कोरोना चौथी लहर : भारत में बढ़ी कोरोना की रफ्तार, नए वेरिएंट से बचाव के लिए रखें सावधानी

भारत के तीन राज्यों में कोरोना संक्रमण का असर तेजी से हो रहा है. बीते सात दिनों में मामलों में तेज बढ़ोत्तरी हुई है. बीते हफ्ते में दिल्ली में ही 2307 केस मिले हैं.

भारत में कोरोना की चौथी लहर के संकेत तेजी से मिल रहे हैं. भारत की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण (Covid in India) के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं. पिछले दो से तीन दिनों में भारत में कोरोना मामलों में तेजी से उछाल आया है. संक्रमण दर तेजी से बढ़ी है. इसका सबसे ज्यादा असर भारत की राजधानी दिल्ली में देखने को मिला है.

भारत में कोरोना संक्रमण (Covid Cases in India)

भारत में कोरोना की दर बहुत तेजी से बढ़ने लगी है. शनिवार को ये आंकड़ा 1150 केस पर था लेकिन रविवार को ये आंकड़ा 2183 केस पर पहुँच गया है. कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा का भी तेजी से बढ़ गया है. रविवार को देश में 214 लोगों की मौत का रिकॉर्ड दर्ज किया गया है. इसमें 213 मौत केरल में दर्ज हुई है तथा 1 मौत उत्तर प्रदेश में दर्ज की गई है. भारत में कुल एक्टिव मामलों की बात करें तो ये 12340 हैं.

तीन राज्यों में सर्वाधिक असर (Top infected state in India)

भारत के तीन राज्यों में कोरोना संक्रमण का असर तेजी से हो रहा है. बीते सात दिनों में मामलों में तेज बढ़ोत्तरी हुई है. बीते हफ्ते में दिल्ली में ही 2307 केस मिले हैं. इस हफ्ते के कुल केस में एक चौथाई यानि 25 प्रतिशत केस दिल्ली से रहे हैं. हरियाणा में 514 केस तथा उत्तर प्रदेश में 224 केस सामने आए हैं.

कोरोना का बच्चों पर असर (Corona effects on Children)

कोरोना का असर बच्चों पर भी तेजी से देखने को मिला है. गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर में संक्रमित स्कूली छात्र और शिक्षक की संख्या 162 पहुँच गयी है. दोनों जिलों के 25 से भी ज्यादा स्कूलों में कोरोना फैल चुका है. बच्चों पर कोरोना के तेज असर देखते हुए स्कूलों में छुट्टी की घोषणा भी की गई है. इसके साथ ही कई राज्यों में सरकार ने मास्क अनिवार्य किया है.

कोरोना के नए वेरिएंट (Corona New Verient in Hindi)

भारत में फिलहाल कोरोना किस वेरिएंट के कारण तेजी से फैल रहा है इस बात की पुष्टि करने वाली कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है. लेकिन वर्तमान में भारत और दुनियाभर में ओमिक्रोन के चार सब वेरिएंट सक्रिय हैं. इनमें BA.1, BA.2, BA.3 और BA.4 शामिल है. भारत में सबसे ज्यादा सक्रिय BA1 और BA2 है. वहीं पिछले वर्ष भारत में खतरनाक डेल्टा वेरिएंट सक्रिय था.

कोरोना से सावधानी (Corona Precaution Tips)

कोरोना के मामलों में तेजी से उछाल देखा गया है और इस बार ये अपनी चपेट में बच्चों को भी ले रहा है. इसलिए इससे सावधानी बरतना बेहद जरूरी है. भारत में अधिकतर लोगों को वैक्सीन लग चुकी है जिससे उन्हें इसका खतरा कम है लेकिन अभी भी सावधानी बरतने की जरूरत सभी को है. आपको घर के अंदर और घर के बाहर कोरोना से सावधानी रखनी चाहिए.

घर में कोरोना से कैसे बचाव करें? (Corona Precaution in Home)

घर हो या बाहर कोरोना से आपको हर जगह पर सावधानी रखनी चाहिए. घर में आपको इन सावधानियों के साथ रहना चाहिए.

– बाहर से लाई गई हर चीज को डिसइनफेक्टेड करने के बाद इस्तेमाल करें.
– सब्जियों और फलों को हमेशा अच्छी तरह दो-तीन बार धोकर इस्तेमाल करें.
– आपके कपड़े, चादर, पर्दे आदि सभी को साफ एवं गर्म पानी से धोएं एवं तेज धूप में सुखाएं. इससे उनमे मौजूद बैक्टीरिया मर जाएंगे.
– घर में यदि कोई कोरोना से संक्रमित व्यक्ति है या फिर लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो उसे एक अलग कमरे में रखें एवं उसके खान-पान का अलग इंतजाम करें.
– इम्यूनिटी को बढ़ाने वाली चीजों का सेवन करें. जैसे मुलेठी, तुलसी, दूध-हल्दी, एलोवेरा आदि. (Ayurvedic Kadha : काढ़ा कैसे बनाएं?)

घर के बाहर कैसे कोरोना से बचें? (Corona Precaution Tips at Outside)

घर के बाहर भी कोरोना से बचा जा सकते हैं. बस इसके लिए कुछ सावधानियाँ बरतें.

– कोरोना से बचाव के लिए घर के बाहर मास्क का प्रयोग जरूर करें. इससे कोरोना संक्रमण का खतरा 90 प्रतिशत तक कम हो जाता है.
– घर से बाहर सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करें. भीड़-भाड़ वाली जगह पर जाने से बचें.
– आपमें कोरोना के सामान्य लक्षण दिखाई दें तो घर से बाहर न जाएँ और दूसरे व्यक्ति में नजर आए तों उससे दूरी रखें.
– कुछ भी खाने-पीने से पहले हैंडवाश से हाथ को साफ करें. इसमें 65 प्रतिशत एल्कोहल जरूर होना चाहिए.
– घर से बाहर अपने चेहरे, नाक या आँख या शरीर के किसी अन्य अंग को छूने से पहले सेनीटाइजर का उपयोग जरूर करें.
– खाँसते या छींकते समय अपने चेहरे पर रुमाल, टिश्यू या कपड़े का उपयोग जरूर करें.

घर से बाहर अपने साथ मास्क और सेनीटाइजर जरूर रखें. ये दोनों काफी हद तक आपको कोरोना संक्रमित होने से बचा सकते हैं.

प्रिकॉशन डोज़ क्या है? (What is Precaution Dose?)

भारत में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए प्रिकॉशन डोज़ को शुरू कर दिया गया है. प्रिकॉशन डोज़ कोरोना वैक्सीन का तीसरा डोज़ है जिसे बूस्टर डोज़ भी कहा जा रहा है. इसे 18 वर्ष से अधिक उम्र के लिए शुरू तो किया गया है लेकिन ये फ्री नहीं है. आपको इसे लगवाने के लिए पैसे देने होंगे. आप प्राइवेट सेंटर पर प्रिकॉशन डोज़ लगवा सकते हैं और कोरोना होने का खतरा कम कर सकते हैं.

भारत में कोरोना तेजी से फ़ेल रहा है और चौथी लहर की ओर संकेत दे रहा है. ऐसे में अपना बचाव आपके ही हाथ में है. आप कोरोना को लेकर सावधानी बरतें जिससे आप इससे संक्रमित होने से बचे रहे.

यह भी पढ़ें :

Corona Symptoms: WHO, NHS और CDC ने जारी की कोरोना के 32 लक्षणों की लिस्ट, 3 लक्षण हैं गंभीर

Omicron virus in India: क्या कोरोना की तीसरी लहर को रोका जा सकता है?

Omicron India: कितना खतरनाक है कोरोना का ओमिक्रॉन वैरिएंट?

error: Content is protected !!