तहसीलदार कैसे बनें, तहसीलदार बनने के लिए परीक्षा?

तहसीलदार (tehsildar) एक सरकारी पद (government post) है. तहसीलदार एक तहसील के स्तर का अधिकारी होता है जिसका काम उस तहसील के अंतर्गत आने वाले राजस्व और जमीन की जानकारी का होता है. एक तहसीलदार की रैंक एक थाना प्रभारी के बराबर होती है और ये एक अधिकारी लेवल की पोस्ट है जिसमें खूब मान-सम्मान मिलता है.

देश के कई युवा सरकारी नौकरी (get government job) का ख्वाब देखते हैं और उनके ख्वाबों में कई सारी पोस्ट होती हैं. जैसे कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर, पटवारी आदि. तहसीलदार भी इन्हीं पोस्ट में से एक ही जिसे पाने का खवाब कई युवा संजोए हुए हैं. कई युवा अपनी पढ़ाई के दौरान सोचते हैं की वो तहसीलदार (Tahsildar) बनेंगे लेकिन तहसीलदार कैसे बनें? (How to become tehsildar) ये उन्हें पता नहीं होता है. कई लोग ये भी नहीं जानते की तहसीलदार बनने के लिए कौन सी परीक्षा (exam for tehsildar) देनी होती है.

तहसीलदार क्या होता है? (What is tehsildar?) 

तहसीलदार (tehsildar) एक सरकारी पद (government post) है इस बात को तो आप जान ही गए होंगे. तहसीलदार एक तहसील के स्तर का अधिकारी होता है जिसका काम उस तहसील के अंतर्गत आने वाले राजस्व और जमीन की जानकारी का होता है. एक तहसीलदार की रैंक एक थाना प्रभारी के बराबर होती है और ये एक अधिकारी लेवल की पोस्ट है जिसमें खूब मान-सम्मान मिलता है.

तहसीलदार बनने के लिए परीक्षा (Exam for tehsildar post) 

तहसीलदार (tehsildar) बनने के लिए आपको आपके राज्य की पीसीएस (State PCS) परीक्षाओं में हिस्सा लेना होगा. जैसे मध्य प्रदेश में एमपीपीएससी (MPPSC), उत्तर प्रदेश में यूपीपीएससी (UPPSC). इन परीक्षाओं में हिस्सा लेकर आप तहसीलदार (tehsildar) बन सकते हैं. तहसीलदार बनने के लिए आपको उस लेवल के मार्क्स लाना भी जरूरी हैं जो तहसीलदार की पोस्ट के लिए जरूरी होते हैं. अगर आपके मार्क्स कम आते हैं तो आप उससे कम लेवल की पोस्ट के हकदार होते हैं.

पीसीएस एक्जाम तीन चरणों में होती है. (Tehsildar exam pattern) 

प्रारम्भिक परीक्षा
मुख्य परीक्षा
इंटरव्यू

तहसीलदार कैसे बनें? (How to become tehsildar?) 

तहसीलदार बनने के लिए सबसे पहले तो आपको अपना ग्रेजुएशन पूरा करना होगा. क्योंकि इसमें ग्रेजुएशन पूरा करना जरूरी है. तहसीलदार बनने की तैयारी आप ग्रेजुएशन के दौरान कर सकते हैं. इसके लिए आपको आपके राज्य के पीसीएस एक्जाम का सिलेबस जरूर देखना चाहिए. आप चाहे तो इसकी पढ़ाई घर पर या ऑनलाइन कर सकते हैं या तो आप किसी कोचिंग के माध्यम से कर सकते हैं.

नायब तहसीलदार और तहसीलदार में क्या अंतर है? (Naib tehsildar and tehsildar difference) 

नायब तहसीलदार और तहसीलदार में काफी अंतर होता है. जब आप शुरु में प्रतियोगी परीक्षा के द्वारा तहसीलदार बनाए जाते हैं तो आपकी नियुक्ति नायब तहसीलदार के रूप में होती है. नायब तहसीदार को आप असिस्टेंट तहसीलदार के रूप में भी समझ सकते हैं. इन्हें कुछ साल की ट्रेनिंग के बाद पदोन्नति मिलती है और इन्हें तहसीलदार बनाया जाता है. नायब तहसीलदार तहसीलदार के अधीन कार्यरत होते हैं उनके सहयोग के लिए.

तहसीलदार के कार्य (Work of tehsildar) 

– जमीन संबंधी विवादों को सुनना और समस्या का निदान करना.
– पटवारी द्वारा किए गए कार्यों का पर्यवेक्षण करना.
– यह सुनिश्चित करना की भूमि अभिलेख ठीक से रखा गया है.
– भूमि राजस्व का उचित संग्रह सुनिश्चित करना.
– यह सुनिश्चित करना की किसान आसानी से अपना रिकॉर्ड प्राप्त कर सके.
– छात्रों के लिए जाति प्रमाण पत्र, आय व निवास प्रमाण पत्र पर हस्ताक्षर करना.

तहसीलदार का पद एक ज़िम्मेदारी वाला पद होता है. इसलिए इसे पाना आसन नहीं है. तहसीलदार बनने के लिए आप जिस प्रतियोगी परीक्षा में हिस्सा लेंगे उसके लिए आपको लगन के साथ पढ़ाई करने की जरूरत होती है. आप पूरी लगन और ध्यान के साथ इसके सिलेबस के अनुसार पढ़ाई करें. तब जाकर ही आप तहसीलदार बन सकते हैं.

यह भी पढ़ें :

Forest Officer : वन अधिकारी कैसे बनें, परीक्षा पैटर्न और सैलरी की जानकारी?

Forensic expert : फोरेंसिक एक्सपर्ट कैसे बनें, कोर्स और सैलरी की जानकारी

Job in PSU Companies: पीएसयू कंपनियों में नौकरी कैसे पाएं?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!