरी जानकारी देना होती है.

नोट: यह लेख आपकी जानकारी बढ़ाने के लिए साझा किया गया है. यदि आप किसी तरह की प्रॉपर्टी खरीद रहे या बेच रहे हैं स्टाम्प ड्यूटी के बारे में जानकारी के लिए किसी प्रॉपर्टी ब्रोकर या वकील से संपर्क करें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!