Dilip Sanghavi Biography : कभी दवाई बेचते थे, बना दी देश की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी

दिलीप संघवी का सफर फर्श से अर्श तक का है. उन्होने काफी छोटे लेवल से अपने बिजनेस की शुरुवात की थी जिसे आज वे एक बड़े मुकाम पर ले जा चुके हैं. आप खुद सोचिए जहां दूसरी बड़ी फार्मा कंपनियों के मालिकों ने खुद ने दवाइयों से संबंहित कोर्स कर रखे हैं वहीं एक कॉमर्स ग्रेजुएट के लिए भारत की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी बनाना एक सपने जैसा है.

अमीरी के मामले में कुछ परिवारों के नाम बेहद फेमस हैं. जैसे टाटा, बिड़ला, अंबानी, मित्तल आदि. लेकिन क्या आपने कभी दिलीप संघवी का नाम सुना है. दिलीप संघवी (Dilip Sanghvi Biography) का नाम बहुत कम लोगों ने सुना है लेकिन दिलीप संघवी वो व्यक्ति है जो कुछ सालों पहले तक देश के सबसे अमीर व्यक्ति हुआ करते थे. इस लेख में आप दिलीप संघवी के बारे में पढ़ेंगे जिन्होंने काफी छोटे लेवल से शुरुआत करके एक बड़ी फार्मा कंपनी बना दी.

दिलीप संघवी जीवनी | Dilip Sanghavi Biography Hindi

दिलीप संघवी का जन्म 1 अक्तूबर 1955 को गुजरात के अमरेली में हुआ था. उनके पिता शांतिलाल संघवी तथा माता कुमुद संघवी थी. वे एक जैन परिवार से थे और उन्होने अपना पूरा बचपन अपने परिवार के साथ कलकत्ता में बिताया था. उनके ग्रेजुएशन की बात करें तो उन्होने कलकत्ता यूनिवर्सिटी से कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया है.

दिलीप संघवी का बिजनेस | Dilip Sanghavi Business Name

दिलीप संघवी की लाइफ के बारे में तो आप जान ही गए. चलिये अब बात करते हैं कि दिलीप संघवी बिजनेस में कैसे आए? कैसे एक कॉमर्स स्टूडेंट ने देश की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी बना डाली.

उनके बिजनेस में आने की शुरुआत होती है उनके बचपन से. उनके पिता एक दवाई डीलर थे. पढ़ाई के बाद दिलीप उनके काम में मदद किया करते थे. दिलीप शुरू से ही चाहते थे कि वे दवाई का बिजनेस करे. इसके लिए वे अपने पिता से 10 हजार रुपये लेकर साल 1983 में मुंबई आ गए. यहाँ आने के बाद कुछ समय मनोचिकित्सा की दवाई की मार्केटिंग की और अच्छे से दवाइयों के मार्केट को समझा.

इसके बाद वे वापस गुजरात चले गए जहां उन्होने एक छोटी सी दवाई बनाने की फैक्ट्री शुरू की. इस फैक्ट्री का नाम Sun Pharmaceutical रखा गया. शुरुवात में इस कंपनी में काम करने वाले केवल दो लोग थे और ये 5 तरह की दवाइयाँ बनाते थे. फिर धीरे-धीरे अपने प्रॉडक्ट को बढ़ाना शुरू किया और चार साल के अंदर ही पूरे देश में अपना मार्केट बना लिया. आज के समय में पूरे देश में सन फार्मा की दवाइयाँ बिकती है.

दिलीप संघवी की लोकप्रियता | Dilip Sanghavi Popularity 

दिलीप संघवी भारत में लोकप्रिय तो हैं लेकिन उन्हें उतने लोग नहीं जानते जितने लोग टाटा, बिरला और अंबानी को जानते हैं.

– दिलीप संघवी देश के अमीर लोगों की लिस्ट में शामिल है.
– साल 2016 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म श्री से नवाजा था.
– साल 2017 में इंडिया टूडे मैगजीन ने उन्हें भारत के सबसे पावरफुल लोगों की लिस्ट में 8वे स्थान पर रखा था.
– Forbes के मुताबिक साल 2021 में दिलीप संघवी भारत के 9वे अमीर व्यक्ति हैं. उनकी कुल संपत्ति 12 बिलियन डॉलर है.
– साल 2018 में आरबीआई ने दिलीप संघवी को 21 मेम्बर की एक कमेटी में एपाइंट किया था.
– दिलीप संघवी आईआईटी बॉम्बे के बोर्ड ऑफ गवर्नर के चेयरमेन हैं.

दिलीप संघवी का सफर फर्श से अर्श तक का है. उन्होने काफी छोटे लेवल से अपने बिजनेस की शुरुवात की थी जिसे आज वे एक बड़े मुकाम पर ले जा चुके हैं. आप खुद सोचिए जहां दूसरी बड़ी फार्मा कंपनियों के मालिकों ने खुद ने दवाइयों से संबंहित कोर्स कर रखे हैं वहीं एक कॉमर्स ग्रेजुएट के लिए भारत की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी बनाना एक सपने जैसा है.

यह भी पढ़ें :

Dhirubhai Ambani Biography : 10वी पास लड़का कैसे बना देश का सबसे अमीर आदमी?

HDFC Case Study: कंपनी के गोडाउन से शुरू हुआ HDFC, कैसे बना देश का सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक?

Laxmi Mittal Biography: चुरू का लड़का कैसे बना दुनिया में स्टील किंग?

error: Content is protected !!