जमीन का पट्टा क्या होता है, क्या पट्टे वाली जमीन खरीद सकते हैं?

पट्टे वाली जमीन (Patte ki jameen) जिसे लेकर हमेशा ये शंका बनी रहती है कि इसे खरीदना चाहिए या नहीं. अगर आप भी पट्टे वाली जमीन को लेकर कन्फ्युज हैं और समझ नहीं पा रहे हैं कि पट्टे वाली जमीन को खरीदें या न खरीदें तो आपके सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे.

जब हम कोई जमीन खरीदते हैं तो हमारे सामने तीन तरह की जमीन आती है. एक होती है रजिस्ट्री वाली जमीन जिस पर हम आँख बंद करके भरोसा कर सकते हैं, दूसरी होती है नोटरी वाली जमीन जिस पर भी भरोसा किया जा सकता है और तीसरी होती है पट्टे वाली जमीन (Patte ki jameen) जिसे लेकर हमेशा ये शंका बनी रहती है कि इसे खरीदना चाहिए या नहीं. अगर आप भी पट्टे वाली जमीन को लेकर कन्फ्युज हैं और समझ नहीं पा रहे हैं कि पट्टे वाली जमीन को खरीदें या न खरीदें तो आपके सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे.

जमीन का पट्टा क्या होता है?

जमीन का पट्टा क्या होता है (Jameen ka patta kya hai?) या फिर पट्टे वाली जमीन का मतलब क्या होता है? इस तरह के सवाल कई बार हमारे दिमाग में घूमते रहते हैं. दरअसल पट्टे वाली जमीन वो जमीन होती है जिस पर किसी व्यक्ति विशेष का कोई अधिकार नहीं होता है. अतः इस पर सरकार का अधिकार होता है. सरकार किसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए ये जमीन गरीब किसानों को पट्टे पर दे देती है. लेकिन इसका ये मतलब बिलकुल भी नहीं बनाता कि जमीन के मालिक वो किसान हो गए.

पट्टे वाली जमीन को आप किराए की जमीन समझ सकते हैं जिस पर आपका मालिकाना हक नहीं है लेकिन आप उसका उपयोग कर सकते हैं. लेकिन इसमें भी एक शर्त होती है. आपको जिस उद्देश्य के लिए पट्टे वाली जमीन मिली है आपको उसी उद्देश्य के लिए उसका उपयोग करना होगा. यदि आप किसी और उद्देश्य के लिए जमीन का इस्तेमाल करते हैं तो आपसे वो जमीन ले ली जाती है. इसके अलावा ये जमीन निश्चित अवधि के लिए दी जाती है.

जमीन का पट्टा किसे मिलता है?

पट्टे वाली जमीन का आपने नाम तो सुना होगा लेकिन ये नहीं पता होगा कि सरकार किसे पट्टे पर जमीन देती है. दरअसल सरकार गरीब और पिछड़े किसानों को पट्टे पर जमीन देती है. हर राज्य के अनुसार इसके मापदंड अलग-अलग हो सकते हैं. कुछ राज्यों में एससी, एसटी या ओबीसी वालों को पट्टा दिया जाता है तो कुछ राज्यों में आय के आधार पर या भूमि के आधार पर पट्टा दे दिया जाता है.

किस तरह की जमीन के लिए पट्टा मिलता है?

कई तरह की जमीन के लिए सरकार पट्टा देती है. लेकिन सरकार का मकसद सिर्फ रहने के लिए और खेती करने के लिए जगह देना होता है. आमतौर पर सरकार कृषि करने के लिए, मतस्य पालन के लिए, वृक्षारोपण के लिए, तथा रहने के लिए पट्टा देती है. लेकिन जिस उद्देश्य के लिए सरकार पट्टा दे रही है उस उद्देश्य की पूर्ति न होने पर जमीन और पट्टा दोनों वापस ले लिया जाता है. जैसे आपको खेती के लिए सरकार ने 2 एकड़ जमीन दी और आपने उस पर कॉलोनी काट दी तो सरकार आपसे वो जमीन वापस ले सकती है.

क्या पट्टे की जमीन को बेचा जा सकता है?

कई लोगों का सोचना होता है कि क्या पट्टे की जमीन को बेचा जा सकता है. दरअसल पट्टे वाली जमीन पर पट्टा धारक का मालिकाना हक नहीं होता है इसलिए वह उसे बेच नहीं सकता. वह बस उसका उपयोग कर सकता है. कोई भी व्यक्ति किसी जमीन को तब तक नहीं बेच सकता जब तक उसके पास या तो रजिस्ट्री या फिर नोटरी न हो. आमतौर पर पट्टे की जमीन को खरीदना और बेचना गैर कानूनी माना जाएगा.

जमीन का पट्टा का कैसे मिलता है?

आप जिस भी उद्देश्य के लिए पट्टा लेना चाहते हैं आप उसके पात्र होना चाहिए. जैसे आप रहने के लिए भूमि का पट्टा लेना चाहते हैं तो आपके पास पहले से कोई भूखंड नहीं होना चाहिए, इसके अलावा भी कई योग्यताएँ पूरी करना होती है. पट्टा देने की प्रक्रिया आमतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में ही होती है. इसलिए आपको ग्राम पंचायत में ही इसके लिए आवेदन करना होता है. यहाँ आप किसी खाली जमीन का किसी उद्देश्य के लिए पट्टा ले सकते हैं और उसे उपयोग कर सकते हैं.

भूमि पट्टा अधिनियम (Gram Panchayat Patta Niyam) 

सरकार ने भूमि के पट्टे के लिए कुछ नियम बनाए हैं जिन्हें जान लेना जरूरी है.

– जिन लोगों ने 2003 तक झोपड़ी पर निर्माण किया है तो उन्हें नियम 157 (2) के तहत 300 वर्ग गज तक का भूखंड निशुल्क नियमित किया जाएगा. ये भूखंड महिला के नाम पर होगा.

– जिन किसानों ने पट्टे वाली भूमि को किराए पर खेती करने के लिए लिया है वे फसल की क्षति होने पर मुआवजे का लाभ उठा सकते हैं.

– इस अधिनियम के तहत भूमि मालिकों को किराएदार किसानों को बिना किसी डर के भूमि को पट्टे पर देने की इजाजत है.

– पंजाब, हरियाणा, गुजरात और महाराष्ट्र के राज्यों में किराएदारों को जमीन की अवधि खत्म होने के बाद मालिक से जमीन खरीदने का अधिकार है.

जमीन का पट्टा क्या होता है? पट्टे वाली जमीन क्या होती है? पट्टे वाली जमीन को खरीदना सही है या नहीं? इन सभी बातों के बारे में आप जान गए होंगे. पट्टे वाली जमीन पर किसी का भी मालिकाना हक नहीं है. ये सिर्फ आपके उपयोग के लिए आपको दी जाती है. इसलिए पट्टे वाली जमीन को खरीदने से पहले एक बार ठंडे दिमाग से सोचे और फिर ही उसमें पैसा निवेश करें.

यह भी पढ़ें :

SBI Land purchase scheme से किसान कैसे खरीदें जमीन?

PMKVY : खेती करने के लिए सरकार देती है 50 हजार रुपये, जानिए कैसे मिलेगा लाभ

PM Kisan Status: पीएम किसान योजना स्टेटस ऑनलाइन कैसे चेक करें?

error: Content is protected !!