Dhanteras : धनतेरस पर धन प्राप्ति के उपाय क्या है?

दिवाली (diwali festival) से दो दिन पहले धनतेरस की पूजा (dhanteras pooja) की जाती है. धनतेरस के पीछे मान्यता है की इस दिन कुबेर देवता की पूजा (kuber puja) करने से व्यक्ति के घर में धन की कमी नहीं रहती है. धन की कमी को दूर करने और घर में सुख शांति के लिए धनतेरस की पूजा की जाती है. वैसे धनतेरस के दिन आपको पूजा के दौरान कुछ खास उपाय भी करने चाहिए. जिनसे आप धन प्राप्ति कर सकें

1 28

दिवाली (diwali festival) से दो दिन पहले धनतेरस की पूजा (dhanteras pooja) की जाती है. धनतेरस के पीछे मान्यता है की इस दिन कुबेर देवता की पूजा (kuber puja) करने से व्यक्ति के घर में धन की कमी नहीं रहती है. धन की कमी को दूर करने और घर में सुख शांति के लिए धनतेरस की पूजा की जाती है. वैसे धनतेरस के दिन आपको पूजा के दौरान कुछ खास उपाय भी करने चाहिए. जिनसे आप धन प्राप्ति कर सकें.

धनतेरस पर धन प्राप्ति के उपाय (dhan prapti ke upaay)

– धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी जी की पूजा करना चाहिए क्योंकि समुद्र मंथन के समय ये अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे.
– शाम के समय अपने घर, दुकान को दीपों से सजाना चाहिए.
– धनतेरस के दिन आपको धातु की मूर्ति या बर्तन और झाड़ू जरूर खरीदना चाहिए.
– धनतेरस की पूजा शाम को होती है. पूजा के समय मां लक्ष्मी को गुलाब के फूलों की माला जरूर पहनाए और उन्हें सफ़ेद मिठाई का भोग लगाएं.
– धनतेरस के दिन आपको हल जुती हुई मिट्टी को दूध में भिगोकर उसमें सेमर की शाखा डालकर अपने शरीर पर तीन बार फेरना चाहिए.
– धनतेरस के दिन आपको धनिये के बीज खरीद कर घर में रखना चाहिए और कुछ बीज गमले में भी डालना चाहिए. इससे परिवार में धन सम्पदा में वृद्धि होती है.
– धनतेरस के दिन कुबेर देवता की पूजा करें. आप निम्न प्रार्थना बोलते हुए भगवान कुबेर पर फूल चढ़ाएं.

“श्रेष्ठ विमान पर विराजमान, गरुणमणि के समान आभावाले, दोनों हाथों में गदा एवं वर धारण करने वाले, सिर पर श्रेष्ठ मुकुट से अलंकृत तुंदिल शरीर वाले, भगवान शिव के प्रिय मित्रा, निधीश्वर कुबेर का मैं ध्यान करता हूं.”

– इसके बाद इस मंत्र को पढ़कर चन्दन, धूप, दीप, नैवेद्य से पूजन करें

यक्षाय कुबेराय वैश्रवनाय धन धान्य अधिपतये
धन धन्य समृद्धि मे देही दापय स्वाहा.

– इसके बाद कपूर से कुबेर देवता की आरती करें. और कुबेर देवता को धन रखने वाली जगह पर स्थापित कर दें.
– इसके बाद मृत्यु के देवता यमराज के लिए चार मुंह वाला एक दिया घर के मुख्य द्वार पर दाहिने तरफ लगाएं.
– इसके बाद गंध, पुष्प, अक्षत से पूजन करके दक्षिण दिशा की ओर मुह करके यम से निम्न प्रार्थना करना चाहिए.

मृत्युना दंडपाशभयाम कालें श्यामया सह
त्रयोदशयां दीपदानात सूर्यजः प्रयतां मां.

यम की पूजा करते वक़्त इस बात का ध्यान रखें की आपको यम की पूजा और कुबेर की पूजा अलग-अलग करनी है. जब आप यम पूजा करेंगे तो आपको एक दीप अलग से बनाना है और उस दीप को यम मानकर उसकी पूजा करनी है. इसके बाद उसके घर के मुख्य द्वार पर रखना है.

यह भी पढ़ें :

Dhanteras Shopping : धनतेरस पर क्या खरीदें और क्या न खरीदें?

Dhanteras : धनतेरस की पूजा विधि, कथा और यमराज पूजा का महत्व

दीपावली में वास्तु के अनुसार करें घर की दीवारों पर पेंट

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!