सम एश्योर्ड और सम इंश्योर्ड क्या है, बीमा खरीदने से पहले जरूर जाने?

जब आप बीमा करवाते हैं तो उसमें मिलने वाली राशि के लिए दो टर्म 'सम एश्योर्ड' (Sum assured) और 'सम इंश्योर्ड' (Sum Insured) का उपयोग किया जाता है. कोई भी बीमा पॉलिसी लेने से पहले आपको इन दोनों टर्म के बारे में जान लेना चाहिए.

भविष्य में होने वाले नुकसान से बचने के लिए कई लोग बीमा करवाते हैं. तो कई लोग भविष्य में एक अच्छी राशि इकट्ठी हो सके इसलिए बीमा करवाते हैं. जब आप बीमा करवाते हैं तो उसमें मिलने वाली राशि के लिए दो टर्म ‘सम एश्योर्ड’ (Sum assured) और ‘सम इंश्योर्ड’ (Sum Insured) का उपयोग किया जाता है. कोई भी बीमा पॉलिसी लेने से पहले आपको इन दोनों टर्म के बारे में जान लेना चाहिए.

सम इंश्योर्ड क्या होता है? (Sum Insured in Hindi) 

कई सारी Insurance policy में आपने Sum insured शब्द को सुना होगा. सम इंश्योर्ड का मतलब (Sum Insured meaning in Hindi) बीमाकृत राशि होता है. इसका इस्तेमाल हैल्थ बीमा में होता है. जिसमें आप किसी बीमारी के इलाज के लिए बीमा करवाते हैं. इसमें आपके इलाज के लिए जो राशि तय की जाती है उसे सम इंश्योर्ड कहते हैं.

मान लेते हैं कि (Sum Insured Example) किसी व्यक्ति ने life insurance लिया है. जो 1 लाख के नुकसान की पूर्ति करता है. ऐसे में अगर वो व्यक्ति बीमार होकर हॉस्पिटल में भर्ती होता है और उसके इलाज का खर्च 2 लाख रुपये आता है तो उस खर्च में से 1 लाख रुपये बीमा कंपनी की ओर से दिये जाएंगे. ये 1 लाख रुपये ही उस व्यक्ति के लिए सम इंश्योर्ड कहलाएगा.

Endowment Policy : बंदोबस्ती बीमा क्या होता है, इसके क्या फायदे हैं?

सम इंश्योर्ड का मतलब ऐसी राशि से है जो क्षतिपूर्ति से जुड़ा हुआ है. मतलब इसमें इंश्योरेंश लेने वाले व्यक्ति के नुकसान को कवर किया जाता है. ध्यान रहे आपको जितना सम इंश्योर्ड बताया जाएगा बीमा कंपनी सिर्फ उतना ही नुकसान कवर करेगी. बाकी नुकसान आपको अपनी जेब से कवर करना होगा.

सम एश्योर्ड क्या होता है? (Sum Assured in Hindi)

सम एश्योर्ड का मतलब (Sum Assured meaning in Hindi)  बीमित राशि होता है. जब भी आप कोई बीमा पॉलिसी लेते हैं जो लाइफ इन्शुरेंस या हैल्थ इन्शुरेंस नहीं होता है उसमें जो राशि परिपक्व (Mature) होने पर बताई जाती है उसे बीमित राशि या सम एश्योर्ड कहा जाता है.

सम एश्योर्ड एक तरह की गारंटी वाली राशि होती है, जो पॉलिसीधारक को ही मिलती है. इसे कवरेज राशि के तौर पर भी जाना जाता है. ये ऐसी राशि होती है जो निश्चित होती है और मेच्योर होने पर ही मिलती है.

LIC बीमा पॉलिसी पर लोन कैसे मिलता है, ऑनलाइन आवेदन की प्रोसेस ?

इसे समझने के लिए मान लेते हैं कि (Sum Assured example)  किसी व्यक्ति ने एक बीमा पॉलिसी ली है जिसमें सम एश्योर्ड का जिक्र है. इसमें आपको एक निश्चित प्रीमियम समय-समय पर देना होगा. सम एश्योर्ड राशि आपको बीमा शुरू करते वक़्त ही बता दी जाएगी. जब आपकी पॉलिसी मेच्योर हो जाएगी. तब आपको सम एश्योर्ड यानि बीमित रकम दे दी जाएगी.

बीमा पॉलिसी में सम एश्योर्ड में आपके द्वारा जमा धन और उस पर मिलने वाले बोनस दोनों को जोड़ा जाता है. मतलब आपको जो ब्याज मिल रहा है और जो आप प्रीमियम भर रहे हैं वो दोनों जुड़ जाएंगे और वो बीमित राशि कहलाएगी.

बीमा पॉलिसी को खरीदते वक़्त इन दोनों शब्दों को जरूर चेक करें. आप जो पॉलिसी खरीद रहे हैं उस पर आपको सम इंश्योर्ड मिल रहा है या फिर सम एश्योर्ड इसकी जानकारी जरूर लें.

यह भी पढ़ें :

LIC जीवन शिरोमणि पॉलिसी, एक करोड़ का रिटर्न और बीमारियों मे लाभ

Lic anmol jeevan 2 term plan: 14 रुपए में मिलेगी 15 लाख की बीमा पॉलिसी

LIC की मनी बैक पॉलिसी: मनी बैक पॉलिसी क्या होती है, मनी बैक पॉलिसी की जानकारी

error: Content is protected !!