Project Report क्या है, प्रोजेक्ट रिपोर्ट कैसे बनाएँ?

जब आप कोई नया बिजनेस शुरू करते हैं या फिर पुराने बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए लोन लेने के लिए बैंक जाते हैं तब आपको प्रोजेक्ट रिपोर्ट (Project Report) की जरूरत पड़ती है. प्रोजेक्ट रिपोर्ट को हम निवेश से संबन्धित एक महत्वपूर्ण दस्तावेज़ कह सकते हैं.

जब आप एक नया बिजनेस शुरू करते हैं तो काफी सारी चीजें आपके लिए नई होती है. जैसे आप बैंक में लोन लेने गए तो बैंक मैनेजर ने बोला जाओ पहले प्रोजेक्ट रिपोर्ट (Project Report) लेकर आओ. अब कई लोगों को ये नहीं पता कि प्रोजेक्ट रिपोर्ट क्या होती है? (What is project report?) प्रोजेक्ट रिपोर्ट कैसे बनाई जाती है? तो प्रोजेक्ट रिपोर्ट से जुड़े इन सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे.

प्रोजेक्ट रिपोर्ट क्या होती है? (Project Report in Hindi)

जब आप कोई नया बिजनेस शुरू करते हैं या फिर पुराने बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए लोन लेने के लिए बैंक जाते हैं तब आपको प्रोजेक्ट रिपोर्ट (Project Report) की जरूरत पड़ती है. प्रोजेक्ट रिपोर्ट को हम निवेश से संबन्धित एक महत्वपूर्ण दस्तावेज़ कह सकते हैं. इसमें आपके द्वारा शुरू किए जाने वाले बिजनेस का महत्वपूर्ण डाटा होता है जिसकी मदद से ये मूल्यांकन किया जाता है कि इसमें कितना पैसा लगेगा और आपका बिजनेस किस तरह से काम करेगा.

प्रोजेक्ट रिपोर्ट में आर्थिक, तकनीकी, वित्तीय, मैनेजमेंट और प्रोडक्शन से संबंधित सभी पहलुओं पर जानकारी होती है. किसी भी बिजनेस की प्रोजेक्ट रिपोर्ट से आप उस बिजनेस के बारे में काफी कुछ जान सकते हैं. इन सभी जानकारी को प्रोजेक्ट रिपोर्ट में दिया जाता है जिसे पढ़कर बैंक लोन देने का फैसला करती है.

प्रोजेक्ट रिपोर्ट की क्या जरूरत है? (Requirement of Project Report)

किसी भी बिजनेस के लिए प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाना बेहद ही आवश्यक व उपयोगी कार्य है. इसके माध्यम से आपको कई तरह के लाभ मिल सकते हैं. जैसे भूमि का आवंटन, लोन की स्वीकृति, सबसिडी, कच्चे माल पर अनुदान, बुनियादी सुविधाएं आदि मिल सकती है. इसके अलावा प्रोजेक्ट रिपोर्ट में बिजनेस को स्थापित करने में आने वाले खर्च एवं कुछ वर्षों में इससे होने वाली कमाई की जानकारी भी सम्मिलित होती है. इसकी मदद से लोन लेना काफी आसान हो जाता है.

प्रोजेक्ट रिपोर्ट की विशेषता (Features of Project Report)

प्रोजेक्ट रिपोर्ट की कई सारी खासियत है.

– इसमें किसी बिजनेस से जुड़ी जरूरी जानकारी होती है.
– प्रोजेक्ट रिपोर्ट के माध्यम से बिजनेस की आर्थिक लागत का मूल्यांकन सही तरीके से किया जा सकता है.
– प्रोजेक्ट रिपोर्ट किसी बिजनेस और उसकी गतिविधि का एक लिखित दस्तावेज़ होता है.
– प्रोजेक्ट रिपोर्ट में लागत के अलावा खर्चों को भी शामिल किया जाता है जिससे ये अनुमान लगाया जाता है कि मुनाफा कितना हो सकता है.
– प्रोजेक्ट रिपोर्ट उधमी के लिए मार्गदर्शक के रूप में काम करती है.

प्रोजेक्ट रिपोर्ट कैसे बनाएं? (How to make project report?)

प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने के लिए आपके पास आपके बिजनेस से जुड़ी सभी जानकारी होना चाहिए. जैसे आप बिजनेस को शुरू करने के लिए क्या-क्या मशीनरी लेने वाले हैं, कितने लोगों को काम पर रखने वाले हैं, उनकी सैलरी क्या होगी, कितना कच्चा माल खरीदा, उसके दाम क्या होंगे, कितना उत्पादन करेंगे, कितना सेल करेंगे, कितनी लागत आएगी और कितना मुनाफा कमाएंगे इस तरह की सभी जानकारी आपके पास है तो आप प्रोजेक्ट रिपोर्ट को तैयार कर सकते हैं.

प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाना ज्यादा मुश्किल काम नहीं है लेकिन इसके लिए आपके पास सभी जानकारी का होना जरूरी है. प्रोजेक्ट रिपोर्ट कैसे बनाएँ? इसके लिए आप इस विडियो को देख सकते हैं. इसमें काफी विस्तार से प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने के बारे में बताया गया है.

आपको लोन की जरूरत हो या न हो लेकिन आपको कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले प्रोजेक्ट रिपोर्ट जरूर बनानी चाहिए. प्रोजेक्ट रिपोर्ट से आपको पता लगता है कि बिजनेस शुरू करने के लिए आप कितना पैसा कहाँ-कहाँ खर्च कर रहे हैं. बाद में चाहे तो आप इस प्रोजेक्ट रिपोर्ट को देखकर अपने खर्च में कटौती कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें :

Business Loan Process: बिजनेस लोन की प्रक्रिया और जरूरी दस्तावेज़

Books for Business: बिजनेस की सीख देती हैं ये 5 किताबें

GeM registration : भारत सरकार के साथ जुड़े और करें ऑनलाइन बिजनेस

error: Content is protected !!