NDRF का Full Form, NDRF कैसे Join करें, जानिए Recruitment Process?

NDRF Kaise Join Kare? NDRF Eligibility kya hai? NDRF Selection Process Kya hai? इस तरह के सवालों के जवाब आपको यहाँ मिलेंगे.

भारत एक ऐसा देश है जो तीनों ओर से समुद्र से घिरा है. ऐसा होने पर भारत में प्राकृतिक आपदाओं का आना-जाना लगा रहता है. कभी तेज बारिश, कभी भूकंप, कभी बाढ़ तो कभी सूखा. इस तरह की प्राकृतिक आपदा होने पर भारत में एक खास फोर्स मदद के लिए हमेशा तैयार रहती है जिसे NDRF कहा जाता है. अगर आप NDRF के साथ जुड़कर काम करना चाहते हैं और देश की सेवा करना चाहते हैं तो आपको NDRF के बारे में जरूर जानना चाहिए.

NDRF Full Form 

NDRF का पूरा नाम National Disaster Response Force (NDRF) है. इसे हिन्दी में ‘राष्ट्रीय आपदा मोचन बल’ कहा जाता है.  

NDRF क्या है? (What is NDRF in Hindi?) 

देश में जब भी कोई प्राकृतिक आपदा आती है तो लोगों को मुसीबत से निकालने के लिए एक ऐसी फोर्स की जरूरत होती है जो कठिन हालातों में भी उन्हें मुसीबत से निकाल सके. जैसे बाढ़ में फंसे लोगों को निकालना, भूकंप आने पर लोगों को बचाना, आग लगने पर लोगों को बचाना. इस तरह की आपदा में एनडीआरएफ़ एक प्रमुख भूमिका निभाती है.

एनडीआरएफ़ एक राष्ट्रीय स्तर का सुरक्षा पुलिस बल है (About NDRF) जो प्राकृतिक आपदा के समय अथवा आपातकाल के दौरान लोगों की मदद करता है, उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले जाते हैं तथा राहत सामाग्री देते हैं.

एनडीआरएफ़ का गठन की बात 90 के दशक में चली थी. (History of NDRF) सरकार को विचार आया कि भारत में ऐसी कोई फोर्स होनी चाहिए जो लोगों को प्राकृतिक आपदा आने पर एक सुरक्षित स्थान पर लेकर जा सके और उन्हें  उनका जीवन सामान्य करने में मदद कर सके. 

भारत में पहले काफी सारी प्राकृतिक आपदा आ चुकी है. जैसे 1999 में ओड़ीसा में चक्रवात आया था, 2001 में गुजरात में भूकंप आया था, 2004 में सुनामी आई थी. इन सभी के बाद सरकार ने एनडीआरएफ़ को बनाने का ऐलान किया और अंत में साल 2005 में एनडीआरएफ़ की स्थापना की गई. इसमें हर जवान को हर तरह की मुसीबत से निपटने की ट्रेनिंग दी जाती है. ये फोर्स सीधे प्रधानमंत्री के अधीन काम करती है. 

एनडीआरएफ़ कैसे काम करती है? (How NDRF Works?) 

एनडीआरएफ़ सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करती है. प्रधानमंत्री के आदेश पर ही इन्हें किसी भी प्राकृतिक आपदा में फंसे लोगों को बचाने की पावर मिलती है. 

एनडीआरएफ़ में पहले से जवानों को प्राकृतिक आपदाओं से निपटने के लिए तैयार किया जाता है. उन्हें ट्रेनिंग में ही बताया जाता है कि कैसे वे हर तरह की आपदा से लोगों को निकाल सकते हैं और उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले जा सकते हैं. आपने देखा होगा कि जब कहीं बाढ़ आती है तो हेलीकॉपटर द्वारा लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया जाता है. ये काम एनडीआरएफ़ के द्वारा किया जाता है. इसी तरहा एनडीआरएफ़ कार्य करता है. 

एनडीआरएफ़ कैसे जॉइन करें? (How to join NDRF?) 

एनडीआरएफ़ को जॉइन करने के कई रास्ते हैं लेकिन यदि आप एनडीआरएफ़ में एक सैनिक के रूप में कार्य करना चाहते हैं तो आपको पहले देश की किसी सेना में सम्मिलित होना पड़ेगा. आप इसमे सीधे तरीके से भर्ती नहीं हो सकते. इसके लिए पहले आपको एसएसबी, आईटीबीपी या सीआरपीएफ़ (SSB, ITBP, CRPF) में से किसी एक फोर्स में शामिल होना पड़ेगा और कम से कम 3 से 4 वर्ष तक अपनी सेवाएँ देनी होगी. फोर्स में रहते हुए ही आप एनडीआरएफ़ में आवेदन कर सकते हैं.

आवेदन करने के बाद आपका चयन किया जाता है. आपको विशेष ट्रेनिंग दी जाती है जिससे आप मुसीबत में फंसे लोगों की मदद कर सके. ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद आपके मापदंड के हिसाब से और आपकी योग्यता के हिसाब से आपको एनडीआरएफ़ में शामिल कर दिया जाता है और आपको कार्य पर लगा दिया जाता है. 

एनडीआरएफ़ में कुल 12 बटालियन हैं इनमें से आपकी नौकरी किसी भी बटालियन में लग सकती है. अगर आप प्राकृतिक आपदाओं में लोगों को राहत देने का कार्य करना चाहते हैं, लोगों को मुसीबत से निकालना चाहते हैं तो आपको एनडीआरएफ़ को जरुर जॉइन करना चाहिए.

यह भी पढ़ें :

CRPF से BSF तक जानिए कौन सी सेना करती है किस बॉर्डर की सुरक्षा, क्या हैं काम?

CRPF Join Kaise Kare – सीआरपीएफ़ में नौकरी कैसे पाएँ, जानिए क्या हैं करियर ऑप्शन?

UPSC Assistant Commandant 2022 : असिस्टेंट कमांडेंट क्या होता है, कैसे बनें सेंट्रल फोर्स में सहायक कमांडेंट?

error: Content is protected !!